Home /News /uttar-pradesh /

aimplb constitutes committee to fight legal battle of gyanvapi masjid nodelsp

ज्ञानवापी मस्जिद की कानूनी लड़ाई के लिये AIMPLB ने बनाई कानूनी समिति: सियासी दलों को सीधा संदेश, रुख स्पष्ट करें..

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कार्यकारिणी सभा की आपात बैठक की.

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कार्यकारिणी सभा की आपात बैठक की.

All India Muslim Personal Law Board Meeting: ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कार्यकारिणी सभा की आपात बैठक बुलाई. इसमें ज्ञानवापी मस्जिद और देश की विभिन्न मस्जिदों और इमारतों को लेकर मंथन किया गया. बैठक में ज्ञानवापी मस्जिद की कानूनी लड़ाई के लिये समिति का गठन कर लिया है. इसमें राजनीतिक दलों को सीधा संदेश देते हुए कह दिया गया है कि वह इस मसले पर अपना रुख साफ करें. जो नेता स्वंय को सेक्युलर और न्यायप्रिय कहते हैं, वे भी चुप्पी साधे हुए हैं.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कार्यकारिणी सभा की ऑनलाइन आपात बैठक बुलाई. इसमें ज्ञानवापी मस्जिद और देश की विभिन्न मस्जिदों और इमारतों को लेकर मंथन किया गया. बैठक में मौजूद मुस्लिम लीडर्स का मानना था कि एक ओर नफरत फैलाने वाली शक्तियां पूरी ताकत के साथ झूठा दुष्प्रचार कर रही हैं और मुसलमानों के पवित्र स्थानों को निशाना बना रही हैं. दूसरी ओर केंद्र सरकार और राज्य सरकारें, जिनपर संविधान और कानून को लागू करने का दायित्व है, मूक दर्शक बनी हुई हैं.

इस बैठक में राजनीतिक दलों पर भी खुलकर बात हुई. बैठक में कहा गया कि जो राजनीतिक दल स्वंय को सेक्युलर और न्यायप्रिय कहते हैं, वे भी चुप्पी साधे हुए हैं. उन्हें इस दुष्प्रचार के विरुद्ध जिस तरह मैदान में आना चाहिए, नहीं आ रहे हैं. उन्हें इस मुद्दे पर अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए. हमें उम्मीद है कि वे जल्दी ही अपना पक्ष रखेंगे और देश के संविधान और धर्मर्पिक्षता की सुरक्षा के लिए उनकी ओर से स्पष्ट और ठोस आवाज़ उठाई जाएगी.

अदालतों पर भी उठाए सवाल
बैठक में कहा गया कि अदालतें भी अल्पसंख्यकों और पीड़ितों को निराश कर रही हैं. इनके इस रवैये के कारण अराजकता फैलाने वाली साम्प्रदायिक शक्तियों का दुस्साहस बढ़ रहा है. ज्ञानवापी का मुद्दा 30 वर्ष पूर्व अदालत में उठा था. हाई कोर्ट के स्टे आर्डर के बावजूद इसे अनदेखा किया गया. ज्ञानवापी पर बार-बार सूट फाइल करना और फिर अदालतों के माध्यम से इस तरह के आदेश जारी करना अत्यधिक निराशाजनक और चिंताजनक हैं.

इन लोगों को समिति में मिली जगह-
बोर्ड ने पूजा स्थलों के बारे में 1991 के कानून और बाबरी मस्जिद से जुड़े फैसले में उस कानून की पुष्टि को सामने रखकर विचार करने और प्रभावशाली ढंग से मुकदमे को पेश करने के लिए एक कानूनी कमेटि बनाई है. जो जस्टिस शाह मुहम्मद कादिरी, जनाब यूसुफ हातिम मछाला, जनाब एमआर शमशाद, जनाब फुजैल अहमद अय्यूबी, जनाब ताहिर एम हकीम, जनाब न्याज़ फ़ारूकी, डॉ. सैयद क़ासिम रसूल इलयास और जनाब कमाल फारूकी पर आधारित है. यह कमेटि विस्तार से मस्जिद से जुड़े सभी मुकदमों का जायजा लेगी और मुनासिब कानूनी कार्रवाई करेगी.

Tags: Gyanvapi Masjid Controversy, Lucknow news, UP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर