नोटबंदी को अखिलेश ने बताया फेल, मायावती ने कहा- माफी मांगे केंद्र सरकार

समाजवादी पार्टी ने केंद्र से सवाल पूछा कि नोटबंदी का लाभ किसकी जेब में गया. बसपा ने कहा कि जिन सपनों और वादों के साथ नोटबंदी की गई थी, वे अब तक अधूरे हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 9, 2018, 10:37 PM IST
नोटबंदी को अखिलेश ने बताया फेल, मायावती ने कहा- माफी मांगे केंद्र सरकार
नोटबंदी पर अखिलेश और माया ने साधा बीजेपी पर निशाना
News18 Uttar Pradesh
Updated: November 9, 2018, 10:37 PM IST


केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा आठ नवंबर 2016 को लागू की गई 'नोटबंदी' के दो साल पूरे होने पर बहुजन समाज पार्टी ने मांग की है कि केन्द्र सरकार देश से माफी मांगे. वहीं, समाजवादी पार्टी ने केंद्र से सवाल पूछा कि नोटबंदी का लाभ किसकी जेब में गया. बसपा ने कहा कि जिन सपनों और वादों के साथ नोटबंदी की गई थी, वे अब तक अधूरे हैं.

UPPSC में नहीं हुई सदस्यों की नियुक्ति, भर्ती परीक्षाओं के रिजल्ट पर लगा ब्रेक



बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा, 'नोटबंदी के सम्बन्ध में जो फ़ायदे केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने जनता को गिनाये थे, उनमें से किसी भी उद्देश्य के आज दो वर्ष होने के बाद भी पूरा नहीं होने पर सरकार को लोगों से माफी मांगनी चाहिए. पूर्ण बहुमत की सरकार 'वादाखिलाफी की सरकार’’ के रूप में ही हमेशा याद की जायेगी.'


रेप में नाकाम होने पर दरोगा के बेटे ने महिला पर फेंका तेजाब, आरोपी गिरफ्तार


वहीं, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, ‘‘50 दिन मांगे थे और अब दो साल भी पूरे हो गये लेकिन जनता अभी भी इस सवाल का जवाब पाने का इंतजार कर रही है कि नोटबंदी से कारोबार के चौपट होने तथा बेकारी बेरोजगारी के बढ़ने के सिवाय और क्या मिला ? अगर सरकार इसे सफल मानती है तो यह बताए कि इसका लाभ किसकी जेब में गया.'
Loading...



मायावती ने आरोप लगाया कि जहां एक तरफ नोटबन्दी ने आम आदमी की कमर तोड़ दी तो वहीं दूसरी तरफ भाजपा एण्ड कम्पनी के तमाम चहेतों ने इसी बहाने अपने-अपने काले धन को विभिन्न उपायों के माध्यम से बैंकों में जमा कर उसे सफेद कर लिया. स्वयं भाजपा ने भी पार्टी के तौर पर देशभर में अकूत सम्पत्ति अर्जित कर ली है, यह भी जनता की नजर में है.

अभी तो कई शहरों के नाम बदलेंगे, मुजफ्फरनगर का नाम लक्ष्मीनगर करना है: संगीत सोम

उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार थोपी गई नोटबन्दी की ‘‘आर्थिक इमरजेन्सी’’ एक व्यक्ति की अपनी मनमानी व अहंकार का नतीजा थी. भाजपा सरकार को अपना अहंकार त्यागकर देश की जनता से इसके लिए माफी मांगनी चाहिए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर