Home /News /uttar-pradesh /

Fake Teacher Case: कहीं मदरसों में भी तो नहीं 'अनामिका', योगी सरकार करेगी जांच

Fake Teacher Case: कहीं मदरसों में भी तो नहीं 'अनामिका', योगी सरकार करेगी जांच

योगी सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है.(File Photo)

योगी सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है.(File Photo)

उत्तर प्रदेश के राज्य अनुदानित अरबी फारसी मदरसों के शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच कराए जाने के सम्बंध में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग को निर्देश जारी कर दिया गया है.

लखनऊ. शिक्षा विभाग (Education Department) में अनामिका शुक्ला के नाम (Anamika Shukla Case) पर शिक्षक फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद तमाम विभागों में भी भ्र्ष्टाचार की शिकायतें आने लगी हैं. लगातार विभागों पर जांच की आंच बढ़ती जा रही है. इसी क्रम में अब योगी सरकार (Yogi Government) ने उत्तर प्रदेश के 558 अनुदानित मदरसों में हजारों मदरसा शिक्षकों के अंक पत्रों और अनुभव प्रमाण पत्रों की जांच के लिए कार्य योजना बनाने के आदेश दिए हैं. उत्तर प्रदेश के राज्य अनुदानित अरबी फारसी मदरसों के शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच कराए जाने के सम्बंध में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग को निर्देश जारी कर दिया गया है.

अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के निदेशक जेपी सिंह ने मदरसा शिक्षा परिषद के रजिस्ट्रार आरपी सिंह को पत्र लिखकर प्रदेश के 558 मदरसों की जांच के लिए कार्ययोजना बनाकर शासन को उपलब्ध कराने के आदेश दिए हैं. विभागों में फैले भ्रष्टाचार पर योगी सरकार गंभीर प्रहार कर रही है. अपनी मुहिम के तहत अब ऐसे शिक्षकों पर सरकार ने कार्रवाई का मन बनाया है जिनके तार फर्जीवाड़ा गैंग से जुड़े हैं.

अंक पत्रों की होगी जांच

सरकार ने मदरसा शिक्षा परिषद से प्रदेश के 558 अनुदानित मदरसों के हजारों शिक्षकों के अंक पत्रों की जांच के लिए कार्ययोजना बनाना शुरू कर दिया है ताकि विभागों में फैले भ्रष्टाचार पर रोक लगाई जा सके और फर्जी  अंकपत्र वाले शिक्षकों की पहचान करके नियमानुसार कार्रवाई की जा सके. हाल के ही दिनों में यूपी में अनामिका शुक्ला फर्जीवाड़ा खूब सुर्खियों का सबब बना था जिस्से सबक लेकर सरकार ने सभी शिक्षकों के साथ मदरसा शिक्षकों के भी अंकपत्रों की जांच के आदेश दिए है. पत्र में कार्ययोजना बनाने कर एक सप्ताह के भीतर जांच रिपोर्ट उपलब्ध कराने के आदेश दिए गए हैं.

ये भी पढ़ें: COVID-19 Update: दिल्ली में कोरोना के 3390 नए केस, 24 घंटे में 64 मरीजों की मौत

पुलिस ने दर्ज किया केस

मालूम हो कि बेसिक शिक्षा विभाग को चकमा देकर बड़ा फर्जीवाड़ा मामले में कर्नलगंज थाने में अनामिका शुक्ला के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. एफआईआर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा की तहरीर पर लिखी गई है. पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. बताया जा रहा है कि कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में कार्यरत जो शिक्षिका अनामिका शुक्ला चर्चा में है, उस नाम से प्रयागराज के सोरांव के गोहरी स्थित कस्तूरबा बालिका विद्यालय में भी महिला चार महीने तैनात रही. मामले की तह तक जाने के लिए उसके शैक्षिक और अन्य अभिलेख खंगाले जा रहे हैं, ताकि पता चले कि इस प्रकरण में उसकी क्या भूमिका है.

 

Tags: CM Yogi Aditya Nath, Crime report, Job with Fake Degree, UP police, Uttar Pradesh Government, Uttar pradesh news, Uttar Pradesh Police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर