• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • बेमेल इश्क से सज़ा-ए-मौत तक: जानें फांसी के फंदे तक पहुंची पहली महिला शबनम की कहानी

बेमेल इश्क से सज़ा-ए-मौत तक: जानें फांसी के फंदे तक पहुंची पहली महिला शबनम की कहानी

परिवार के सात सदस्यों को मौत के घाट उतारने वाली शबनम को  फांसी देने की तैयारी है.

परिवार के सात सदस्यों को मौत के घाट उतारने वाली शबनम को फांसी देने की तैयारी है.

Execution of Shabnam: अमरोहा जिले में 2008 में हुई थी खूनी वारदात. प्रेम में अंधी बेटी शबनम ने माता-पिता और 10 माह के मासूम भतीजे समेत परिवार के सात लोगों को कुल्हाड़ी से गला काट कर मौत की नींद सुला दिया था.

  • Share this:

    लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अमरोहा (Amroha) जिले से हसनपुर क्षेत्र के गांव के बावनखेड़ी में रहने वाले शिक्षक शौकत अली की इकलौती बेटी शबनम (Shabnam) ने 14 अप्रैल, 2008 की रात को प्रेमी सलीम के साथ मिलकर जो खूनी खेल खेला था, उससे पूरा देश हिल गया था. शबनम और सलीम की बेमेल इश्क की खूनी दास्तां करीब 13 साल बाद फांसी के नजदीक पहुंचती दिख रही है. प्रेम में अंधी बेटी ने माता-पिता और 10 माह के मासूम भतीजे समेत परिवार के सात लोगों को कुल्हाड़ी से गला काट कर मौत की नींद सुला दिया था. सुप्रीम कोर्ट से पुनर्विचार याचिका खारिज होने के बाद अब शबनम की फांसी की सजा को राष्ट्रपति ने भी बरकरार रखा है. ऐसे में अब उसका फांसी पर लटकना तय हो गया है. मथुरा जेल में महिला फांसीघर में शबनम की फांसी की तैयारी भी शुरू हो गई है.

    गौरतलब है कि मथुरा जेल में 150 साल पहले महिला फांसीघर बनाया गया था. लेकिन आजादी के बाद से अब तक किसी भी महिला को फांसी की सजा नहीं दी गई. वरिष्ठ जेल अधीक्षक शैलेंद्र कुमार मैत्रेय ने बताया कि अभी फांसी की तारीख तय नहीं है, लेकिन हमने तयारी शुरू कर दी है. डेथ वारंट जारी होते ही शबनम को फांसी दे दी जाएगी.

    अलग बिरादरी का होना बनी मुसीबत

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज