लाइव टीवी

Lockdown 4.0: अखिलेश का BJP पर आरोप, प्रवासी मजदूरों की 'मजबूरी' में भी अपना हित देख रही है सरकार
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 20, 2020, 9:03 PM IST
Lockdown 4.0: अखिलेश का BJP पर आरोप, प्रवासी मजदूरों की 'मजबूरी' में भी अपना हित देख रही है सरकार
प्रवासी मजदूरों को लेकर अखिलेश यादव ने यूपी सरकार पर साधा निशाना (file photo)

उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Government) पर कोरोना संकट के दौर में प्रवासी मजदूरों के सहारे राजनीतिक हित साधने का आरोप लगाया है.

  • Share this:
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बुधवार को कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Government) कोरोना संकट के साथ मजदूरों की घर पहुंचने की व्याकुलता को भी अपने राजनीतिक स्वार्थ साधन के लिए इस्तेमाल करने में संकोच नहीं कर रही है. अखिलेश ने एक बयान में कहा कि प्रदेश में दिन-रात श्रमिकों की दुर्दशा की दर्दनाक कहानी सुनकर दिल दहल जाता है. रोज ही वे दुर्घटनाओं के शिकार होकर जानें गंवा रहे हैं. इस सबसे उदासीन भाजपा सरकार ने सभी मानवीय मूल्यों को रौंद दिया है.

अखिलेश यादव ने लगाया ये आरोप
अखिलेश यादव ने कहा कि समझ में नहीं आता कि जब सरकारी, निजी और स्कूलों की पचासों हजार बसें खड़े-खड़े धूल खा रही हैं तो प्रदेश की सरकार श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए इन बसों का इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही है? सरकार की हठधर्मिता बहुत भारी पड़ रही है. जबकि उन्‍होंने कांग्रेस का नाम लिए बिना कहा, 'जो मदद को हाथ बढ़ते हैं, उनको झटक देने का अमानवीय बर्ताव भाजपा का आचरण बन गया है.' साथ ही उन्होंने कहा कि यह भाजपा सरकार की नौटंकी नहीं तो क्या है कि वह बहाने बनाकर श्रमिकों के घर पहुंचने में अवरोधक बन रही है. भूखे-प्यासे श्रमिक, महिलाएं, बच्चे भयंकर गर्मी में नारकीय यातना भोग रहे हैं.

भाजपा को खुद देना चाहिए फिटनेस सर्टिफिकेट



अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार को वस्तुतः स्वयं इस बात का फिटनेस सर्टिफिकेट देना चाहिए कि क्या वह इस बदहाली में देश-प्रदेश का शासन-प्रशासन चलाने लायक है? देश-विदेश में भारत की छवि का ढिंढोरा पीटने वाले कहां हैं? सपा मुखिया ने कहा कि भाजपा सरकार की गरीब और श्रमिक विरोधी नीतियों का ही फल है कि रोजाना ही सड़क हादसों में श्रमिकों की जानें जा रही हैं. औरैया में मृतकों के साथ भाजपा सरकार के अंसेवदनशील बर्ताव को दुनिया जान चुकी है. उन्होंने कहा कि इटावा में ट्रक की चपेट में आकर छह किसानों की मौत हो गई. जबकि कानपुर में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर हुई दुर्घटना में श्रमिक के बच्चे की मौत हो गई और 12 लोग घायल हो गए. आजमगढ़ के अतरौलिया क्षेत्र में हाईवे पर मऊ निवासी दो छात्रों सहित तीन लोगों की मृत्यु हो गई. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पुलिस कहां गश्त लगा रही है और आला अफसर कहां चौकसी बरत रहे हैं? जब अधिकारी मुख्यमंत्री की बात ही नहीं सुनते हैं तो इस राज्य का क्या होगा?



सपा कार्यकर्ताओं और नेताओं को दिया ये आदेश
अखिलेश ने सपा कार्यकर्ताओं और नेताओं को पुनः निर्देश दिया है कि वे भाजपा के लोगों की बदजुबानी पर ध्यान न देकर श्रमिकों, बेहाल गरीबों की आवाज को आवाज देने से न डिगें, न भटकें. सभी समाजवादी सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करें और जनता को भाजपा के कारनामों से परिचित भी कराते रहें.

ये भी पढ़ें

नोएडा से बिहार-UP के लिए 21 मई को जाएंगी 7 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 20, 2020, 8:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading