अब्दुल्ला आजम की याचिका पर SC में सुनवाई टली, विधायकी रद्द होने के HC के फैसले को दी है चुनौती

 2 जन्म प्रमाणपत्र के मामले में इन दिनों अब्दुल्ला आजम, उनके पिता आजम खान और मां भी जेल में हैं. (PTI)
2 जन्म प्रमाणपत्र के मामले में इन दिनों अब्दुल्ला आजम, उनके पिता आजम खान और मां भी जेल में हैं. (PTI)

इसी साल जनवरी में अब्दुल्ला आजम खान (Abdullah Azam Khan) को सुप्रीम कोर्ट से फिलहाल कोई राहत नहीं मिली. कोर्ट ने निर्वाचन रद्द करने के हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया था. हाईकोर्ट के याचिकाकर्ता को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 9:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान (Azam Khan) के बेटे और रामपुर की स्वार सीट से विधायक अब्दुल्ला आजम खान (Abdullah Azam Khan) की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टल गई है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा कि वो इस मामले में अब अगले हफ्ते सुनवाई करेगा. कुछ दिन पहले ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अब्दुल्ला आजम की विधायकी सदस्यता रद्द की है. हाईकोर्ट ने रामपुर की स्वार विधानसभा सीट पर भी चुनाव कराने का आदेश जारी किया है. हाईकोर्ट के इसी फैसले को अब्दुल्ला आजम ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. फिलहाल 2 जन्म प्रमाणपत्र के मामले में इन दिनों अब्दुल्ला आजम, उनके पिता आजम खान और मां भी जेल में हैं.

इसी साल जनवरी में अब्दुल्ला को सुप्रीम कोर्ट से फिलहाल कोई राहत नहीं मिली. कोर्ट ने निर्वाचन रद्द करने के हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया था. हाईकोर्ट के याचिकाकर्ता को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है. हाईकोर्ट ने यह कहते हुए अब्दुल्ला आजम खान की विधायकी रद्द कर कर दी थी कि साल 2017 में उनकी उम्र चुनाव लड़ने के लिए कम थी.

रामपुर: आजम खान के जौहर ट्रस्ट को 100 रुपये जुर्माना, जानिए क्या है पूरा मामला



चुनाव के वक्त न्यूनतम निर्धारित 25 साल की उम्र नहीं होने की वजह से उनका निर्वाचन रद्द किया था. हाईकोर्ट के फैसले के बाद अब्दुल्ला आजम की विधायकी चली गई. आजम व उनके परिवार को इस फैसले से बड़ा झटका लगा था.


बसपा प्रत्याशी की याचिका पर स्वार सीट पर चुनाव के आदेश, बड़ा सवाल- क्या EC जाएगा सुप्रीम कोर्ट?

वहीं, अब्दुल्ला के खिलाफ बसपा के उम्मीदवार रहे नवाब काजिम अली ने चुनाव आयोग में अर्जी दाखिल की थी. अर्जी में अब्दुल्ला पर फर्जी दस्तावेजों की मदद से चुनाव लड़ने का आरोप लगाया था. फिलहाल याचिकाकर्ता को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज