यूपी में क्वॉरेंटाइन पूरा कर चुके 288 भारतीय और विदेशी बंदियों के लिए इन जिलों में बनीं 34 अस्थाई जेल
Allahabad News in Hindi

यूपी में क्वॉरेंटाइन पूरा कर चुके 288 भारतीय और विदेशी बंदियों के लिए इन जिलों में बनीं 34 अस्थाई जेल
डीजी जेल आनंद कुमार

डीजी जेल आनंद कुमार (DG Jail Anand Kumar) के मुताबिक अस्थाई जेलों में जेल मैनुअल पूरी तरह से लागू करवाया जा रहा है. अस्थायी जेलों की बाहरी सुरक्षा की जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन की है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अपना क्वॉरेंटाइन (Quarantine) पूरा कर चुके देशी, विदेशी बंदियों के लिए कुल 34 अस्थाई जेल (Temporary Jails) बनाई गई हैं. यहां 156 विदेशी जमातियों के साथ कुल 288 आरोपी रखे गए हैं. इनमें सबसे ज्यादा 65 विदेशी जमाती सहारनपुर जेल में बंद हैं. विदेशी जमातियों पर टूरिस्ट वीज़ा पर जमाती गतिविधियों में शामिल होने और लॉक डाउन तोड़ने और एपेडेमिक एक्ट उल्लंघन का आरोप है.

यूपी के डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि अस्थायी जेलों में बंद विदेशी जमातियों में बांग्लादेश के 34, इंडोनेशिया के 41, किर्गिस्तान के 23, सूडान के 14, थाईलैंड के 13, मलेशिया और तजाकिस्तान के दो-दो, नेपाल, सऊदी अरब, फ्रांस, फिलिस्तीन, सीरिया, माली, मोरक्को के एक-एक आरोपी हैं. प्रत्येक अस्थायी जेल में एक डिप्टी जेलर की तैनाती इंचार्ज के तौर पर की गई है. कोर्ट के आदेश पर सभी आरोपी न्यायिक हिरासत में अस्थाई जेलों में रखे गए हैं.

इन जिलों में स्थापित की गई हैं अस्थााई जेल



डीजी जेल के मुताबिक अस्थाई जेलों में जेल मैनुअल पूरी तरह से लागू करवाया जा रहा है. अस्थायी जेलों की बाहरी सुरक्षा की जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन की है. डीजी जेल ने बताया लखनऊ, बिजनौर, जौनपुर, सुल्तानपुर, सहारनपुर, भदोही, बुलंदशहर, प्रयागराज, सीतापुर, मुरादाबाद, वाराणसी, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, कानपुर नगर, मिर्जापुर, आगरा, मथुरा, सोनभद्र, उन्नाव, खीरी, हरदोई, फतेहपुर, प्रतापगढ़, हमीरपुर, शाहजहांपुर, बदायूं, रामपुर, बहराइच, बाराबंकी, मेरठ, बागपत, पीलीभीत, कन्नौज, बांदा में अस्थाई जेलें बनाई गई हैं. डीजी जेल ने बताया कि सबसे ज्यादा 65 विदेशी जमाती सहारनपुर जेल में बंद हैं.



बंदियों पर ये हैं आरोप

विदेशी जमातियों पर टूरिस्ट वीज़ा पर भारत आकर जमाती गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है. इसके अलावा लॉक डाउन तोड़ने और एपिडेमिक एक्ट का भी आरोप है. वहीं भारतीय बंदियों पर लॉक डाउन तोड़ने, पुलिस पर हमले, एपेडेमिक एक्ट जैसे आरोप हैं. ये सभी आरोपी कोरोना संदिग्ध इलाकों से पकड़े गए हैं, लिहाज़ा इन्हें सामान्य जेलों से अलग अस्थायी जेलों में रखा गया है.

ये भी पढ़ें:

अलीगढ़: मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर भी कोरोना पॉजिटिव, पूरा परिवार हुआ क्वारंटाइन

Agra COVID-19 Update: लैब टेक्निशियन भी संक्रमित, कुल संख्या हुई 335
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading