लाइव टीवी

अयोध्या फैसला: सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन बोले- हम अपने स्टैंड पर कायम, AIMPLB के साथ जाने का सवाल ही नहीं

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 20, 2019, 12:09 AM IST
अयोध्या फैसला: सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन बोले- हम अपने स्टैंड पर कायम, AIMPLB के साथ जाने का सवाल ही नहीं
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के रिव्यू पिटीशन पर जाने के फैसले के सवाल पर उन्होंने कहा कि 'वो क्यों रिव्यू के लिए जा रहे हैं, इस पर हम कुछ नहीं कह सकते. (Demo Pic)

बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारुकी (Sunni Central Waqf Board chairman Zufar Farooqui) की News 18 से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि 'इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) और सुन्नी वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) दोनों ही फैसले से पहले ही कह चुके थे कि वह कोर्ट के फैसले को मानेंगे और पिटीशन के लिए नहीं जाएंगे.

  • Share this:
लखनऊ. अयोध्या फैसले (Ayodhya verdict) के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (All India Muslim Personal Law Board) ने मामले में रिव्यू पिटीशन (Review petition) दाखिल करने का मन बनाया है लेकिन बोर्ड के स्टैंड से अलग सुन्नी वक्फ बोर्ड (Sunni Waqf Board) ने कोई भी पिटीशन दायर करने से खुद को अलग कर लिया है. बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारूकी (Zufar farooqui) से इस मसले पर news18 ने खास बातचीत की.

News 18 के सवालों पर जुफर के जवाब
जुफर फारूकी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड अपने उसी स्टैंड पर कायम है कि हम कोई रिव्यू पिटीशन दाखिल नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, 'हमने 9 नवंबर को ही कहा था कि फैसले के बाद हम कोई रिव्यू पिटीशन दाखिल नहीं करेंगे और हम अपने इसी स्टैंड पर कायम है'. इसलिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के साथ जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता.

'वो क्यों रिव्यू के लिए जा रहे हैं, इस पर हम कुछ नहीं कह सकते'

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के रिव्यू पिटीशन पर जाने के फैसले के सवाल पर उन्होंने कहा कि 'वो क्यों रिव्यू के लिए जा रहे हैं, इस पर हम कुछ नहीं कह सकते. हमने पहले कहा था कि सुप्रीम कोर्ट से जो भी फैसला आएगा, हम उसे मानेंगे. इसलिए हम रिव्यू पिटिशन पर नहीं जा रहे हैं'.

बता दें, इकबाल अंसारी और सुन्नी वक्फ बोर्ड दोनों ही फैसले से पहले ही कह चुके थे कि वह कोर्ट के फैसले को मानेंगे और पिटीशन के लिए नहीं जाएंगे.

Ayodhya verdict,Sunni Central Waqf Board
सुन्नी वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ज़ुफर फ़ारूकी से news 18 की खास बातचीत

Loading...

5 एकड़ जमीन का क्या होगा ये 26 नवंबर की मीटिंग में तय होगा
अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से मिलने वाली 5 एकड़ जमीन का क्या किया जाएगा? या इस पर क्या निर्माण होगा? के सवाल पर जुफर कहते हैं कि इस मामले में कानूनी सलाह लेने के बाद आगे की कार्रवाई के लिए सोचा जाएगा. जिसके लिए 26 नवंबर को लखनऊ में बोर्ड की मीटिंग बुलाई गई है. जिसमें बोर्ड के सभी 8 मेंबर शामिल होंगे. उन्होंने कहा, 'इस मीटिंग में ही तय किया जाएगा कि आगे क्या करना है.'

अभी तय नहीं, जमीन पर मस्जिद बने या कुछ और
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को यह ताकीद की थी कि शरीयत में जमीन के बदले जमीन नहीं ली जा सकती इसलिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिए' इस सवाल पर जुफर फारूकी कहते हैं कि 'शरीयत की बात मैं नहीं जानता लेकिन सुन्नी वक्फ बोर्ड ही इस मामले में तय करेगा कि आगे क्या करना है'. उस 5 एकड़ जमीन पर तमाम तरह के निर्माण कराने के लिए हमारे पास सुझाव आ रहे हैं लेकिन इस पर ऑफिशियली अभी कुछ भी तय नहीं किया किया गया है कि उस पर मस्जिद बने या कुछ और.

उन्होंने कहा कि बोर्ड के तमाम दूसरे मेंबर्स से लगातार बातचीत की जा रही है लेकिन मामले में अंतिम निर्णय बोर्ड मीटिंग में सबकी राय के साथ लिया जाएगा. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड पर भी तंज कसते हुए जुफर फारूकी ने कहा कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुझे मुस्लिम पक्षकारों की मीटिंग के लिए नहीं बुलाया और न ही मुझे किसी तरह का कोई आमंत्रण दिया गया और तो और प्रेस कांफ्रेंस के बाद भी मुझसे किसी तरह की कोई बात नहीं की गई.

ये भी पढ़ें-

अयोध्या फैसले के बाद VHP निकालेगी राम बारात, पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी हो सकते हैं बाराती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 8:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...