आम आदमी पार्टी ने जारी किए जातिगत सर्वे के नतीजे, योगी सरकार को लेकर क्‍या रही लोगों की राय?

आप नेता संजय सिंह (File Photo)

आप नेता संजय सिंह (File Photo)

आम आदमी पार्टी (Aam Admi Party) के दिल्ली के तिमारपुर से विधायक दिलीप पांडेय ने बताया कि सर्वे अब बन्द किया जा चुका है, क्योंकि यूपी पुलिस ने सर्वे एजेंसी के लोगों की धर पकड़ शुरु कर दी है.

  • Share this:

लखनऊ. आम आदमी पार्टी (AAP) के यूपी प्रभारी संजय सिंह (Sanjay Singh) ने जातिगत सर्वे (Caste Based Survey) के नतीजे जारी कर दिये हैं. पार्टी ने बताया कि 68 हजार लोगों को फोन करके ये सर्वे किया गया था. सर्वे के नतीजों में यह दावा किया गया है कि 63 फीसदी लोगों ने यह माना है कि योगी सरकार (Yogi Government) जातिवादी है, जबकि 28 फीसदी लोग ऐसा नहीं मानते हैं. 9 फीसदी लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी कोई राय जाहिर नहीं की है.

बता दें कि सर्वे में यह सवाल पूछा गया था कि क्या योगी सरकार में सिर्फ ठाकुर समाज के लोगों के काम हो रहे हैं? हां या न में जवाब देना था. आम आदमी पार्टी के अनुसार, 63 फीसदी ने 'हां' में जबकि सिर्फ 28 फीसदी लोगों ने 'न' में जवाब दिया है. ये ध्यान देने वाली बात है कि सर्वे में यह नहीं पूछा गया था कि योगी सरकार जातिवादी है या नहीं, बल्कि सवाल ये था कि क्या योगी सरकार में ठाकुर समाज के लोगों के ही काम हो रहे हैं?

पुलिस के दबाव में बंद हुआ सर्वे

आम आदमी पार्टी के दिल्ली के तिमारपुर से विधायक दिलीप पांडेय ने बताया कि सर्वे अब बन्द किया जा चुका है, क्योंकि यूपी पुलिस ने एजेंसी के लोगों की धर पकड़ शुरू कर दी है. उन्होंने बताया कि यूपी के लगभग हर हिस्से में लोगों को फोन किये गये हैं, जिससे कोई भी क्षेत्र छूटे नहीं. उन्होंने कहा कि यदि पुलिस ने इसे रोका न होता तो वे इसे और भी बड़े स्केल पर करना चाह रहे थे.
एफआईआर दर्ज होने के बाद AAP ने ली थी जिम्मेदारी

दिलीप पांडेय से जब यह पूछा गया कि सर्वे के दौरान लोगों को क्यों नहीं बताया जा रहा था कि यह आम आदमी पार्टी का सर्वे है? उन्होंने कहा कि इससे सर्वे की सुचिता प्रभावित हो जाती. लोग पक्षपाती हो जाते और सही जवाब नहीं निकल पाता. उन्होंने दावा किया है कि सर्वे में जिन भी नंबरों से जवाब दिया गया है, उसे गोपनीय रखा जायेगा. जाहिर है इस सर्वे को आधार बनाकर आम आदमी पार्टी यूपी में अब जमकर राजनीति करेगी. अब देखना दिलचस्प होगा कि सत्ताधारी भाजपा इस सर्वे का जवाब किस रूप में देती है. इस मामले में लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में आईटी एक्ट के तहत अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है. इसी क्रम में यूपी पुलिस ने जयपुर में भी छापेमारी की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज