विधानसभा चुनाव में वापसी की तैयारी में अखिलेश यादव, इस प्लान पर कर रहे हैं काम

Alauddin Ayub | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 2, 2019, 10:24 AM IST
विधानसभा चुनाव में वापसी की तैयारी में अखिलेश यादव, इस प्लान पर कर रहे हैं काम
साइड किए गए पुराने समाजवादी नेताओं के संपर्क में अखिलेश यादव.

सपा में चर्चा तेज है कि कई पुराने नेताओं की पार्टी में वापसी हो सकती है. इनमें वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान बसपा में जाने वाले कई नेताओं के नामों की चर्चा है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव 2019 में करारी शिकस्त और बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन टूटने के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अब पार्टी से साइड किए गए पुराने नेताओं को साधने में जुट गए हैं. पूर्व मुख्‍यमंत्री इन नेताओं के जरिए यूपी में होने वाले उपचुनाव और वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे हैं. सपा के सूत्र बताते हैं कि अखिलेश खुद इलाहाबाद से पूर्व सांसद रेवती रमण, बेनी प्रसाद वर्मा समेत आधा दर्जन पुराने नेताओं के संपर्क में हैं. अब जातीय समीकरण भी ध्‍यान दिय जा रहा है. वहीं, इंद्रजीत सरोज, नरेश उत्तम पटेल, मुस्लिम समुदाय के अहम हसन और रामआसरे विश्वकर्मा को बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है.

 कई पुराने नेताओं की पार्टी में वापसी की संभावना 

सपा में यह चर्चा तेज है कि कई पुराने नेताओं की पार्टी में वापसी हो सकती है. इनमें वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान सपा से बसपा चले गए कई नेताओं के नाम की भी चर्चा है. जानकारी के अनुसार, कई पूर्व सपा नेताओं की सपा अध्यक्ष से मुलाकात भी हो चुकी है.

पार्टी को हुआ बड़ा नुकसान

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक रतन मणि लाल ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि बीते दो वर्षों में पार्टी के अंदर जो भी घटनाक्रम हुए हैं, उससे समाजवादी पार्टी को नुकसान पहुंचा है. यही वजह है कि लोकसभा चुनाव में उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा. लाल कहते हैं कि अखिलेश सोचते थे कि उन्होंने नए नेताओं को तरजीह दी और पुराने नेताओं को हाशिए पर खड़ा कर दिया था.

सुरेंद्र सिंह नागर और संजय सेठ ने छोड़ी पार्टी

राजनीतिक विश्लेषक बताते हैं कि सपा के राज्यसभा सदस्य सुरेंद्र सिंह नागर और संजय सेठ के पार्टी छोड़ने से एक बड़े नुकसान के रूप में देख रहे है. लाल आगे कहते हैं कि जहां एक तरफ अखिलेश यादव नए लोगों को भी पार्टी में नहीं रोक पाए, दूसरी तरफ पुराने नेताओं में काफी असंतोष था. अब अखिलेश यादव के सामने पुराने नेताओं को साथ जोड़ने के आलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है. उन्होंने माना कि अखिलेश पुराने नेताओं को साथ लाकर एक बार फिर सपा में ऑक्सीजन देने का काम करेंगे.
Loading...

 बेनी प्रसाद वर्मा और राजभर से मुलाकात

अखिलेश यादव पार्टी से दूरी बनाने वाले उन दिग्गजों की शरण में जा रहे हैं, जिन्होंने कभी मुलायम के साथ समाजवादी झंडा बुलंद किया. इसी क्रम में अखिलेश यादव दिग्गज समाजवादी नेता बेनी प्रसाद वर्मा का हाल जानने उनके घर पहुंचे थे. बेनी प्रसाद वर्मा से उनकी 45 मिनट अकेले में बातचीत हुई थी.

इसी क्रम में योगी सरकार में पूर्व मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर से पिछले दिनों अखिलेश यादव की मुलाकात चर्चा में रही. बीते दिनों बसपा सरकार में पूर्व स्वास्थ्य राज्यमंत्री रहे भूरा राम ने सपा का दामन थाम लिया. वहीं फूलन सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष गोपाल निषाद भी अपने संगठन के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हुए.

ये भी पढ़ें:

स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली छात्रा बोली- VIDEO में कही बातें सच

लखनऊ: SUDA निदेशक की पत्नी की संदिग्ध हालत में गोली लगने से हुई मौत

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 9:36 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...