लोकसभा चुनाव 2019: अखिलेश ने बताए BSP से तालमेल और बीजेपी से सावधान रहने के ये नुस्खे

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के साथ महागठबंधन की तैयारियों में लगी समाजवादी पार्टी (सपा) वोटरों को साधने के साथ विरोधी पार्टी की पैंतरेबाजी से भी निपटना है. इसके लिए सपा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संग रणनीति बनाने जा रही है.

नासिर हुसैन
Updated: September 12, 2018, 12:52 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: अखिलेश ने बताए BSP से तालमेल और बीजेपी से सावधान रहने के ये नुस्खे
फाइल फोटो- अखिलेश यादव.
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन
Updated: September 12, 2018, 12:52 PM IST
अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के दिन करीब आने के साथ ही सियासी सरगर्मियां भी तेज होती दिख रही हैं. उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के साथ महागठबंधन की तैयारियों में लगी समाजवादी पार्टी (सपा) वोटरों को साधने के साथ विरोधी पार्टी की पैंतरेबाजी से भी निपटना है. इसके लिए सपा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संग रणनीति बनाने जा रही है. हाल ही में सपा के अलग-अलग संगठनों की लखनऊ में हुई एक के बाद एक कई मीटिंग में इसका खुलासा हुआ है.

जानकारों की मानें तो सपा की मुख्य विंग के साथ ही समाजवादी छात्रसभा, लोहिया वाहिनी आदि की बैठक बुलाई गई थी. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बैठक को संबोधित किया था. इस दौरान उन्होंने कई मुद्दों पर पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को दिशानिर्देश दिए.

सूत्रों का कहना है कि छात्रसभा की बैठक को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा कि अब जब भी आप लोग किसी भी विश्वविद्यालय में छात्र संघ का चुनाव लड़ें तो बसपा की उसमे मदद ले सकते हैं. अगर सपा-बसपा का कोई धरना-प्रदर्शन या आंदोलन हो रहा है तो आप लोग उसमें मदद करेंगे और जरूरत पड़ने पर मदद लेंगे भी.

अखिलेश यादव ने यह भी कहा, 'जल्द ही सपा और बसपा के पदाधिकारियों की बैठक होने जा रही है. उस बैठक में साथ काम करने की रणनीति तय की जाएगी. आप लोग अपने दिमाग में बैठा लें कि अब दोनों को साथ मिलकर काम करना है.'

इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'विरोधी पार्टियां हमारे महागठबंधन में दरार डालने के लिए कोशिश करेंगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी सोशल मीडिया सहित और दूसरे तरीकों से दलित, यादव और मुसलमानों के बीच दरार डालने की कोशिश करेगी. कभी आपको सोशल मीडिया पर ये देखने और पढ़ने को मिलेगा कि दलित और मुसलमानों के बीच किसी गांव में झगड़ा हो गया है. कहीं यादव नाम का इस्तेमाल करते हुए दलितों के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी सोशल मीडिया पर चलेंगी. ऐसी चीजों से भी निपटना होगा.'

अखिलेश यादव ने कहा, 'इसके लिए सपा-बसपा के लोगों की जिलेवार टीम बनाई जाएंगी. ये टीम उसका प्रमाण के साथ खंडन करने के साथ ही झगड़े आदि की सूचना मिलते ही मौके पर भी पहुंचेगी.'

सपा के आईटी एक्सपर्ट राजीव राय ने भी बैठक में सोशल मीडिया के बारे में  विरोधी पार्टियों की पैतरेंबाजी से बचने के गुर बताए. सूत्रों की मानें तो सपा-बसपा की बैठक में सपा की ओर से प्रदेश अध्यक्ष सहित मंडल और जिलाध्यक्ष मौजूद रहेंगे. वहीं बसपा की ओर से मंडल कोऑर्डिनेटर संग दूसरे लोग भी शामिल होंगे.
Loading...
वहीं इस बारे में जब समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि दूसरे संगठनों के लोगों से क्या कहा गया है इसकी मुझे जानकारी नहीं है. लेकिन हम लोगों की बैठक में जरूर कुछ बातें सामने आई हैं कि कैसे चुनावों के दौरान बीजेपी द्वारा फैलाई जाने वाली अफवाहें सामने आएंगी और उनका कैसे सामना करना है. महागठबंधन की संभावनाओं पर आधारित कुछ दूसरी बातें भी हुईं हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर