UP: 7 महीने बाद आज से अनलॉक हुए स्कूल, दो पालियों में चलेंगी कक्षाएं, यहां देखें टाइमटेबल

आज से फिर खुल रहे स्कूल (तस्वीर, सांकेतिक)
आज से फिर खुल रहे स्कूल (तस्वीर, सांकेतिक)

Schools in UP Unlocked: माध्यमिक शिक्षा विभाग की तरफ से स्कूल खोलने के लिए SOP भी जारी कर दी गई है. पहली पाली में कक्षा 9 व 10 और दूसरी पाली में कक्षा 11 व 12 के विद्यार्थियों को बुलाया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 19, 2020, 9:32 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. करीब 7 महीने बाद यूपी में कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल (Schools Reopen) सोमवार से खुल रहे हैं. केंद्र सरकार की अनलॉक प्रक्रिया के तहत प्रदेश सरकार ने पिछले हफ्ते स्कूलों को खोलने की अनुमति दी थी. इसके बाद राजधानी लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी समेत सभी जिलों में स्कूलों को खोलने की तैयारी पूरी कर ली गई है. माध्यमिक शिक्षा विभाग की तरफ से स्कूल खोलने के लिए SOP भी जारी कर दी गई है. सोमवार से स्कूलों को दो पालियों में चलाया जाएगा. पहली पाली में कक्षा 9 व 10 और दूसरी पाली में कक्षा 11 व 12 के विद्यार्थियों को बुलाया जाएगा. हालांकि, बच्चों को स्कूल आने की बाध्यता नहीं होगी. दूसरी तरफ, वही छात्र स्कूल आ सकेंगे, जिनके अभिभावक लिखित सहमति देंगे.

सुबह 8.50 से दोपहर 11.50 तक कक्षा 9 व 10 और 12.20 से 3.20 तक कक्षा 11 व 12 की कक्षाएं चलाई जाएंगी. एक दिन में एक कक्षा के अधिकतम 50 प्रतिशत तक विद्यार्थियों को ही बुलाया जा सकेगा. बाकी विद्यार्थियों को दूसरे दिन बुलाया जाएगा. वहीं, स्कूल खोलते समय कोविड 19 प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाएगा. प्रदेश सरकार ने स्कूलों में सुरक्षा के तमाम इंतजाम और एसओपी के पालन के लिए तीन दर्जन अधिकारियों की तैनाती की है. ये सभी अधिकारी रविवार रात को ही आवंटित जिलों में पहुंच गए हैं और सोमवार को स्कूल खुलने के बाद निरीक्षण कर अपनी रिपोर्ट शासन को भेजेंगे.

ऑनलाइन क्लासेज भी रहेगी जारी
स्कूल खुलने के बावजूद किसी भी छात्र को आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा. सरकार ने निर्देश दिए हैं फिजिकल क्लासेज के साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था भी पहले की तरह जारी रखी जाएगी. सरकार ने यह भी निर्देशित किया है कि स्कूल बुलाने में उन विद्यार्थियों को प्राथमिकता पर रखा जाए, जिनके पास ऑनलाइन पढ़ाई की सुविधा उपलब्ध नहीं है.
छात्रों को बैठाने के लिए ये होगी व्यवस्था


कक्षाओं में छात्रों के बीच 6 फुट की दूरी रखी जाएगी. हर पाली के बाद स्कूल सैनिटाइज किया जाएगा. स्कूलों में सैनेटाइजर, हैंडवाश, थर्मल स्कैनिंग व प्राथमिक उपचार की व्यवस्था होगी. यदि किसी विद्यार्थी, शिक्षक या अन्य कर्मचारी को खांसी, जुखाम या बुखार के लक्षण होंगे तो उन्हें प्राथमिक उपचार देते हुए घर वापस भेज दिया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज