लाइव टीवी

अयोध्या मामला: बाबरी मस्जिद की जमीन किसी को नहीं दी जाएगी- AIMPLB

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 12, 2019, 11:55 PM IST
अयोध्या मामला: बाबरी मस्जिद की जमीन किसी को नहीं दी जाएगी- AIMPLB
योगी सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मोहसिन रजा ने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक पर सवाल खड़ा करते हुए कई गंभीर आरोप लगाए हैं ( बाबरी मस्जिद की File Photo )

अयोध्‍या मामले (Ayodhya Land Dispute case) को लेकर एआईएमपीबीएल (AIMPLB) ने कहा कि इस मसले का हल मध्यस्थता के जरिए निकालने के लिए पूरी कोशिश की लेकिन अब इसका समाधान मध्यस्थता के जरिए संभव नहीं है.

  • Share this:
लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में चल रहे अयोध्‍या मामले (Ayodhya Land Dispute case) को लेकर ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड/AIMPLB (All India Muslim Personal Law Board) ने शनिवार को एक बैठक की. इस बैठक में ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) को लेकर मुस्लिम समुदाय (Muslim) के मूल रुख को दोहराने का फैसला लिया है. एआईएमपीबीएल ने कहा कि जो भूमि मस्जिद के लिए समर्पित है, उसे बदला या स्थानांतरित नहीं किया जा सकता है. अब कोई भी मुस्लिम या वक्फ भूमि को हस्तांतरित नहीं कर सकता है.

अब अयोध्या मसले का समाधान मध्यस्थता के जरिए संभव नहीं
एआईएमपीबीएल (AIMPLB) ने कहा कि इस मसले का हल मध्यस्थता के जरिए निकालने के लिए पूरी कोशिश की लेकिन अब अयोध्या मसले का समाधान मध्यस्थता के जरिए संभव नहीं है. एआईएमपीबीएल ने फैसला मुसलमानों के पक्ष में आने का यकीन जताते हुए कहा कि समान नागरिक संहिता न सिर्फ मुस्लिमों के लिए बल्कि अनेक गैर-मुस्लिम बिरादरियों के लिए भी अव्‍यावहारिक है.

अयोध्‍या मामला, समान नागरिक संहिता और तीन तलाक पर हुई चर्चा

बोर्ड के अध्‍यक्ष मौलाना राबे हसनी नदवी की अध्‍यक्षता में लखनऊ स्थित नदवतुल उलमा में हुई बोर्ड की एक्‍जीक्‍यूटिव कमेटी की महत्‍वपूर्ण बैठक में अयोध्‍या मामला, समान नागरिक संहिता और तीन तलाक के अहम मुद्दों पर विस्‍तृत चर्चा हुई. ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की कार्यकारिणी की इस महत्‍वपूर्ण बैठक में महासचिव मौलाना वली रहमानी, उपाध्यक्ष फखरुद्दीन अशरफ किछौछवी, जमीयत उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी, मौलाना महमूद मदनी, जफरयाब जीलानी, मौलाना खालिद सैफुल्लाह रहमानी और मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली समेत तमाम कार्यकारिणी सदस्‍य मौजूद रहे. इस दौरान मीडिया को दूर रखा गया.

रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है सुप्रीम कोर्ट ने 17 अक्टूबर तक दलीलें रखने की समय सीमा तय की है. पहले यह समय सीमा 18 अक्टूबर थी. मामले की सुनवाई कर रहे पांच न्यायाधीशों की पीठ में जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस धनन्जय वाई चन्द्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल हैं. पीठ की अध्यक्षता सीजेआई रंजन गोगोई कर रहे हैं.

(रिपोर्ट- राजीव प्रकाश सिंह)
Loading...

ये भी पढ़ें-

राम मंदिर: हिंदुओं के केस जीतने पर बढ़ेगा सांप्रदायिक तनाव- मुस्लिम पक्षकार

रामलला के मुख्य पुजारी बोले- अयोध्या में एक बार फिर होगा त्रेता युग जैसा उत्सव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 7:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...