फ्रांस मुद्दे पर भोपाल में प्रदर्शन के बाद UP में अलर्ट जारी, विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश

यूपी के डीजीपी एचसी अवस्थी
यूपी के डीजीपी एचसी अवस्थी

यूपी के डीजीपी (DGP) द्वारा जारी निर्देशों में सभी पुलिस कप्तानों से कहा गया है कि स्थानीय अभिसूचना इकाइयों को सतर्क कर दिया जाए. जिले में कहीं भी लोगों को एक साथ इकट्ठा न होने दिया जाए. बाजारों, मॉल, धार्मिक स्थलों पर विशेष सतर्कता बरती जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 7:42 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. फ्रांस (France) के राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) की टिप्पणी के विरोध में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में हुए प्रदर्शन के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) भी अलर्ट (Alert) हो गई है. डीजीपी मुख्यालय ने सभी जिलों को निर्देश जारी कर पुलिस को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं.

निर्देशों में कहा किया है ऐसे किसी भी आयोजन पर विशेष नजर रखें. सभी पुलिस कप्तानों से कहा गया है कि स्थानीय अभिसूचना इकाइयों को सतर्क कर दिया जाए. जिले में कहीं भी लोगों को एक साथ इकट्ठा न होने दिया जाए. बाजारों, मॉल, धार्मिक स्थलों पर विशेष सतर्कता बरती जाए. COVID-19 को लेकर जारी गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराया जाए. पुलिस पेट्रोलिंग की संख्या बढ़ाए. जिन जिलों में उपचुनाव होने हैं, उन जिलों में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहें और विशेष सतर्कता बरतें.

भोपाल में हुए प्रदर्शन में एफआईआर
बता दें फ्रांस में जारी कार्टून विवाद के बीच मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इकबाल मैदान में गुरुवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन किया. विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुये कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मांग की कि केंद्र सरकार फ्रांस में भारतीय राजदूत को वहां के शासन के 'मुस्लिम विरोधी' रुख के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए कहे. वहीं, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर शांति-व्‍यवस्‍था भंग करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही. इसके बाद मामले में केस दर्ज किया गया है. मसूद ने मैक्रों पर पैगंबर मोहम्मद के आक्रामक कार्टूनों का समर्थन करने और जानबूझकर मुस्लिमों की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया है.
ये है पूरा मामला


उल्लेखनीय है कि यह पूरा विवाद पेरिस के उपनगरीय इलाके में एक शिक्षक की हत्या के बाद शुरू हुआ, जिसने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून अपने विद्यार्थियों को दिखाए. बाद में उसकी सिर काटकर हत्या कर दी गई. शिक्षक की हत्या के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की ओर से की गई विवादित टिप्पणी को लेकर मुस्लिम देशों के बीच फ्रांस के खिलाफ माहौल बनता जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज