होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /एक बार फिर समाजवादी पार्टी में तकरार? विधायकों की बैठक में नहीं गए शिवपाल, कहा- मुझे नहीं बुलाया

एक बार फिर समाजवादी पार्टी में तकरार? विधायकों की बैठक में नहीं गए शिवपाल, कहा- मुझे नहीं बुलाया

चाचा शिवपाल यादव के साथ समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव. (फाइल फोटो)

चाचा शिवपाल यादव के साथ समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव. (फाइल फोटो)

UP Politics: जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव सपा विधायक दल के नेता चुने जा सकते हैं. यह संभावना इसलिए सबसे प्रबल है क्यो ...अधिक पढ़ें

लखनऊ. सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के चाचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने समाजवादी पार्टी से विद्रोह कर दिया है. शनिवार को राजधानी लखनऊ में होने वाली नवनिर्वाचित विधायकों की पहली बैठक में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने उन्हें नहीं बुलाया. न्यूज18 से बातचीत में शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि सभी विधायकों को पार्टी कार्यालय से फोन किया गया, लेकिन मुझे कोई फोन नहीं आया. उन्होंने कहा कि मैं समाजवादी पार्टी के विधायकों की बैठक में नहीं जा रहा हूं. मैं अब लखनऊ से सीधा इटावा जा रहा हूं. शिवपाल सिंह यादव ने अगले कदम पर कहा कि जल्द ही आपको बताऊंगा. माना जा रहा है कि शिवपाल सिंह यादव के इस बयान से गठबंधन की गांठ खुलती दिख रही है. यूपी में सपा की हार को लेकर एक सवाल पर भी शिवपाल सिंह यादव ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

बता दें अखिलेश यादव, शनिवार को सपा के विधायकों के साथ मीटिंग कर रहे हैं. माना जा रहा है कि इसी बैठक में विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के नाम पर फैसला हो जाएगा. जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव सपा विधायक दल के नेता चुने जा सकते हैं. यह संभावना इसलिए सबसे प्रबल है क्योंकि उन्होंने पिछले दिनों आजमगढ़ के सांसद पद से इस्तीफा दे दिया था. हालांकि पहले कहा जा रहा था कि शिवपाल सिंह यादव या अन्य नेता सदन में विधायक दल का नेता बनाने की चर्चा थी. वहीं इस बार चुनाव में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया और वह 125 सीटों पर जीत दर्ज करने में सफल रही है.

Yogi Sarkar 2.0 : यूपी के 15 करोड़ लोगों को योगी सरकार का पहला गिफ्ट, अगले 3 महीनों तक मिलता रहेगा मुफ्त राशन

आपके शहर से (लखनऊ)

फिलहाल लोकसभा से सांसद के पद से इस्तीफा देने के बाद अखिलेश ने यूपी में रहकर मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाने का फैसला किया है. हालांकि आज ये तय हो जाएगा कि वह नेता विधायक दल बनते हैं या फिर किसी अन्य नेता को इस पर नियुक्त करते हैं. लेकिन इतना तय है कि अखिलेश यादव राज्य में सक्रिय होकर अगले पांच साल तक राज्य सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे. वहीं अखिलेश यादव ने अब 2027 के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए रणनीति में बदलाव किया है.

Tags: Akhilesh yadav, CM Yogi, Samajwadi Party समाजवादी पार्टी, Shivpal singh yadav, UP news, UP Politics Big Update, Uttar pradesh assembly election result

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें