Lucknow news

लखनऊ

अपना जिला चुनें

बाबरी विध्वंस केस: दोनों पक्षों की बहस पूरी, अब लिखा जाएगा जजमेंट, 30 सितंबर तक आना है फैसला

बाबरी विध्वंस केस: दोनों पक्षों की बहस पूरी, अब लिखा जाएगा जजमेंट, 30 सितंबर तक आना है फैसला

बाबरी विध्वंस मामले में बुधवार को सीबीआइ की विशेष अदालत ने सुनाया फैसला . (सांकेतिक फोटो)

Babri Demolition Case: 2 सितंबर से अदालत अपना फैसला लिखवाना शुरू करेगी. विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव ने आदेश दिया है कि निर्णय लिखवाने के लिए पत्रावली पेश किया जाए.

SHARE THIS:
लखनऊ. 6 दिसम्बर 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचा (Disputed Structure) को ढहाए जाने के आपराधिक मामले में मंगलवार को सीबीआई की विशेष अदालत (CBI Special Court) में बचाव व अभियोजन पक्ष की ओर से मौखिक बहस पूरी कर ली गई. अब सीबीआई की विशेष अदालत को इस मामले में 30 सितंबर तक अपना फैसला सुनाना है. 2 सितंबर से अदालत अपना फैसला लिखवाना शुरू करेगी. विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव ने आदेश दिया है कि निर्णय लिखवाने के लिए पत्रावली को उनके सामने पेश किया जाए.

इससे पहले मंगलवार को अदालत के समक्ष बचाव पक्ष की ओर से वरिष्ठ वकील मृदुल राकेश व्यक्तिगत रूप से अदालत में उपस्थित होकर अपनी मौखिक बहस पूरी की, जबकि वरिष्ठ वकील आईबी सिंह ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए अपने मुवक्किल आरएन श्रीवास्तव की ओर से मौखिक बहस की. उधर, दिल्ली से वकील महिपाल अहलूवालिया ने भी वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी की तरफ से मौखिक बहस की. अदालत में बचाव पक्ष की ओर से वकील विमल कुमार श्रीवास्तव, अभिषेक रंजन व केके मिश्रा भी उपस्थित थे. दूसरी ओर सीबीआई की ओर से वकील पी चक्रवर्ती, ललित कुमार सिंह व आरके यादव ने मौखिक बहस की.

बता दें कि बाबरी विध्वंस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रत्येक दशा में 30 सितंबर तक अपना निर्णय सुनाने का आदेश सीबीआई की विशेष अदालत को दे रखा है. लिहाजा मंगलवार को इस मामले की आखिरी सुनवाई पूरी होने के बाद मुमकिन है कि अब तय तारीख तक अदालत अपना फैसला सुना देगी.

49 FIR हुई थी दर्ज
गौरतलब है कि 6 दिंसबर 1992 को विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में कुल 49 एफआईआर दर्ज की गई थी. एक एफआईआर फैजाबाद के थाना राम जन्मभूमि में एसओ प्रियवंदा नाथ शुक्ला जबकि दूसरी एसआई गंगा प्रसाद तिवारी ने दर्ज कराई थी. शेष 47 एफआईआर अलग-अलग तारीखों पर अलग-अलग पत्रकारों व फोटोग्राफरों ने भी दर्ज कराए थे. 5 अक्टूबर, 1993 को सीबीआई ने जांच के बाद इस मामले में कुल 49 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था. इनमें से 17 की मौत सुनवाई के दौरान हो चुकी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP News Live Updates: यूपी के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी, अब तक 22 की मौत

UP News Live Updates: यूपी के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी, अब तक 22 की मौत

Uttar Pradesh News Live: विभाग की ओर से कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है. बारिश के साथ साथ 87 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के तेज झोंके भी चलेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 09:06 IST
SHARE THIS:

UP News Live Updates 17 September 2021: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के ज्यादातर इलाकों में हो रही मूसलाधार बारिश (Incessant Rain) ने आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है. शुक्रवार सुबह से प्रदेश के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी है. अलग-अलग जगहों पर मकान ढहने और दीवार गिरने की वजह से अब तक 22 लोगों की जान जा चुकी हैं, जबकि कई घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है.

यूपी में भारी बारिश को देखते हुए योगी सरकार ने दो दिन यानी की 17 और 18 सितंबर को प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज को बंद रखने का ऐलान कर दिया है. वहीं समाजवादी पार्टी ने कहा, उत्तर प्रदेश में भारी बारिश के चलते 50 लोगों की मृत्यु, हृदय विदारक घटना! मृतकों की आत्माओं को शांति दे भगवान. शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना. पीड़ित परिवारों को उचित मुआवज़ा प्रदान करे सरकार.

कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट
विभाग की ओर से कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है. बारिश के साथ साथ 87 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के तेज झोंके भी चलेंगे. जिन जिलों में बारिश जारी रहेगी, वह जिले हैं- अमेठी, अयोध्या, बाराबंकी, बहराइच, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, हरदोई, लखनऊ, उन्नाव, रायबरेली, कानपुर नगर, कानपुर देहात, औरैया, इटावा, कन्नौज, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, शाहजहांपुर, बरेली, पीलीभीत, बदायूं, कासगंज, एटा, मथुरा, अलीगढ़, बुलंदशहर और नोएडा.

Viral Fever and Dengu Update: बिहार समेत 4 राज्‍यों में वायरल फीवर और डेंगू का कहर, अब तक 100 की मौत

Viral Fever and Dengu Update: बिहार समेत 4 राज्‍यों में वायरल फीवर और डेंगू का कहर, अब तक 100 की मौत

Viral Fever & Dengue Update: बिहार के साथ ही मध्‍य प्रदेश, हरियाणा और उत्‍तर प्रदेश में वायरल फीवर और डेंगू लोगों पर कहर बनकर टूटा है. उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश इससे सबसे ज्‍यादा प्रभावित हुए हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 08:53 IST
SHARE THIS:

पटना. इन दिनों देश के कई राज्‍यों में वायरल फीवर और डेंगू का कहर बरप रहा है. सैंकड़ों की संख्‍या में लोग अस्‍पताल में भर्ती हैं, जबकि अभी तक की रिपोर्ट के अनुसार बिहार के साथ ही मध्‍य प्रदेश, उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा में इन दोनों बीमारियों के कारण तकरीबन 100 लोगों की मौत हो चुकी है. बच्‍चे भी बड़ी संख्‍या में इसके शिकार हो रहे हैं. इससे स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की चिंताएं भी बढ़ गई हैं.

उत्‍तर प्रदेश के फिरोजाबाद में अगस्‍त के दूसरे सप्‍ताह में जब बुखार के मामले आने शुरू हुए तो स्‍थानीय अधिकारियों ने इसे मिस्‍ट्री फीवर बताया था. बाद में उत्‍तर प्रदेश सरकार ने इस डेंगू बताया. वहीं, बिहार और मध्‍य प्रदेश में वायरल फीवर के दर्जनों मामले सामने आए हैं. बिहार की राजधानी पटना के सभी बड़े अस्‍पतालों में बच्‍चा वार्ड फुल हो गए. दूसरी तरफ मध्‍य प्रदेश में भी वायरल फीवर के अत्‍यधिक मामले आने से अस्‍पतालों पर दबाव काफी बढ़ गया है. हरियाणा में भी हालात चिंताजनक हैं.

बिहार
बिहार की राजधानी पटना के दो अस्‍पतालों में सितंबर में 14 बच्‍चों की मौत हो गई. इन बच्‍चों की मौत रेस्‍पेरेटरी निमोनिया के कारण होने की आशंका जताई जा रही है. डॉक्‍टरों का कहना है कि हाई ग्रेड फीवर से ग्रसित बच्‍चों के श्‍वसन तंत्र में दिक्‍कत आने के मामले बढ़े हैं. पीएमसीएच और एनएमसीएच में निमोनिया के कारण 7-7 बच्‍चों की मौत की पुष्टि की गई है.

मध्‍य प्रदेश
मध्‍य प्रदेश में भी वायरल फीवर कहर बरपा रहा है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 45 दिनों में प्रदेश में हाई ग्रेड फीवर के 3000 मामले सामने आ चुके हैं. छह लोगों की मौत भी हुई है. इनमें से 1400 मामले तो पिछले 2 सप्‍ताह में सामने आए हैं. मंदसौर सबसे प्रभावित जिला है. यहां वायरल फीवर के अब तक 886 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं, जबलपुर में 436 मामले रिकॉर्ड किए गए हैं.

उत्‍तर प्रदेश
फिरोजाबाद में डेंगू से 61 लोगों के मौत होने की पुष्टि की गई है. इनमें से 50 बच्‍चे हैं. फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज में अभी डेंगू से पीड़ित 490 बच्‍चे एडमिट हैं. मथुरा में हाई फीवर से अब तक 11 लोगों के मौत की पुष्टि की गई है. वहीं, आगरा में डेंगू के 25 मामले सामने आ चुके हैं.

हरियाणा
पलवल जले के चिल्‍ली और चिल्‍ला गांवों में मिस्‍ट्री फीवर का प्रकोप देखा गया है. यहां 9 सितंबर को पहली बार फीवर का पता चला. अभी तक 7 बच्‍चों की मौत हो चुकी है. हालांकि, बुखार आने की वजह की पुष्टि अभी तक नहीं हो सकी है. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने निमोनिया से भी मौत होने की आशंका जताई है.

यूपी और उत्तराखंड में भारी बारिश के आसार, पूर्वी UP के लिए अलर्ट, कल से ढीले पड़ेंगे तेवर

यूपी और उत्तराखंड में भारी बारिश के आसार, पूर्वी UP के लिए अलर्ट, कल से ढीले पड़ेंगे तेवर

UP-Uttarakhand Weather : 1 जून से 15 सितंबर के बीच के आंकड़ों की मानें तो उत्तराखंड में 1072.8 मिमी और उत्तर प्रदेश में 632.5 मि​मी बारिश दर्ज की जा चुकी है, जो 'पर्याप्त' है. इस मानसून सीज़न के खत्म होते तक दोनों राज्य सामान्य से ज़्यादा तरबतर हो जाएंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 08:50 IST
SHARE THIS:

लखनऊ/देहरादून. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड दोनों ही राज्योंं में पिछले कुछ दिनों से हो रही लगातार भारी बारिश से उथल पुथल मची हुई है. उप्र में बारिश के चलते दीवार गिरने के हादसे में कम से कम चार लोगों की मौत हो जाने के साथ ही, दोनों ही राज्यों के कई ज़िलों में सड़कों, पु​लों व अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चरों को नुकसान पहुंचने की खबरें आ चुकी हैं. भारतीय मौसम विभाग ने गुरुवार और शुक्रवार के लिए खास तौर से पूर्वी उत्तर प्रदेश में बेहद भारी बारिश की चेतावनी देते हुए रेड अलर्ट जारी किया है. इसके अलावा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में भी शुक्रवार को भारी बारिश के आसार बताए गए हैं.

उत्तर प्रदेश में मौसम का हाल
बुधवार से गुरुवार के बीच रायबरेली, लांभुआ, प्रतापगढ़, प्रयागराज, अमेठी, रानीगंज, गाज़ीपुर और कानपुर समेत कुछ अन्य जगहों पर भारी बारिश की रिपोर्ट वेदर चैनल ने दी है. इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि पूर्वी यूपी समेत पश्चिमी हिस्से में उत्तराखंड से सटे इलाकों में भी बारिश के आसार बने हुए हैं. गुरुवार के लिए रेड अलर्ट जारी करते हुए मौसम विभाग ने कहा कि शुक्रवार को पूर्वी हिस्सों को छोड़ अधिकांश यूपी के लिए यलो अलर्ट रहेगा. वहीं, 17 सितंबर के बाद से यूपी समेत उत्तराखंड में भी बारिश की तेवरों में कुछ कमी देखी जाएगी.

ये भी पढ़ें : कैसे बांटी जाएं रोडवेज परिसंपत्तियां? UP-उत्तराखंड के बीच नहीं निकला हल, सैलरी के मुद्दे पर HC ने मांगा जवाब

uttarakhand news, up news, up weather, uttarakhand weather, weather news, उत्तराखंड न्यूज़, यूपी न्यूज़, यूपी मौसम, उत्तराखंड मौसम

शुक्रवार को बारिश के बाद शनिवार से दोनों राज्यों में मानसून ढीला पड़ सकता है.

उत्तराखंड में कैसा है मौसम?
पहाड़ी इलाकों यानी खास तौर से कुमाऊं अंचल में भारी बारिश के आसार शुक्रवार को भी बने हुए हैं. गुरुवार के लिए आरेंज अलर्ट जारी करते हुए मौसम विभाग ने कहा था कि शुक्रवार को उत्तराखंड के कुछ इलाके यलो अलर्ट पर व अन्य अलर्ट मुक्त होंगे. न्यूज़18 ने आपको ज़िलेवार यह भी खबर दी थी कि किस तरह उत्तराखंड में सितंबर के पहले 14 दिनों में करीब 13 फीसदी ज़्यादा बारिश हो चुकी थी. हालांकि इस पूरे महीने में बारिश का दौर बना रहेगा, ऐसी भविष्यवाणी मौसम विभाग कर चुका है.

ये भी पढ़ें : सैलरी मिली नहीं उल्टे एक झटके में गई JOB, सड़कों पर उतरे सैकड़ों हेल्थ वर्कर

क्या है ऐसे मौसम का कारण?
अरब सागर और बंगाल की खाड़ी दोनों तरफ से कम दबाव का सिस्टम बनने से चल रही नम हवाओं के चलते ऐसा मौसम बना हुआ है. वेदर चैनल के मुताबिक यह सिस्टम अगले कुछ दिनों तक मध्य प्रदेश के पूर्वी व मध्य भारत के कुछ हिस्सों तक बना रहेगा, जिससे भारी और मद्धम दर्जे की बारिश होती रहेगी. शुक्रवार के बाद यह सिस्टम उत्तर पश्चिम की तरफ रुख करेगा, जिससे उत्तराखंड और यूपी में बारिश के तेवर ढीले पड़ने की उम्मीद है.

UP News: ब्लड डोनेशन के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई, डॉक्टर समेत 2 गिरफ्तार

UP News: ब्लड डोनेशन के नाम पर 'मिलावटी खून' की सप्लाई, डॉक्टर समेत 2 गिरफ्तार

Blood Donation: अमित नागर के मुखबिर की सूचना पर लखनऊ -आगरा एक्सप्रेसवे पर डॉ अभय की इकोस्पोर्ट कार को एसटीएफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम रोका था. तलाशी में उसकी कार से ही कुछ ब्लड यूनिट और ब्लड डोनेशन के फर्जी कागजात बरामद हुए थे.

SHARE THIS:

लखनऊ. यूपी एसटीएफ ने राजधानी लखनऊ (Lucknow) में मिलावटी खून (Blood) की सप्लाई करने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों के पास से भारी मात्रा में ब्लड से भरे पैकेट बरामद हुए हैं. एसटीएफ से मिली जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार हुए सप्लायर में एक डॉक्टर भी शामिल है.आरोपियों के पास 100 यूनिट ब्लड, 21 ब्लड बैंकों के फर्जी कागजात और रक्तदान शिविर के दो बैनर भी बरामद हुए है. गिरफ्तार आरोपी डॉ अभय प्रताप सिंह यूपी यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेडिकल साइंसेज सैफई इटावा में असिस्टेंट प्रोफेसर है.

इस गैंग का खुलासा करने वाले एसटीएफ के डीएसपी अमित नागर ने बताया कि पंजाब, राजस्थान, हरियाणा आदि राज्यों में ब्लड डोनेट के करने के लिए लोग आराम से तैयार हो जाते हैं. इसी चलन का फायदा उठाते हुए डॉक्टर अभय प्रताप सिंह ने इन राज्यों में ब्लड डोनेशन कैंप लगाने शुरू कर दिए. कैंप में इकट्ठे किए गए ब्लड यूनिट को फर्जी कागजातों के जरिए यह गिरोह यूपी लाता था और सेलाइन वाटर मिलाकर इस ब्लड को दोगुना कर लखनऊ और आसपास के जिलों में बेचा जाता था. एसटीएफ के डीएसपी अमित नागर ने बताया की आमतौर पर 1200 से 1600 रुपये तक मिलने वाले एक यूनिट ब्लड को यह गिरोह दलालों के जरिए 4 से 6 हज़ार रुपए तक में बेचा करता था.

यह भी पढ़ें- UP News: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने दी बधाई, कहीं ये बात

यह गिरोह कई अस्पतालों और ब्लड बैंक को यह तस्करी और मिलावट वाला ब्लड बेचता था. अमित नागर के मुखबिर की सूचना पर लखनऊ -आगरा एक्सप्रेसवे पर डॉ अभय की इकोस्पोर्ट कार को एसटीएफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम रोका था. तलाशी में उसकी कार से ही कुछ ब्लड यूनिट और ब्लड डोनेशन के फर्जी कागजात बरामद हुए थे. शुरुआती पूछताछ के बाद जब डॉ अभय के आवास पर छापेमारी की गई तो उसके फ्रीज से भी ब्लड यूनिट बरामद हुए. एसटीएफ के डीएसपी ने बताया कि आरोपी डॉ अभय प्रताप सिंह केजीएमयू से एमबीबीएस और पीजीआई लखनऊ से एमडी कर चुका है. डीएसपी अमित नागर ने बताया कि रिमांड पर लेकर आरोपियों से इनके पूरे गिरोह के बारे में सख्ती से पूछताछ की जाएगी.

कैसे बांटी जाएं रोडवेज परिसंपत्तियां? UP-उत्तराखंड के बीच नहीं निकला हल, सैलरी के मुद्दे पर HC ने मांगा जवाब

कैसे बांटी जाएं रोडवेज परिसंपत्तियां? UP-उत्तराखंड के बीच नहीं निकला हल, सैलरी के मुद्दे पर HC ने मांगा जवाब

कहते हैं कि दो हाथियों की लड़ाई में घास ही कुचली जाती है. कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार के दखल के बावजूद दोनों राज्य किसी नतीजे पर नहीं पहुंचे. देखिए केंद्र ने कैसे कोर्ट को रिपोर्ट दी और कैसे कर्मचारियों का दर्द बरकरार है.

SHARE THIS:

नैनीताल. हाई कोर्ट के आदेश के बाद भी उत्तराखंड और यूपी सरकार के बीच रोडवेज परिसम्पत्तियों के बंटवारे पर कोई नतीजा नहीं निकल सका. केंद्र सरकार ने हाई कोर्ट में दोनों राज्यों की बैठक के मिनट्स पेश करते हुए कहा कि बैठक में दोनों राज्य कोई नतीजे पर नहीं पहुंच सके. केंद्र ने कहा कि उत्तराखंड सरकार मार्किट वैल्यू के आधार पर रकम मांग रही है जबकि यूपी सरकार चाहती है कि रोडवेज़ परि​संपत्तियों का बंटवारा भी वैसे ही हो, जैसे दूसरे विभागों का हुआ. केंद्र ने यह भी बताया कि यूपी सरकार की तरफ से उसे सूचना दी गई है कि इस मामले में यूपी ने सुप्रीम कोर्ट में वाद दाखिल किया है. इस उलझन के बीच, रोडवेज़कर्मियों की सैलरी के मामले पर भी कोर्ट ने चिंता दिखाई.

कोर्ट ने उत्तराखंड से कौन से सवाल पूछे?
सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार को इस मामले में नोटिस जारी कर​ डिटेल्स मांगे हैं और अब जब तक वाद का निपटारा सुप्रीम कोर्ट से नहीं होगा, तब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सकेगा. वहीं, कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार से पूछा है कि उसकी 700 करोड़ रुपयों की मांग का ठोस आधार क्या है? क्या यूपी से इस बारे में कोई पत्राचार किया गया है? रोडवेज कर्मचारियों की सैलरी पर क्या निर्णय लिया गया? चीफ जस्टिस आर एस चौहान और जस्टिस आलोक कुमार की बेंच में हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कैबिनेट बैठक के फैसले के बारे में जानकारी भी मांगी. अब कोर्ट 7 अक्टूबर को इस मामले पर सुनवाई करेगा.

ये भी पढ़ें : सैलरी मिली नहीं उल्टे एक झटके में गई JOB, सड़कों पर उतरे सैकड़ों हेल्थ वर्कर

uttarakhand news, roadways salary, employee salary, up news, uttar pradesh news, उत्तराखंड न्यूज़, रोडवेज सैलरी, कर्मचारियों का वेतन

नैनीताल स्थित हाई कोर्ट भवन. (File Photo)

ये भी पढ़ें : AAP का दावा, ‘सेल्फी विद टेंपल’ मुहिम से जुड़े हज़ारों उत्तराखंडी, जानिए इस अभियान की वजह

आखिर क्या है पूरी कहानी?
दरअसल, उत्तराखंड हाई कोर्ट रोडवेज़ कर्मचारी यूनियन की याचिका पर सुनवाई कर रहा है, जिसमें संगठन ने मांग की है कि समय पर सैलरी दी जाए. याचिका में कहा गया है कि अगर सैलरी को लेकर वो हड़ताल पर जाते हैं, तो उन पर एस्मा के तहत कार्रवाई की जाती है. याचिका में रोडवेज़ कर्मचारियों ने सरकार की 45 लाख के आसपास की देनदारी और यूपी से परिसम्पत्तियों के 700 करोड़ मिलने की बात उठाई थी. हालांकि पिछली सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया था कि दोनों सरकारों के बीच बैठक करके कोई हल निकाला जाए. अब केंद्र ने दोनों राज्यों के बीच सहमति न बन पाने की बात कोर्ट को बताई.

UP Anganwadi Recruitment 2021 : यूपी के इन जिलों में हो रही आंगनबाड़ी पदों पर भर्ती, ये है आवेदन की अंतिम तिथि

UP Anganwadi Recruitment 2021 : यूपी के इन जिलों में हो रही आंगनबाड़ी पदों पर भर्ती, ये है आवेदन की अंतिम तिथि

UP Anganwadi Recruitment 2021 : यूपी आंगनबाड़ी भर्ती 2021 के तहत मथुरा, मैनपुरी, कासगंज, खीरी, गोरखपुर और फर्रुखाबाद जैसे जिलों में आवेदन प्रक्रिया चल रही है. पांचवीं और 10वीं पास महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी का अच्छा मौका है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 08:00 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Anganwadi Recruitment 2021 : उत्तर प्रदेश में 53000 आंगनबाड़ी कर्मचारियों की भर्ती हो रही रही है. इसी क्रम में प्रदेश के कई जिलों में आवेदन मांगे गए हैं. आंगनबाड़ी पदों पर भर्ती होने के इच्छुक और योग्य उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट balvikasup.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. इस समय आंगनबाड़ी, मिनी आंगनबाड़ी  एवं सहायिका के पदों के लिए गोरखपुर, कासगंज, मथुरा, फर्रुखाबाद जैसे जिलों में आवेदन प्रक्रिया चल रही है. इन पदों पर सिर्फ महिलाएं ही आवेदन कर सकती हैं. ऐसे में यदि आप इन जिलों की मूल निवासी हैं तो फटाफट आवेदन कर देना चाहिए.

आंगनबाड़ी सहायिका के पदों के लिए पांचवीं कक्षा पास महिलाएं आवेदन कर सकती हैं. जबकि आंगनबाड़ी कार्यकत्री और मिनी आंगनबाड़ी पदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता 10वीं पास है. इसके साथ ही नए अभ्यर्थियों के लिए आयु सीमा 21 से 45 वर्ष है. जबकि पूर्व आंगबाड़ी सहायिका और कार्यकत्री के लिए अधिकतम आयु सीमा में पांच साल की छूट मिलेगी. जहां तक आवेदन शुल्क की बात करें तो आवेदन पूरी तरह नि:शुल्क है.

जिलेवार आवेदन की अंतिम तिथि

मैनपुरी – 17 सितंबर 2021
इटावा – 17 सितंबर 2021
खीरी – 24 सितंबर 2021
मथुरा – 27 सितंबर 2021
कासगंज – 30 सितंबर 2021
गोरखपुर – 04 अक्टूबर 2021
फर्रुखाबाद – 04 अक्टूबर 2021

कैसे होगा चयन

आंगनबाड़ी पदों पर भर्ती के लिए किसी प्रकार का इंटरव्यू या परीक्षा नहीं देनी होगी. पांचवीं और 10वीं में मिले अंकों के आधार पर मेरिट तैयार की जाएगी. इसके बार दस्तावेजों का सत्यापन होगा.

ये भी पढ़ें

BoB Recruitment 2021 : बैंक ऑफ बड़ौदा में बीसी सुपरवाइजर की नौकरी, पूर्णिया और जमशेदपुर सहित इन रीजन के लिए है वैकेंसी

UPPSC Polytechnic Recruitment : शैक्षिक योग्यता, भर्ती के नियम और सैलरी में भी हुए ये बदलाव

UP News: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने दी बधाई, कहीं ये बात

UP News: पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर CM योगी और डिप्टी सीएम केशव मौर्य ने दी बधाई, कहीं ये बात

PM Modi Birthday: डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,' एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 07:52 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का शुक्रवार को 71वां जन्मदिन है. इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने पीएम मोदी को बधाई दी. सीएम योगी ने कहा, अंत्योदय से आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं. प्रभु श्री राम की कृपा से आपको दीर्घायु व उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति हो. आजीवन मां भारती की सेवा का परम सौभाग्य आपको प्राप्त होता रहे.

उधर, यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी ट्वीट कर पीएम मोदी को बधाई दी है. डिप्टी सीएम मौर्य ने लिखा,’ एक-एक पल मां भारती की सेवा में समर्पित रहने वाले, विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देशवासियों के हृदय सम्राट तथा हम सभी के प्रेरणा स्रोत व मार्गदर्शक, देश के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं.

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

सीएम योगी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

वाराणसी में लोगों ने जलाए दीए
पीएम मोदी के 71वें जन्मदिन की पूर्व संध्या पर वाराणसी में लोगों ने मिट्टी के दीए जलाए और 71 किलो के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद बांटा. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर भाजपा आज से सेवा एवं समर्पण अभियान शुरू कर रही है. इसके तहत भाजपा का चिकित्सा प्रकोष्ठ 17 से 20 सितंबर तक स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन करेगा. युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रक्तदान शिविर, जबकि अनुसूचित मोर्चा के कार्यकर्ता गरीब बस्तियों में फल और जरूरी सामानों का वितरण करेंगे.

UP Board Exam : क्या कल से शुरू होगी 10वीं, 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षा ? बोर्ड ने लिया है ये फैसला

UP Board Exam : क्या कल से शुरू होगी 10वीं, 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षा ? बोर्ड ने लिया है ये फैसला

UP Board Exam : यूपी में लगातार हो रही भारी बारिश के बावजूद हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की सप्लीमेंट्री परीक्षा अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होगी. प्रदेश में बारिश के कारण स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 07:21 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Board Exam : उत्तर प्रदेश में भारी बारिश के कारण स्कूलों और कॉलेजों को 18 सितंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. लेकिन 18 सितंबर को होने वाली यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं की सप्लीमेंट्री/इंप्रूवमेंट परीक्षा के शेड्यूल में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है. सप्लीमेंट्री परीक्षा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही होगी. माध्यमिक शिक्षा की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि अंक सुधार के लिए आयोजित की जाने वाली 2021 बोर्ड परीक्षा पूरी सावधानी के साथ होंगी. सप्लीमेंट्री परीक्षा के लिए जिलों को कॉपी और पेपर पहले ही भेजे जा चुके हैं. कार्यक्रम के अनुसार पहले दिन हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के हिंदी का पेपर होगा. 10वीं और 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षाएं क्रमश: चार और छह अक्टूबर को संपन्न होंगी.

यूपी बोर्ड ने परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड 13 सितंबर को ही जारी कर दिया है. छात्र इसे यूपी बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें अपने यूजर आईडी और पासवर्ड से लॉग इन करना होगा.

परीक्षा की होगी वीडियो रिकॉर्डिंग

कोरोना महामारी के कारण यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं इस साल रद्द कर दी थी. हाई स्कूल और इंटर का रिजल्ट फॉर्मूले के आधार पर तैयार किया गया था. इस तरह तैयार रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों के लिए बोर्ड सप्लीमेंट्री परीक्षा का आयोजन करने जा रहा है. यूपी बोर्ड ने परीक्षा में नकल रोकने के लिए राज्य स्तरीय कमांड सेंटर के साथ जिलों में भी कंट्रोल रूम तैयार किए हैं. परीक्षा की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाएगी.

ये भी पढ़ें

BoB Recruitment 2021 : बैंक ऑफ बड़ौदा में बीसी सुपरवाइजर की नौकरी, पूर्णिया और जमशेदपुर सहित इन रीजन के लिए है वैकेंसी

UPPSC Polytechnic Recruitment : शैक्षिक योग्यता, भर्ती के नियम और सैलरी में भी हुए ये बदलाव

UP Election 2022: 'आप' की मुफ्त बिजली के वादे पर छिड़ी जुबानी जंग, BJP ने ऐसे किया पलटवार

UP Election 2022: 'आप' की मुफ्त बिजली के वादे पर छिड़ी जुबानी जंग, BJP ने ऐसे किया पलटवार

UP Politics: सौभाग्य योजना से 1 करोड़ 40 लाख घरों में बिजली आई है. चार साल पहले तक यूपी में बिजली आना अखबारों की सुर्खियां बनती थीं, आज अगर कभी बिजली कट जाए तो लोग हैरान होते हैं.

SHARE THIS:

लखनऊ. हर घरेलू बिजली उपभोक्ता को मुफ्त बिजली (Free Electric Bill) देने का वादा कर यूपी विधानसभा चुनाव जोर-आजमाइश कर रही आम आदमी पार्टी (AAP) को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आड़े हाथों लिया है. गुरुवार को जारी प्रेस बयान में शाही ने कहा कि ‘केजरीवाल प्राइवेट लिमिटेड’ को यह तो मालूम ही है कि गरीबों, गांव में रहने वालों और किसानों का योगी सरकार ने कितना ध्यान रखा है.

योगी सरकार बिजली का मीटर रखने वाले ग्रामीण उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 2.80 रुपए के और बगैर मीटर वालों को 4.07 रुपए की छूट शुरू से ही दे रही है. इसके अलावा एक किलोवाट लोड तक और 100 यूनिट की खपत तक के शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं को भी चार रुपए से अधिक प्रति यूनिट छूट मिलती है. यही नहीं गांव में मीटर और बिना मीटर वाले कृषि उपभोक्ताओं को तो छूट क्रमशः पांच रुपए और 6.32 रूपए है। इस तरह सरकार ग्यारह हजार करोड़ की सब्सिडी तो सिर्फ गरीब और किसानों के लिए देती है.

यह भी पढ़ें- UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी ‘सेवा एवं समर्पण’ अभियान की शुरुआत

कृषि मंत्री ने तंज किया कि केजरीवाल के पास यूपी की जनता के लिए विकास का कोई मॉडल नहीं है. दिल्ली में अब तक यह पार्टी ने कोई ऐसा काम नहीं कर सकी जिसे वह अपना बता सके। ऐसे में ‘मुफ्तखोरी के लालच’ को उसने चुनावी हथियार बनाया है. उन्होंने कहा कि यूपी की योगी सरकार ने जिला मुख्यालयों पर 24 घंटे, तहसील मुख्यालयों पर 20 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली देने का वादा किया था और उसे पूरा किया. यही नहीं, साढ़े चार साल में यूपी के हर कोने को बिजली से रोशन कर दिया गया है.

1 करोड़ 40 लाख घरों में आई बिजली
सौभाग्य योजना से 1 करोड़ 40 लाख घरों में बिजली आई है. चार साल पहले तक यूपी में बिजली आना अखबारों की सुर्खियां बनती थीं, आज अगर कभी बिजली कट जाए तो लोग हैरान होते हैं. यह होता है विकास, लेकिन ऐसे विकास के लिए जिस विजन की जरूरत होती है, वह न अरविंद केजरीवाल के पास है न मनीष सिसौदिया के पास. ऐसे में ले देकर मुफ्त बिजली देने का लालच ही उनके पास बचा है. सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि लोकतंत्र में इस तरह की बेतुकी एवं घोषणाएं राजनीति को दूषित करते हैं, जो न केवल घातक है बल्कि एक बड़ी विसंगति भी है.

UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी 'सेवा एवं समर्पण' अभियान की शुरुआत

UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी 'सेवा एवं समर्पण' अभियान की शुरुआत

PM Modi Birthday: पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन को प्रयागराज में खास तरीके से मनाने की तैयारी उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी और स्थनीय बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की है.

SHARE THIS:

लखनऊ. पीएम मोदी के जन्मदिन (PM Modi’s Birthday) को खास बनाने के लिए बीजेपी ने खास तैयारी की है. इसी कड़ी में शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) का ‘सेवा एवं समर्पण’ अभियान की शुरुआत होगी. 7 अक्टूबर तक चलने वाले इस अभियान में भाजपा के कार्यकर्ता विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गांव-गांव, घर-घर तक पहुंचकर लोगों से संपर्क व संवाद करेंगे और सेवा कार्य भी करेंगे. मोर्चों व प्रकोष्ठों के कार्यकर्ता भी इस अभियान में जुटेंगे.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गुरुवार शाम पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों, क्षेत्र अध्यक्षों, जिलाध्यक्षों व जिला प्रभारियों के साथ वर्चुअल बैठक कर सेवा एवं समर्पण अभियान की तैयारियों की समीक्षा की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए. सेवा एवं समर्पण अभियान के तहत 17 से 20 सितंबर तक स्वास्थ्य परीक्षण शिविर आयोजित किया जाएगा. चिकित्सा प्रकोष्ठ इसका समन्वय करेगा. युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रक्तदान शिविर आयोजित करेंगे, जबकि अनुसूचित मोर्चा के कार्यकर्ता गरीब बस्तियों में फल व अन्य आवश्यक वस्तुओं का वितरण कर सेवा कार्य करेंगे.

यह भी पढ़ें- अधिवक्ता ने रोक लिया DGP मुकुल का रास्ता, कहा- आपके अधिकारी कुछ नहीं करते

उधर, पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन को प्रयागराज में खास तरीके से मनाने की तैयारी उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी और स्थनीय बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की है. इसे भव्य रूप देने के लिए तमिलनाडु की राजलक्ष्मी मंडा प्रधानमंत्री का कटआउट लगा करीब 9.5 टन वजन वाला ट्रक अपने हाथ से खींचेंगी. उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने बताया कि हम पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन सेवा सप्ताह के रूप में मना रहे हैं.

पीएम के कटआउट को खींचेंगी राजलक्ष्मी
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह 71 किलो का केक काटकर इसका शुभारंभ करेंगे. उन्होंने बताया कि इसके बाद दोपहर तीन बजे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड धारक बहन राजलक्ष्मी, प्रधानमंत्री का 71 फुट ऊंचा और 20 चौड़ा कटआउट एक ट्रक पर खड़ा करके लगभग 9.5 टन वजन का ट्रक वो खुद अपने हाथ से खींचकर इस कार्यक्रम को और भव्य रूप प्रदान करेंगी.

Load More News

More from Other District