लाइव टीवी

अयोध्या : केंद्र ने राज्यों को सचेत रहने का दिया निर्देश, UP के लिए भेजे 4,000 जवान

भाषा
Updated: November 7, 2019, 6:44 PM IST
अयोध्या : केंद्र ने राज्यों को सचेत रहने का दिया निर्देश, UP के लिए भेजे 4,000 जवान
केंद्र ने यूपी समेत कई राज्यों को किया अलर्ट

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मंत्रालय ने अर्धसैनिक बलों (Paramilitary Force) की 40 कपंनियां राज्य में भेजी है.

  • Share this:


लखनऊ. राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद (Ram Mandir Babri Masjid) भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले से पहले केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से अलर्ट रहने और संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है. अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी. गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश और खासतौर पर अयोध्या में सुरक्षा तैनाती के लिए अर्धसैनिक बलों के 4,000 जवानों को भेजा है.


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एक आम परामर्श जारी किया गया है जिसमें उन्हें सभी संवेदनशील इलाकों में पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात करने को कहा गया है. साथ ही यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि देश में कहीं भी, कोई अप्रिय घटना न हो.



17 नवंबर से पहले आएगा फैसला
उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मंत्रालय ने अर्धसैनिक बलों की 40 कपंनियां राज्य में भेजी हैं. अर्धसैनिक बलों की एक कंपनी में करीब 100 जवान होते हैं. अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला 17 नवंबर से पहले आने की संभावना है.


ड्रोन कैमरों का भी लिया जा रहा है सहारा

Loading...

बता दें कि प्रशासन ने राज्य भर में सौहार्द्र बनाए रखने के लिए सुरक्षा को चाक-चौबंद किया है. असामाजिक तत्व किसी भी प्रकार की कोई अराजकता न फैला सकें इसलिए लगभर हर शहर के सभी प्रमुख चौराहों से लेकर धार्मिक स्थलों पर पुलिस बल की तैनाती तो की ही गई है, साथ ही कुछ जिलों में गतिविधियों पर पैनी नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरों (Drone camera) का भी सहारा लिया जा रहा है.


सोशल मीडिया पर भी है पैनी नजर
वहीं महोबा में भारी पुलिस बल के साथ पीएससी जवान भी जनपद की सुरक्षा में तैनात किए गए हैं. शहर के एसपी के निर्देश पर अराजक और असामाजिक तत्वों की सूची भी तैयार की गई है. पुलिस-प्रशासन की नजर सोशल मीडिया पर भी है. भड़काऊ पोस्ट या वायरल मैसेज को लेकर पुलिस कंट्रोल रूम के जरिए नजर रखी जा रही है.


बीते 24 घंटे में पुलिस प्रशासन ने तमाम धार्मिक संगठनों के साथ तकरीबन आधा दर्जन से अधिक पीस कमेटी की मीटिंग की है और सामाजिक सौहार्द्र बनाए रखने की अपील के साथ-साथ सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी है.


ये भी पढ़ें:


गोरखपुर: अयोध्या केस के मद्देनजर इंडो-नेपाल बॉर्डर पर बढ़ाई गई सुरक्षा
अयोध्या विवाद: बाबरी विध्वंस केस में क्या है 197-198 नंबर का संबंध?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 5:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...