अपना शहर चुनें

States

होर्डिंग पॉलिटिक्‍स: अखिलेश ने सरकार पर साधा निशाना, बोले- ना दलील, ना वकील और बना दिया अपराधी

सपा प्रमुख अखिलेश यादव (File Photo)
सपा प्रमुख अखिलेश यादव (File Photo)

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने भाजपा सरकार द्वारा लखनऊ में सीएए (CAA) प्रदर्शनकारियों के होर्डिंग्स लगाए जाने पर कड़ा विरोध जताया है. उन्‍होंने कहा कि इन दिनों ‘भाजपा सरकार' एक पक्षीय विरोध को कुचलने का काम कर रही है.

  • Share this:
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने सीएए (CAA) प्रदर्शनकारियों के होर्डिंग्स लगाए जाने पर कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार (BJP Government) नागरिकों के संविधान से प्राप्त अधिकारों पर कुठाराघात करने पर तुल गई है. किसी भी लोकतांत्रिक सरकार का यह काम नहीं हो सकता है कि वह अपने नागरिकों को संविधान प्रदत्त अधिकारों से वंचित करे और सार्वजनिक रूप से उनको बिना अदालती निर्णय के अपराधी घोषित कर दे. साथ ही उन्‍होंने कहा कि इन दिनों ‘भाजपा सरकार' राजधानी लखनऊ में एक पक्षीय विरोध को कुचलने का काम कर रही है.

ना दलील, ना वकील और बना दिया अपराधी- अखिलेश यादव
अखिलेश यादव ने लिखित में जारी बयान में कहा है कि भाजपा राज में पुलिस ने लखनऊ में होर्डिंग, पोस्टरों के जरिए सार्वजनिक तौर पर करीब 50 से ज्यादा नागरिकों के फोटो लगाकर उनकी पहचान कराने को कहा है. चैराहों पर इस तरह का प्रदर्शन किसी भी तरह नैतिक नहीं ठहराया जा सकता है. किसी को ‘संदिग्ध‘ मानकर उसको बिना दलील, बिना वकील के ही सीधे-सीधे अपराधी की तरह प्रचारित कर देना कौन सी लोकतांत्रिक व्यवस्था है? इस तरह की छूट से तो भाजपा सरकार कभी भी कहीं भी किसी का भी उत्पीड़न कर सकती है. इससे आक्रोशित जनता अगर भाजपा नेताओं के असली चेहरे की फोटो वाली होर्डिंग लगा देगी तो भाजपा क्या करेगी? वह सच्चाई को कैसे छुपाएगी? भाजपा को राजनीति में मर्यादित आचरण करना सीखना चाहिए.

भाजपा लोकतंत्र को डराना अपना धर्म मानती है
सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ने आगे कहा कि भारत में संविधान से ही लोकतांत्रिक व्यवस्था लागू है. भाजपा का लोकतंत्र में भी विश्वास नहीं है. असहमति का अधिकार भारतीय संविधान से प्राप्त है, लेकिन भाजपा तो लोकतंत्र की आवाज को ही बंद करना चाहती है. करीब 24 हत्या के बाद यह टिप्पणी कि जो भी सड़क पर आएगा उसको तो मरना ही है भाजपा नेतृत्व की संवेदनहीनता का परिचय देता है. यकीनन भाजपा सरकार संवाद के बजाय तानाशाही रवैया अपनाने का काम कर रही है. लोकतंत्र लोकलाज से चलता है, लेकिन भाजपा को इसकी कतई फिक्र नहीं. सभी कायदे कानूनों को ताक पर रखकर मनमाने तरीके से जनसामान्य से पेश आना उनकी आदत हो गई है. नागरिक अधिकारों को कुचलने के लिए भाजपा सत्ता का दुरूपयोग करने में कोई संकोच नहीं करती है. भाजपा के कारनामों को जनता कभी बर्दाश्त नहीं कर सकती.



 

ये भी पढ़ें-

वाराणसी में मना अनोखा उत्सव, चिता की राख के साथ काशी ने खेली होली

 

उपद्रवियों के पोस्टर: रिटायर्ड IPS दारापुरी बोले- ठोकेंगे मानहानि का केस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज