Assembly Banner 2021

UP: अजय लल्लू का योगी सरकार पर पलटवार, कहा- कांग्रेस नहीं BJP ने की मुख्तार अंसारी की मदद

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया है.

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया है.

Mukhtar Ansari News: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  (Ajay Kumar Lallu) ने बड़ा आरोप लगाते हुए बीजेपी (BJP) को ही माफिया मुख्तार अंसारी  का मददगार बताया है. 

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के बाहुबली मुख़्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को लेकर अब तक जहां बीजेपी (BJP) कांग्रेस (Congress) पर संरक्षण देने का आरोप लगाकर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधते नजर आ रही थी. तो वहीं बीते दिनों मुख़्तार अंसारी की एम्बुलेंस को लेकर हुए खुलासे के बाद अब कांग्रेस बीजेपी पर पलटवार कर करारा निशाना साधते नजर आ रही है. इस दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने माफ़िया मुख्तार अंसारी को पंजाब भेजे जाने और उसे एम्बुलेंस मुहैय्या कराए जाने के मुद्दे को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधने वाली योगी सरकार पर ही कई गंभीर आरोप लगाते हुए जमकर निशाना साधा है.



न्यूज़ 18 से बात करते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि जब बाहुबली मुख़्तार अंसारी उत्तर प्रदेश की जेल में थे, तो किसकी सरकार थी? जब मुख़्तार को पंजाब जेल भेजा गया तो भी बीजेपी की सरकार थी. मुख़्तार अंसारी अबतक जिस एम्बुलेंस का निजी तौर पर उपयोग कर रहे थे, वो एम्बुलेंस किसके नाम थी और किसने मुहैय्या कराई थी? वो भी बीजेपी नेता द्वारा ही मुख़्तार अंसारी को मुहैय्या कराई गई थी.



कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का बड़ा आरोपी 

अजय कुमार लल्लू का कहना है कि बीजेपी का ये दोहरा चरित्र है. पहले तो मुख़्तार अंसारी को पंजाब जाने से एक बार भी नही रोका. अब आरोप कांग्रेस पर लगा रही है. बीजेपी पहले ये तय कर ले कि ये देश संविधान और न्यायलय से चलेगा या फिर उनके बताए हुए रास्ते पर चलेगा. न्यायालय तय करेगा कि किसको किस जेल में रहना है. मुझे लगता है कि न्यायालय अपना काम कर रहा है. ऐसे में बीजेपी को इस मुद्दे पर राजनीति नही करना चाहिए. कांग्रेस देश के संविधान और न्यायालय के फैसलों को मानती है और उसका सम्मान करती है.
खतरे में सदस्यता

पूर्व बाहुबली और डॉन मुख्तार अंसारी की विधानसभा सदस्यता रद करने की लगातार मांग उठ रही है. यह पहला मौका नहीं है जब ऐसा हुआ है. इसके पहले विधानसभा में मुख्तार अंसारी की सदस्यता रद करने के लिए याचिका लगाई जा चुकी है. दूसरी बार सदस्यता रद करने की मांग उठने पर न्यूज18 हिंदी ने विधानसभा अध्यक्ष से बात की.

इस बार विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि अनुच्छेद 192 के तहत 60 दिन तक लगातार सदन में अनुपस्थित रहने पर मुख्तार अंसारी का शिकायत पहले भी आई थी. उसको हमने विधि विभाग के पास भेज दिया है. वहां से इस मामले में मंजूरी मिलने पर आगे की कार्यवाही होगी. ह्रदय नारायण दीक्षित ने कहा कि अगर बीजेपी इस मामले की शिकायत करती है तो इस पर हम सदन शुरू होने पर संज्ञान लेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज