अखिलेश यादव का BJP की योगी सरकार पर हमला, बोले- चार साल अंधेर नगरी के चौपट राज जैसे

समाजवादी पार्टी के मुख‍िया अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बड़ा हमला बोला.

समाजवादी पार्टी के मुख‍िया अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बड़ा हमला बोला.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व CM अखिलेश यादव ने भाजपा की चार साल की सरकार को अंधेर नगरी का चौपट राज बताया है. उन्होंने कहा कि सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह विफल रही है. और जनता का हर वर्ग बुरी तरह त्रस्त रहा है.

  • Last Updated: March 19, 2021, 3:41 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लिखित बयान में कहा है कि भाजपा की अंधेर नगरी के चार साल चौपट राज के रहे हैं. सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह विफल रही है और जनता का हर वर्ग बुरी तरह त्रस्त रहा है. थानों, तहसीलों में बिना रिश्वत दिए काम न होने की शिकायतें तो भाजपा कार्यसमिति की बैठकों में ही सुनाई दी. किसान आंदोलित हैं, नौजवान बेरोजगारी का दर्द झेल रहे हैं. अपराधी बेखौफ है. अवैध खनन, जहरीली शराब पर कोई रोक नहीं. मंहगाई और भ्रष्टाचार चरम पर है. चार साल जैसा अंधेर कभी किसी ने न देखा न सुना होगा.

भाजपा की 4 साल की उपलब्धियों में यह भी है. भाजपा के वैचारिक प्रदूषण से उत्तर प्रदेश में सद्भाव बिगड़ा है. दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में 22 भारत में है जिसमें 11 शहर उत्तर प्रदेश के हैं. लखनऊ, गाजियाबाद, कानपुर इनमें सबसे ज्यादा विश्वस्तर पर प्रदूषित शहर है. हमारी सरकार के समय गोमती रिवरफ्रंट, जनेश्वर मिश्र पार्क, लॉयन सफारी, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, मेट्रो, साइकिल ट्रैक आदि पर्यावरणीय काम अगर भाजपा ने रोके न होते तो आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बदनामी न उठानी पड़ती.

Youtube Video


किसान आंदोलन कर रहा, सरकार अनसुना कर रही 
उसको धान और गेंहूं का एमएसपी मूल्य मिला ही नहीं, कर्ज माफी के दावे झूठे साबित हुए. लागत का ड्योढ़ा दाम किसान को क्या मिलेगा जब गन्ना किसानों को बकाया 10 हजार करोड़ ही नहीं मिला? किसान एमएसपी की अनिवार्यता और तीन कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर लगभग चार माह से आंदोलित है.

रोज लुट रही है महिलाओं और बच्चियों की अस्मत 

भाजपा राज में शराब के अवैध धंधे को खूब विस्तार मिला है. प्रयागराज, उन्नाव, फतेहपुर, कानपुर, लखनऊ, प्रतापगढ़, मथुरा तथा कई अन्य जनपदों में गत 4 वर्षों में जहरीली शराब पीकर सैकड़ों लोगों की मौतें हो गईं. कानून व्यवस्था के हालात दयनीय हैं. महिलाओं और बच्चियों की इज्जत रोज ही लुटती है. महिलाओं के प्रति हिंसा में उत्तर प्रदेश नम्बर एक पर हैं. वर्ष 2019 में लखनऊ में 3390 मामले दर्ज हुए बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामले बताते है कि भाजपा का ऐंटी रोमियों स्क्वाड, मिशन शक्ति, पिंक बूथ जैसे अभियान पूरी तरह विफल है.



बदले की भावना से काम कर रही है भाजपा सरकार 

भाजपा सरकार शुरू से बदले की भावना से काम कर रही है। जौहर विश्वविद्यालय जैसे उच्चस्तरीय शिक्षा संस्थान को उजाड़ने के साथ संस्थापक सांसद मोहम्मद आजम खां पर भी तमाम मुकदमे लगा दिए हैं. उनकी विधायक पत्नी तंजीन फातिमा और पुत्र अब्दुल्ला आजम को भी जेल में रखा गया. समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं पर 10 हजार से ज्यादा फर्जी मुकदमें लगा दिए गए हैं. भाजपा ने अपने 4 सालों की सरकार में संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया है. नेताओं पर झूठे केस, जांच एजेंसियों के छापे के साथ शारीरिक हमले भाजपा की हिंसक राजनीतिक सोच के दुष्परिणाम है.

युवाओं को वोट के बदले मिली लाठी

नौजवान को सरकारी विज्ञापनों और होर्डिंगो में ही रोजगार मिला है. वर्ना तो भाजपा को वोट देने के बदले युवाओं को सिर्फ लाठियां मिली हैं. आंकड़ों में प्रदेश में बेकारी दर 2018 में 5.92 प्रतिशत थी जो 2019 में 9.9 प्रतिशत हो गई. भाजपा सरकार समझती हैं कि वह अपने कुप्रचार से जनता को धोखा दे सकती है। वर्ष 2020-21 में सरकार ने अपना बेसुरा राग और विकृति के विज्ञापनों पर सैकड़ों करोड़ रूपये का सरकारी अपव्यय कर दिया. विकास के विज्ञापनी दावे टीवी स्क्रीन पर कोई प्रभाव नहीं कर पा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज