समाजवादी पार्टी के ‘मुलायम प्लान’ पर लौट रहे अखिलेश यादव!

पहले विधानसभा चुनाव और अब लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त खाने के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Paty) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अब अपने पिता मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) की राहों पर लौटते दिख रहे हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 30, 2019, 5:15 PM IST
समाजवादी पार्टी के ‘मुलायम प्लान’ पर लौट रहे अखिलेश यादव!
सपा मुखिया अखिलेश यादव ने पार्टी में तेजी से बदलाव शुरू कर दिया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 30, 2019, 5:15 PM IST
पहले विधानसभा चुनाव और अब लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त खाने के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Paty) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अब अपने पिता मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) की राहों पर लौटते दिख रहे हैं. वह पार्टी से दूरी बनाने वाले उन दिग्गजों की शरण में जा रहे हैं, जिन्होंने कभी मुलायम के साथ समाजवादी झंडा बुलंद किया. इसी क्रम में अखिलेश यादव दिग्गज समाजवादी नेता बेनी प्रसाद वर्मा का हाल जानने उनके घर पहुंचे. बेनी प्रसाद वर्मा से उनकी 45 मिनट अकेले में बातचीत हुई. माना जा रहा है कि बाराबंकी जैदपुर सीट पर होने वाले उपचुनाव को लेकर ये बैठक हुई.

उधर पार्टी में चर्चा तेज है कि कई पुराने नेताओं की पार्टी में वापसी हो सकती है. इनमें 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान सपा से बसपा चले गए कई नेताओं के नाम की भी सुगबुगाहट है. जानकारी के अनुसार कई पूर्व सपा नेताओं की सपा अध्यक्ष से मुलाकात भी हो चुकी है.

संगठन में भारी फेरबदल में जुटे अखिलेश

वैसे अखिलेश यादव इन दिनों एक्शन मोड में हैं. उन्होंने पहले समाजवादी पार्टी की सभी इकाइयों को भंग कर दिया. बस यूपी प्रदेश अध्यक्ष अभी बरकरार रहेंगे. अखिलेश यादव ने तत्काल प्रभाव से पार्टी के सभी युवा संगठनों, छात्र सभा, महिला संगठन और सभी प्रकोष्ठों के राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष सहित राष्ट्रीय, राज्य कार्यकारिणी भी भंग कर दी है.

इसके बाद अखिलेश यादव ने पार्टी की दिल्ली इकाई को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया. सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव (Ramgopal Yadav) की तरफ से इस संबंध में पत्र जारी किया गया.
वैसे अखिलेश यादव के इस एक्शन का इंतजार राजनीतिक विश्लेषक लोकसभा चुनाव में मिली पार्टी को हार के बाद से ही कर रहे थे. चुनाव बाद अखिलेश ने मीडिया विंग को भंग कर इसका संकेत भी दिया था लेकिन उसके बाद कोई एक्शन सामने नहीं आया. यही नहीं तमाम मुद्दों पर समाजवादी पार्टी आलाकमान ने चुप्पी ही साधे रखी, इससे धीरे-धीरे संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं में असंतोष की खबरें आने लगी थीं.

राजभर से मुलाकात और गठबंधन को लेकर सुगबुगाहट
Loading...

संगठन की इकाइयां भंग करने के बाद योगी सरकार में पूर्व मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर से पिछले दिनों अखिलेश यादव की मुलाकात चर्चा में रही. सपा मुख्यालय पर दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत हुई, जिसके बाद गठबंधन को लेकर कयासों का बाजार गर्म है. अटकलें लगाई जा रही हैं कि सूबे में होने वाले आगमी विधानसभा उपचुनाव में गठबंधन को लेकर दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई है.

कई दिग्गजों ने किया सपा ज्वाइन

इसके बाद अखिलेश यादव ने बसपा के पूर्व राज्यमंत्री समेत अन्य दलों के नेता ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन कराई. इस दौरान फूलन सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष गोपाल निषाद भी अपने संगठन के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए. इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा, "बहुत खुशी है कि बहुत पुराने नेता, समाज मे सबसे कमजोर लोगों की आवाज उठाने वाले भूरा राम समाजवादी पार्टी में शामिल हो रहे हैं. उनका स्वागत है. कुछ अंदर हैं और बहुत से बाहर भी हैं. भूरा जी का लंबा राजनीतिक जीवन और संघर्ष है. भूरा जी के साथ उनके साथ तमाम लोग शामिल हों रहे हैं. बसपा से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी. बलिया से हैं. संगठन को कैसे मजबूत बनाया जाय उसके लिए हमेशा काम करते रहे हैं.”

ये भी पढ़ें:

यूपी में बीजेपी का ‘दिल मांगे मोर’, सूबे को विपक्षमुक्त करने का बनाया ये प्लान

टूंडला विधानसभा उपचुनाव के लिए सपा प्रत्याशी का ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 4:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...