होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /लखीमपुर खीरी केस: केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा पर चलेगा मुकदमा, नाम हटाने की अपील खारिज

लखीमपुर खीरी केस: केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा पर चलेगा मुकदमा, नाम हटाने की अपील खारिज

लखीमपुर खीरी केस में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं. (फाइल फोटो)

लखीमपुर खीरी केस में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं. (फाइल फोटो)

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं. किसानों की हत्या के आरोप में अब उन पर ...अधिक पढ़ें

लखनऊ. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं. किसानों की हत्या के आरोप में अब उन पर मुकदमा चलेगा. उन पर आरोप है कि उन्होंने लखीमपुर खीरी में आंदोलन के वक्त किसानों पर एसयूवी चढ़ा दी थी. यह घटना पिछले साल 3 अक्टूबर को हुई थी. दरअसल, आरोपी आशीष ने कोर्ट से अपील की थी कि उनका नाम इस मामले में हटा दिया जाए. लेकिन कोर्ट ने उनकी अपील को खारिज कर दिया. कोर्ट उनके साथ-साथ सभी आरोपियों पर मंगलवार को आरोप तय करेगी.

गौरतलब है कि, पिछले साल 3 अक्टूबर को किसान कृषि कानूनों के खिलाफ लखीमपुर खीरी में आंदोलन कर रहे थे. आरोप है कि उस वक्त आशीष मिश्रा ने अपनी महिंद्रा थार एसयूवी किसानों पर चढ़ा दी थी. इसमें चार किसानों की मौत हो गई थी. इसके बाद भड़के किसानों ने भी ड्राइवर और दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की कथित रूप से हत्या कर दी थी.

बताया जाता है कि लखीमपुर खीरी कांड के कुछ दिनों पहले ही आशीष मिश्रा के पिता गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ने किसानों को आंदोलन जल्द खत्म करने के लिए धमकाया था. उन्होंने कहा था, ‘अगर आंदोलन खत्म नहीं हुआ तो वह दो मिनट में किसानों को देख लेंगे.’

आपके शहर से (लखनऊ)

इसके बाद इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने हस्तक्षेप किया और पुलिस ने आशीष मिश्रा को गिरफ्तार किया. इस साल 18 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया और उनसे एक हफ्ते में सरेंडर करने को कहा. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कहा था कि पीड़ितों की इलाहाबाद हाईकोर्ट में उचित और प्रभावी सुनवाई नहीं हुई. इस मामले में सबूत भी कम दिखाई दिए.

Tags: Ashish Mishra, Lakhimpur Kheri case, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें