'मध्यस्थता कमेटी से है उम्मीद- कोर्ट के बाहर हल होगा अयोध्या विवाद'

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने कहा है कि 18 जुलाई तक मध्यस्थता कमेटी अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट के सामने रखेगी, जिसके बाद यह तय किया जाएगा कि मध्यस्थता कमेटी क्या वाकई इस मामले को हल कराने में कामयाब हुई है

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 5:26 PM IST
'मध्यस्थता कमेटी से है उम्मीद- कोर्ट के बाहर हल होगा अयोध्या विवाद'
जफरयाबा जिलानी (बाएं) और मोलाना खालिद रशीद.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 5:26 PM IST
अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मसले को कोर्ट के बाहर सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाई थी. जिसका मकसद कोर्ट के बाहर सभी पक्षकारों से बात करके इस मामले को हल करने की तमाम संभावनाओं को तलाशना था. सुप्रीम कोर्ट में आज (गुरुवार) हुए मसले की सुनवाई के बाद चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने कहा कि 18 जुलाई तक मध्यस्थता कमेटी अपनी रिपोर्ट उनके सामने रखेगी. जिसके बाद यह तय किया जाएगा कि मध्यस्थता कमेटी क्या वाकई इस मामले को हल कराने में कामयाब हुई है. उधर इस संबंध में मुस्लिम पक्षकारों के वकील जफरयाब जिलानी और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

तय सुप्रीम कोर्ट को तय करना है कि आगे क्या हो?- जफरयाब
कोर्ट ने कहा कि मध्यस्थता कमेटी के बिंदुओं पर विचार करने के बाद ही यह निर्णय आगे लिया जाएगा कि कमेटी के बिंदुओं पर आगे चला जाए या फिर इस मामले की सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई हो. लखनऊ में इस मसले पर मुस्लिम पक्षकारों के वकील और वरिष्ठ अधिवक्ता जफरयाब जिलानी कहते हैं कि कमेटी की रिपोर्ट में क्या है? यह तो कोई नहीं जानता लेकिन हम लगातार इस बात को कहते रहे हैं कि मामला कोर्ट से ही हल हो. उन्होंने कहा कि अब सुप्रीम कोर्ट को तय करना है कि वह आगे क्या फैसला लेती है?

मध्यस्थता कमेटी मसला हल कर दे तो उससे अच्छा कुछ नहीं: फरंगी महली

वहीं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली कहते हैं कि उम्मीद पर दुनिया कायम है और मध्यस्थता कमेटी अगर किसी तरह से इस मसले को हल कराने की उम्मीद बना रही है तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि मध्यस्थता कमेटी अगर इस मामले को हल कर दे तो उससे ज्यादा अच्छा कुछ नहीं हो सकता क्योंकि मामला अगर कोर्ट में चला जाएगा तो फिर वहां कितने साल सुनवाई चलेगी, कहा नही जा सकता. उन्होंने कहा कि इसीलिए हम सब सकारात्मक सोच के साथ इंतजार कर रहे हैं कि जब मध्यस्थता कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी तो वह जरूर किसी निर्णय की ओर आगे बढ़ेगी.

(रिपोर्ट: मोहम्मद शबाब)

ये भी पढ़ें: अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता पैनल से 25 जुलाई तक मांगी डिटेल रिपोर्ट
Loading...

#MissionPaani: रेलवे हर दिन बचा रहा लाखों लीटर पानी, ऐसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 4:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...