• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • भाजपा जाते-जाते गन्ना किसानों के बकाये का ब्याज न सही, मूल ही चुका दे: अखिलेश यादव

भाजपा जाते-जाते गन्ना किसानों के बकाये का ब्याज न सही, मूल ही चुका दे: अखिलेश यादव

लखनऊ में अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर किया तीखा हमला  (File photo)

लखनऊ में अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर किया तीखा हमला (File photo)

UP Politics: सीएम योगी ने कहा कि बसपा सरकार में 21 चीनी मिलें बंद हुईं थीं. पिछले साढ़े 4 सालों के अंदर हमने किसानों से अन्न की रिकॉर्ड खरीद की है. जो काम यूपी सरकार में हुए हैं, वह पिछले की सरकारें भी कर सकती थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने प्रदेश के गन्ना किसानों (Sugarcane Farmers) को बड़ा तोहफा दिया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने गन्ने के मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी का ऐलान कर दिया है. इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी (SP) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने किसानों को लेकर बीजेपी को कटघरे में खड़ा किया है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘पहले किसानों के मान को गिराना… फिर नाम भर को दाम को बढ़ाना… भाजपा का ये चुनावी हथकंडा अब उप्र में नहीं चलने वाला.’ भाजपा जाते-जाते गन्ना किसानों के बकाये का ब्याज न सही, मूल ही चुका दे. 2022 में सपा सरकार किसानों का सच्चा मान भी बढ़ाएगी व गन्ने की मिठास और दाम भी.

दरअसल योगी सरकार ने अब गन्ने का मूल्य 325 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए कर दिया गया है. गन्ने का मूल्य बढ़ने से गन्ना किसानों की आय में 8% की वृद्धि होगी. इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को लखनऊ में किसान सम्मेलन में कहा कि राज्य में अब तक जिस गन्ने का 325 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान होता था. अब सरकार 350 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान करेगी. यही नहीं सामान्य गन्ने का भुगतान जो 315 रुपए प्रति क्विंटल होता था, उसमें भी 25 रुपये की वृद्धि होगी.

अखिलेश बोले- भाजपा का ये चुनावी हथकंडा अब उप्र में नहीं चलने वाला

अखिलेश बोले- भाजपा का ये चुनावी हथकंडा अब उप्र में नहीं चलने वाला

सीएम योगी ने कहा कि बसपा सरकार में 21 चीनी मिलें बंद हुईं थीं. पिछले साढ़े 4 सालों के अंदर हमने किसानों से अन्न की रिकॉर्ड खरीद की है. जो काम यूपी सरकार में हुए हैं, वह पिछले की सरकारें भी कर सकती थीं. 2004 से लेकर 2014 तक का शासन देश और प्रदेश के लिए अंधकार युग था. अराजकता, गुंडागर्दी का बोलबाला था. प्रदेश के किसान आत्महत्या और गरीब भूख से मर रहा था. जो आज किसानों के हितैषी बने हैं, वो तब कहां थे?

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज