Babri Demolition Case: सीबीआई जज एसके यादव के कार्यकाल का होगा अंतिम फैसला, आज ही हो रहे रिटायर

सीबीआई के विशेष जज एसके यादव पहुंचे कोर्ट
सीबीआई के विशेष जज एसके यादव पहुंचे कोर्ट

Babri Demolition Case Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव को इस मामले में फैसला सुनाने तक सेवा विस्तार दे रखा है. वे 30 सितंबर 2019 को रिटायर हुए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 10:46 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. भारत की राजनीतिक दिशा को परिवर्तित कर देने वाले अयोध्या बाबरी विध्वंस (Babri Demolition Case) मामले में बुधवार को सीबीआइ की विशेष अदालत (CBI Special Court) फैसला सुनाएगी. सीबीआई के विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव (Justice Surendra Kumar Yadav) आज 11 बजे के करीब फैसला सुनाएंगे. विशेष जज सुरेंद्र कुमार के यादव के कार्यकाल का आज यह अंतिम फैसला होगा. वे आज रिटायर हो रहे हैं. गौरतलब है कि 30 सितंबर 2019 को रिटायर होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाने तक उन्हें सेवा विस्तार दे रखा है.

28 साल तक चले इस मुकदमे में भारतीय जनता पार्टी के कई वरिष्ठ नेता भी आरोपित हैं और फैसला सुनाने के समय इनमें से अधिकांश मौजूद रहेंगे. बताया जा रहा है कि निर्णय करीब दो हजार पेज का हो सकता है. इसे सुनाने के तुरंत बाद कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जायेगा. सीबीआइ व अभियुक्तों के वकीलों ने ही करीब साढ़े आठ सौ पेज की लिखित बहस दाखिल की है. इसके अलावा कोर्ट के सामने 351 गवाह सीबीआइ ने परीक्षित किए व 600 से अधिक दस्तावेज पेश किए.





विधि विशेषज्ञों के अनुसार जिन धाराओं में मुकदमा चला है यदि उनमें आरोपित दोषी करार दिए गए तो बीजेपी के वरिष्ठ नेता व पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी, डॉ मुरली मनेाहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी रितम्भरा, राम मंदिर तीर्थ ट्रस्ट के चेयरमैन महंत नृत्य गोपाल दास, सचिव चंपत राय बंसल, सतीश प्रधान, राम विलास वेदांती एवं धर्मदास को अधिकतम पांच साल की सजा हो सकती है. इसी तरह यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, बीजेपी सांसद साक्षी महाराज व अयोध्या के तत्कालीन डीएम आरएन श्रीवास्तव को दोषी पाए जाने पर अधिकतम तीन साल कैद की सजा सुनाई जा सकती है.
दो बीजेपी सांसदों को अधिकतम उम्रकैद की सजा हो सकती है.
दरअसल, मौजूदा बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह और लल्लू सिंह समेत 19 अभियुक्त ऐसे हैं जिन्हें दोषी पाए जाने पर अधिकतम उम्रकैद तक की सज़ा हो सकती है. जिसमें पवन कुमार पांडे, रामचंद्र खत्री, सुधीर कक्कड़,अमरनाथ गोयल, संतोष दुबे, कमलेश त्रिपाठी, विजय बहादुर सिंह, आचार्य धर्मेंद्र देव, प्रकाश शर्मा, जयभान सिंह पवैया, धर्मेंद्र गुर्जर, विनय कुमार राय, रामजी गुप्ता, गांधी यादव, नवीन भाई शुक्ला, जयभान गोयल और ओमप्रकाश पांडे शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज