CBSE के बाद अब UP Board भी घटाएगा 30 फीसदी पाठ्यक्रम, योगी सरकार ने दी सहमति
Lucknow News in Hindi

CBSE के बाद अब UP Board भी घटाएगा 30 फीसदी पाठ्यक्रम, योगी सरकार ने दी सहमति
यूपी बोर्ड कोरोना संकट के चलते पाठ्यक्रम कम करने जा रहा है (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना (COVID-19) के हालात को देखते हुए उत्तर प्रदेश शासन ने बोर्ड के प्रस्ताव पर सहमति दे दी है. इसके तहत 30 फीसदी कोर्स कम किया जाएगा और बचा हुआ 70 फीसदी पाठ्यक्रम 3 भाग में पढ़ाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 16, 2020, 12:32 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. कोरोना (COVID-19) के दौर में स्कूलों के खुलने का संकट है. ऐसे में सीबीएसई बोर्ड (CBSE) और सीआईएससीई ने अपने कोर्स में कटौती कर दी है. वहीं अब सीबीएसई की तर्ज पर यूपी बोर्ड (UP Board) भी अपने सिलेबस को कम करने की तैयारी में है. इसके लिए जल्द ही शैक्षिक कैलेंडर जारी किया जाएगा. कोरोना के हालात को देखते हुए उत्तर प्रदेश शासन ने बोर्ड के प्रस्ताव पर सहमति दे दी है. इसके तहत 30 फीसदी कोर्स कम किया जाएगा और बचा हुआ 70 फीसदी पाठ्यक्रम 3 भाग में पढ़ाया जाएगा.

छात्रों की परेशानी को लेकर लिया गया निर्णय

पहले भाग में वो पाठ्यक्रम होगा, जिसे कक्षावार, विषयवार और अध्यायवार वीडियो बनाकर ऑनलाइन पढ़ाया जाए. ऐसे पाठ्यक्रम को टीवी चैनल पर भी प्रसारित किया जाएगा. दूसरे भाग में वो पाठ्यक्रम लिया जाएगा, जिसे छात्र छात्राएं खुद पढ़ सकें और तीसरा भाग प्रोजेक्ट आधारित होगा. दरअसल शासन ने ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कराने का आदेश दिया है लेकिन प्रदेश में ऐसे कई छात्र हैं, जिनके पास ऑनलाइन क्लासेज के लिए संसाधन नहीं हैं, इसे देखते हुए पाठ्यक्रम कम करने का फैसला लिया गया है.



ये है प्रस्ताव
शासन को भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार जुलाई महीने में यदि नियमित कक्षाएं नहीं चलतीं तो कक्षा 9 से 12 तक के पूरे पाठ्यक्रम का 10 प्रतिशत हिस्सा कम किया जाएगा. इसी प्रकार अगस्त में पढ़ाई बाधित होने पर 20 फीसदी और सितंबर तक कक्षाएं चालू नहीं होने पर 30 प्रतिशत कोर्स कम किया जाएगा.

बोर्ड ने इसी फॉर्मूले के आधार पर विषय विशेषज्ञों की कमेटी से हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत, गणित, विज्ञान, सामाजिक, विज्ञान, भूगोल, जीव विज्ञान, कला, गृह विज्ञान समेत पूरे कोर्स में कटौती करवाते हुए शासन को मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज