'जनता ने देखा कैसे मेरा और मायावतीजी का बंगला हुआ खाली, अब सिखाएगी सबक'

इससे पहले सपा मुखिया ने योगी सरकार पर बंगले को लेकर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बंगले को लेकर जो आरोप लग रहे हैं वो सभी झूठे हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 13, 2018, 2:38 PM IST
'जनता ने देखा कैसे मेरा और मायावतीजी का बंगला हुआ खाली, अब सिखाएगी सबक'
सपा प्रमुख अखिलेश यादव (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 13, 2018, 2:38 PM IST
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के आरोप पर सफाई देते हुए बुधवार को कहा कि सभी आरोप गलत हैं. ये सरकार मेरे काम से जली-भुनी है और बदले की राजनीति कर रही है. अखिलेश ने कहा कि इस सरकार में मेरा और मायावतीजी का बंगला खाली करवा लिया गया. अब ये लोग बंगले को लेकर झूठ फैला रहे हैं. जनता सब देख रही है, इन्हें सबक सिखाएगी.

लखनऊ स्थित सपा मुख्यालय पर एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, “सुप्रीम कोर्ट का आदेश था. लेकिन सरकार षड्यंत्र करती है. मेरा और मायावतीजी का बंगला खाली करवा लिया गया. अब जनता इन्हें सबक सिखाएगी. मैं सभी कार्यकर्ताओं से कहता हूं कि वे 2019 में प्रधानमंत्री बदलने के लिए तैयार हो जाएं.”

यह भी पढ़ें: राज्‍यपाल ने योगी को लिखा खत- अखिलेश के खाली किए बंगले में तोड़फोड़ की हो जांच

इससे पहले सपा मुखिया ने योगी सरकार पर बंगले को लेकर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बंगले को लेकर जो आरोप लग रहे हैं वो सभी झूठे हैं. मेरे घर में स्विमिंग पूल था ही नहीं. वुडेन फ्लोरिंग समेत तमाम चीजें जस की तस मौजूद हैं. सिर्फ एक कोने में तोड़फोड़ की फोटोग्राफी करके बदनाम करने की साजिश की जा रही है. सोशल मीडिया में अफवाह फैलाया जा रहा है.

अखिलेश यादव ने कहा, ‘जो चीजें मेरी थीं मैं उसे ले गया. अगर राज्य संपत्ति विभाग के पास उन चीजों की इन्वेंट्री है तो वे दिखाएं, मैं वापस करने को तैयार हूं.’ उन्होंने कहा कि 'राज्य संपत्ति विभाग मुझे बताए कि उनका बंगला कैसा था? मैंने बंगले को अपनी पसंद के अनुसार बनवाया था. मैंने जो वुडेन फ्लोरिंग लगवाई थी वो आज भी मौजूद है.'

यह भी पढ़ें: चाचा शिवपाल ने बंगले पर भतीजे व पूर्व CM अखिलेश का किया बचाव

राज्यपाल राम नाईक द्वारा मामले में सीएम योगी को पत्र लिखकर जांच कराए जाने के सवाल पर अखिलेश ने तंज कसते हुए कहा कि वे कभी-कभी जागते हैं. सीएम के निजी सचिव पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे. उस वक्त भी उन्होंने पत्र लिखा था. फिर क्या हुआ? जिसने भ्रष्टाचार का आरोप लगाया उसे ही फंसा दिया गया.
Loading...

बता दें अखिलेश यादव प्रेस कांफ्रेंस में नई टोटी लेकर पहुंचे थे. उन्होंने कहा कि वे इस टोटी को बीजेपी वालों को देंगे. यह सरकार काम कर नहीं पा रही है, जिसकी वजह से बदले की राजनीति पर उतारू है. इन्हें उपचुनाव में मिली हार भी नहीं पच रही है. इसी वजह से टोटी की राजनीति पर उतर आए हैं.

यह भी पढ़ें: माया के सामने घुटना टेकना बलिदान नहीं, बंगला पाने की लालसा हैः भाजपा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->