• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP Crime News: रक्तदान के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई, डॉक्टर समेत 2 गिरफ्तार

UP Crime News: रक्तदान के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई, डॉक्टर समेत 2 गिरफ्तार

UP News: ब्लड डोनेशन के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई

UP News: ब्लड डोनेशन के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई

Blood Donation: अमित नागर के मुखबिर की सूचना पर लखनऊ -आगरा एक्सप्रेसवे पर डॉ अभय की इकोस्पोर्ट कार को एसटीएफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम रोका था. तलाशी में उसकी कार से ही कुछ ब्लड यूनिट और ब्लड डोनेशन के फर्जी कागजात बरामद हुए थे.

  • Share this:

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में मिलावटी खून की सप्लाई करने वाले दो आरोपी पकड़े गए हैं आरोपियों के पास से भारी मात्रा में ब्लड पैकेट बरामद हुए हैं. एसटीएफ से मिली जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार सप्लायर में एक डॉक्टर भी शामिल है.आरोपियों के पास 100 यूनिट ब्लड, 21 ब्लड बैंकों के फर्जी कागजात और रक्तदान शिविर के दो बैनर भी बरामद हुए है. गिरफ्तार आरोपी डॉ अभय प्रताप सिंह यूपी यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेडिकल साइंसेज सैफई इटावा में असिस्टेंट प्रोफेसर है.

इस गैंग का खुलासा करने वाले यूपी एसटीएफ के डीएसपी अमित नागर ने बताया कि पंजाब, राजस्थान, हरियाणा आदि राज्यों में ब्लड डोनेट करने के लिए लोग आसानी से से तैयार हो जाते हैं. इसी चलन का फायदा उठाते हुए डॉक्टर अभय प्रताप सिंह ने इन राज्यों में ब्लड डोनेशन कैंप लगाने शुरू कर दिए. कैंप में इकट्ठे किए गए ब्लड यूनिट को फर्जी कागजातों के जरिए यह गिरोह यूपी लाता था और सेलाइन वाटर मिलाकर इस ब्लड को दोगुना कर लखनऊ और आसपास के जिलों में बेचा जाता था. एसटीएफ के डीएसपी अमित नागर ने बताया की आमतौर पर 1200 से 1600 रुपए तक मिलने वाले एक यूनिट ब्लड यह गिरोह दलालों के जरिए 4 से 6000 रुपए में बेचा करता था.

यह भी पढ़ें- UP News: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने दी बधाई, कहीं ये बात

कार से मिले फर्जी कागजात

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर डॉ अभय की इकोस्पोर्ट कार को एसटीएफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम रोका. तलाशी में उसकी कार से ब्लड यूनिट और ब्लड डोनेशन के फर्जी कागजात बरामद हुए थे. शुरुआती पूछताछ के बाद जब डॉ अभय के आवास पर छापेमारी की गई तो उसके फ्रीज से भी ब्लड यूनिट बरामद हुए. एसटीएफ के डीएसपी ने बताया कि आरोपी डॉ अभय प्रताप सिंह केजीएमयू से एमबीबीएस और पीजीआई लखनऊ से एमडी कर चुका है. डीएसपी अमित नागर ने बताया कि रिमांड पर लेकर आरोपियों से इनके पूरे गिरोह के बारे में सख्ती से पूछताछ की जाएगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज