COVID-19: लखनऊ का आनंदी वाटर पार्क कोविड केयर सेंटर में हुआ तब्दील
Lucknow News in Hindi

COVID-19: लखनऊ का आनंदी वाटर पार्क कोविड केयर सेंटर में हुआ तब्दील
लखनऊ का आनंदी वाटर पार्क कोविड केयर सेंटर में हुआ तब्दील (file photo)

अमित मोहन प्रसाद (Amit Mohan Prasad) ने बातया कि निजी अस्पतालों को भी कोविड हॉस्पिटल के रूप में काम करने की अनुमति सरकार द्वारा पहले ही दी जा चुकी है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में भी पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण की रफ्तार में उछाल देखा जा रहा है. उधर, राजधानी लखनऊ (Lucknow) स्थित आनंदी वाटर पार्क (Anandi Water Park) को कोविड केयर सेंटर में तब्दील कर दिया गया है. स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद के निर्देश पर आनंदी वाटर पार्क को L1 लेवल का कोविड केयर सेंटर बनाया गया है. जानकारी के अनुसार L1 हॉस्पिटल के तौर पर आनंदी वाटर पार्क काम करेगा. यहां सिंगल बेड 1600 और डबल बेड ₹2000 पर उपलब्ध रहेगा. यहां बिना लक्षण वाले कोविड पॉजिटिव मरीजों को रखा जाएगा. इस दौरान आनंदी वाटर पार्क में संक्रमित मरीजों को खुद इलाज खर्च देना होगा. साथ ही आनंदी वाटर पार्क में रहने का भी किराया देना होगा.

अमित मोहन प्रसाद ने बातया कि निजी अस्पतालों को भी कोविड हॉस्पिटल के रूप में काम करने की अनुमति सरकार द्वारा पहले ही दी जा चुकी है. कोविड अस्पताल के रूप में काम कर रहे निजी अस्पतालों द्वारा लिए जाने वाले शुल्क की दर भी पूर्व से ही निर्धारित की जा चुकी है. वर्तमान में प्रदेश में अनेक निजी अस्पताल कोविड अस्पताल के रूप में कार्य कर रहे है. प्रदेश में एल-1, एल-2, एल-3 अस्पतालों में 1.5 लाख बेड उपलब्ध हैं. अपर मुख्य सचिव ने बताया कि डोर-टू-डोर सर्विलांस के दौरान प्रदेश में लगभग 1.75 लाख लोगों में बुखार, खांसी, जुकाम एवं सांस लेने में तकलीफ आदि के लक्षण मिले हैं, इसमें से 40 हजार लोगों के सैम्पल लेकर जांच की जा रही है.

ये भी पढे़ं- मां-बेटी आत्मदाह केस: आपराधिक साजिश में अमेठी का MIM नेता गिरफ्तार, कांग्रेस नेता सहित 4 के खिलाफ FIR

बता दें कि पिछले चौबीस घंटे में 1700 से ज्यादा मामले सामने आए हैं. अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि यूपी में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 1,733 नए मामले सामने आए हैं. वर्तमान में 16,445 कोरोना संक्रमण के मामले एक्टिव हैं, अब तक 27,634 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज