लाइव टीवी

अखिलेश यादव ने गृहमंत्री अमित शाह की लखनऊ रैली को बताया 'फ्लॉप शो'
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 21, 2020, 11:55 PM IST
अखिलेश यादव ने गृहमंत्री अमित शाह की लखनऊ रैली को बताया 'फ्लॉप शो'
अखिलेश ने कहा बीजेपी को तानाशाही वाली पार्टी बताया (फ़ाइल तस्वीर)

अखिलेश (Akhilesh Yadav) ने अपने बयान में कहा कि 'भाजपा (BJP) नेता असहिष्णुता को ही अपनी पहचान बनाने में लग गए हैं. यह कहना कि हर हाल में हम CAA,NRC,NPR को लागू करेंगे जताता है कि भाजपा की मंशा अपने बहुमत के रोड रोलर से जनता को कुचलने का तानाशाही कदम उठाने की है'.

  • Share this:
लखनऊ. CAA-NRC-NPR को लेकर देश भर में हो रहे प्रदर्शनों के बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि 'अपनी जन-विरोधी नीतियों के चलते भाजपा निरंतर अलोकप्रिय होती जा रही है. सीएए और एनआरसी पर देशभर में असंतोष और जनाक्रोश का प्रदर्शन हो रहा है. इससे घबरा कर भाजपा नेतृत्व ने अब जनजागरण रैली और पदयात्रा के कार्यक्रमों के आयोजनों में अपनी ताकत झोंक दी है.

अखिलेश यादव ने कहा कि "आज लखनऊ में केंद्रीय गृहमंत्री की रैली के फ्लॉप शो में. उनके भाषण में उनकी हताशा साफ दिख रही थी जिसे छुपाने के लिए ही वे अहंकार की बोली बोल रहे थे." अखिलेश यादव ने BJP को लोकतंत्र की मूलभावना से खिलवाड़ करने वाली पार्टी बताया. अखिलेश ने अपने बयान में कहा कि 'भाजपा नेता असहिष्णुता को ही अपनी पहचान बनाने में लग गए हैं. यह कहना कि हर हाल में हम सीएए, एनआरसी, एनपीआर को लागू करेंगे जताता है कि भाजपा की मंशा अपने बहुमत के रोड रोलर से जनता को कुचलने का तानाशाही कदम उठाने की है'. आगे बोलते हुए अखिलेश ने कहा 'भाजपा-आरएसएस का यह एजेण्डा चलने वाला नहीं है. वे व्यर्थ ही गांधीजी को उद्धृत कर जनता को भरमाने की साजिश कर रहे हैं. गांधीजी देश में भाजपा की तरह नफरत की राजनीति नहीं करते थे. समाज को बांटने की बात वे स्वप्न में भी नहीं सोच सकते थे.'

देश के आर्थिक हालातों के पेश किए आंकड़े!
अखिलेश यादव ने अपने लिखित बयान में कहा कि "सच तो यह है कि देश की अर्थव्यवस्था गम्भीर संकट के दौर से गुजर रही है. मंदी की छाया गहरी होती जा रही है. नोटबंदी-जीएसटी ने उद्योग-धंधे चौपट कर दिए हैं. एसबीआई रिसर्च रिपोर्ट बताती है कि एक साल पहले की तुलना में 16 लाख नौकरियां कम होने जा रही हैं. राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो बताता है कि सन् 2018 में हर दिन औसतन 35 बेरोजगार और 36 स्वरोजगार वालों ने आत्महत्याएं की. इन दोनों श्रेणियों के 26,085 लोगों ने अपनी जाने गंवाई. देश में कुल 1,34,516 लोगों ने फांसी लगाई है. इनमें कृषि क्षेत्र से 10,349 लोगों ने आत्महत्या की" .

ये भी पढ़ें- लखनऊ रैली में विपक्ष पर गरजे गृहमंत्री अमित शाह, बोले- जिसे विरोध करना है करे, CAA नहीं होगा वापस


शाहीन बाग की तर्ज पर लखनऊ में शुरू प्रदर्शन बनेगा 'पुलिस कमिश्नरी सिस्टम' का पहला लिटमस टेस्ट

CAA विरोध: लखनऊ के घंटाघर पहुंचीं अखिलेश यादव की बेटी टीना, फोटो वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 11:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर