लाइव टीवी

अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमला- यूपी में 'रोको और ठोको' नीति नहीं चलेगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 12, 2019, 3:23 PM IST
अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमला- यूपी में 'रोको और ठोको' नीति नहीं चलेगी
अखिलेश यादव प्रेस कांफ्रेंस करते हुए

अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऊपर लगे मुकदमों को तख्तियों के सहारे पेश किया और कहा कि ये देश के पहले मुख्यमंत्री हैं, जिन पर इतनी धाराएं लगी हैं.

  • Share this:
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस कर सूबे की योगी सरकार पर प्रयागराज जाने से रोकने पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि छात्रों से घबराई यह सरकार 'रोको और ठोको' की नीति पर काम कर रही है. अब यह चलने वाला नहीं है क्योंकि जनता भी चुनाव का इंतजार कर रही है और इन्हें सबक सिखाएगी.

लखनऊ में सपा मुख्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस करते हुए अखिलेश ने कहा, "मुझे इलाहबाद यूनिवर्सिटी के छात्रों के बीच अपनी बात रखनी थी. छात्रसंघ के अध्यक्ष उदय यादव के कार्यक्रम में शामिल होना था. मुझे दुःख इस बात का है कि छात्रों ने इस कार्यक्रम की बहुत मेहनत से तैयारी की थी. मुझे भी मौका मिलने वाला था, इसमें शामिल होने का. लेकिन सरकार की नीयत साफ नहीं थी.

इलाहबाद यूनिवर्सिटी के इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए एक महीने पहले ही अपना कार्यक्रम 27 दिसंबर को भेज दिया था. ताकि अगर वहां किसी को कोई नाराजगी हो, प्रशासन को तैयारी करनी हो, क्योंकि वहां कुंभ का आयोजन था. इसलिए छात्रसंघ अध्यक्ष ने सभी से परमिशन लेकर कार्यक्रम तय किया और दो फ़रवरी को डिटेल कार्यक्रम भेजा गया. इसके बाद आज फिर कार्यक्रम भेजा गया."

अखिलेश यादव को प्रयागराज जाने से रोका गया, एयरपोर्ट पर हुई 'बदसलूकी'- Video वायरल

अखिलेश ने कहा, "भारतीय जनता पार्टी और उनके जितने भी सहयोगी हैं, वे इलाहाबाद छात्रसंघ चुनाव को अपना चुनाव मान रहे थे. पूरी सरकार और उसके मंत्री चुनाव लड़ रहे थे. इलाहाबाद चुनाव में सपा समर्थित की जीत के बाद उसके हॉस्टल में आग लगा दी. बीजेपी के लोग उसके जीत को पचा नहीं पाए. उसके कमरे को ही जला दिया गया. जब कार्यक्रम बिलकुल करीब आ गया, तो जहां मंच बना था, वहां तीन बम चलाए गए. लेकिन प्रशासन और सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की."

अखिलेश के समर्थन में आईं मायावती, Tweet कर कहा- गठबंधन से बौखला गई है बीजेपी

अखिलेश यादव ने कहा, "हम सरकार से जानना चाहते हैं आख़िरकार कौन लोग थे? जिन्होंने छात्रसंघ अध्यक्ष का कमरा जला दिया था और बम चलाए थे. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. मुझे जानकारी मिली है कि आज जब मुझे जाना था तो कल कुछ पुलिस अधिकारियों ने मेरे घर की रेकी की. साथ ही तीन पुलिस वाले भी बैठा दिए गए. यूपी पुलिस एयरपोर्ट पर नहीं जा सकती लेकिन सरकार की ताकत देखिए जब मैं प्लेन पर चढ़ने जा रहा था तो मुझे रोक दिया गया. मुख्यमंत्री की भाषा देखिए. मुझ पर हिंसा भड़काने का आरोप लगा रहे हैं. सरकार कहती है कि यूनिवर्सिटी में राजनैतिक लोग नहीं जा सकते. दूसरी तरफ ये लोग कहते हैं कि यूनिवर्सिटी से निकले महान विभूतियों पर गर्व करते हैं. अगर मैं अराजकता फ़ैलाने जा रहा था तो बता दें मुझ पर कौन सी धाराएं लगी हैं."
Loading...

अखिलेश यादव के प्रयागराज जाने से हो सकती थी हिंसा: सीएम योगी

इस दौरान अखिलेश यादव ने  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऊपर लगे मुकदमों को तख्तियों के सहारे पेश किया और कहा ये देश के पहले मुख्यमंत्री हैं जिन पर इतनी धाराएं लगी हैं. साथ ही वे खुद अपनी धाराओं को वापस ले रहे हैं. उन्होंने उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के ऊपर चल रहे मुकदमों को भी दिखाया.

उन्होंने कहा कि ये सरकार छात्रों से डर गई है. इन्होने नौजवानों के भविष्य से खिलवाड़ किया है, उनके सपनों को मारा है और मजबूर किया है कि बेरोजगार रहो. इसलिए वे नहीं चाहते कि कोई छात्रों से मिलकर उनकी बात सुने. याद रहे कि लोकतंत्र को बचाने के लिए जनता तैयार बैठी है. अखिलेश ने कहा कि बिना कागज के मुझे रोका गया. उनका आरोप था कि हवाई जहाज को रोकने का अधिकार राज्य सरकार के पास नहीं है. इससे लगता है कि केंद्र सरकार भी शामिल है. मैं सिर्फ छात्रों से मिलने नहीं जा रहा था. मैं साधु-संतों से भी मिलने जा रहा था. मुझे अखाड़ा परिषद के महंत ने खाने पर बुलाया था. इनकी रोको और ठोको निति नहीं चलने वाली. जनता सरकार को सबक सिखाने के लिए बैठी हुई है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2019, 2:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...