ISIS के संदिग्ध आतंकी अबू युसूफ की पत्नी बोली- पति ने गुनाह किया कबूल,अब माफ कर दो, बहुत समझाया था
Lucknow News in Hindi

ISIS के संदिग्ध आतंकी अबू युसूफ की पत्नी बोली- पति ने गुनाह किया कबूल,अब माफ कर दो, बहुत समझाया था
पत्नी आयशा रो-रो कर बेहोश हो जा रही है.

ISIS Suspected Terrorist Abu Yusuf: पत्नी के मुताबिक अबू यूसुफ ने दहशत का प्लान बनाया था. टेलीग्राम एप के ज़रिए आईएसआईएस के हैंडलर्स से वह जुड़ा था. आईएसआईएस के इशारे पर वह बम बना रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2020, 2:03 PM IST
  • Share this:
बलरामपुर/लखनऊ. दिल्ली के धौलाकुआं से गिरफ्तार आईएसआईएस (ISIS) के संदिग्ध आतंकी (Suspected Terrorist) अबू यूसुफ़ (Abu Yusuf) उर्फ़ मुस्तकीम की गिरफ्तारी के बाद पत्नी ने खुलासा किया है कि पति को बहुत समझाया था कि ऐसा न करें. पत्नी आयशा ने बताया कि बच्चों का भी हवाला दिया था और कहा था सभी बर्बाद हो जाएंगे, लेकिन उन्होंने नहीं सुना. अब उन्होंने अपना गुनाह कबूल कर लिया है है. उन्हें माफ़ कर दीजिए.

News18 के साथ बातचीत में पत्नी आयशा ने बताया कि आईएसआईएस के संदिग्ध आतंकी अबू यूसुफ टेलीग्राम के माध्यम से कुछ लोगों से जुड़े थे. शनिवार को पुलिस ने घर से दो जैकेट, बारूद, छर्रा और बोतलों में कुछ मिला है. मैंने कई बार समझाया था कि ये सब छोड़ दो. समझाया था कि हमारे बच्चे बर्बाद हो जाएंगे. वो यू ट्यूब पर वीडियो देखते थे और तकरीरें सुनते थे. उन्होंने अपनी ग़लती कबूल कर ली है. उन्हें माफ़ कर दिया जाए. वो शुक्रवार को घर से लखनऊ जाने को निकले थे. घर से प्रेशर कुकर ले गए थे.





बता दें इससे पहले पिता कफील अहमद ने बताया था कि अबू युसूफ नवीं तक पढ़ा है. लेकिन पत्नी के मुताबिक अबू यूसुफ ने दहशत का प्लान बनाया था. टेलीग्राम एप के ज़रिए आईएसआईएस के हैंडलर्स से वह जुड़ा था. आईएसआईएस के इशारे पर वह बम बना रहा था. 2005 में 6 महीने दुबई में टूरिस्ट वीज़ा पर था. दुबई से लौटकर कुछ समय वह हैदराबाद में रहा था. 2006 से 2011 से सऊदी अरब में रहा. 2011 में अबू यूसुफ़ का निकाह आयशा से हुई. 2015 में 15 दिन के लिए खाड़ी देश कतर में उसने काम किया. कतर से लौटकर सीधे उत्तराखंड गया. उत्तराखंड में एक दुर्घटना का शिकार हुआ. रीढ़ की हड्डी में अबू को चोट लगी थी. जिसके बाद उसने उतरौला में कास्मेटिक की दुकान खोली. लेकिन दुकान पर वह बहुत कम बैठता था. ज्यादा समय यू ट्यूब पर वीडियो और तकरीरें देखने में बिताता था.
उधर पिता कफील अहमद ने कहा कि उसकी इस करतूत से बाप-दादाओं की कमाई इज्जत मिट्टी में मिल गई. न्यूज18 से बातचीत करते हुए पिता रो पड़े और कहा कि बेटे की इस करतूत पर अफसोस हैं. उन्होंने बताया कि बेटा और उसका परिवार घर में साथ ही रहते थे, लेकिन खाना अलग बनता था. उन्होंने कहा कि बेटा गांव में किसी से मतलब नहीं रखता था.

घर से क्या मिला जानकारी नहीं

न्यूज18 से बातचीत में मानव बम जैकेट और विस्फोटक मिलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बेटे के कमरे से कुछ मिलने की बात सामने आ रही है, लेकिन क्या मिला है इसकी उन्हें जानकारी नहीं है. उन्होंने बताया कि रात में जब पुलिस फोर्स घर पहुंची तो मामले की जानकारी हुई. उन्होंने बताया कि बेटे की पत्नी और बच्चों से भी पूछताछ हुई. लेकिन क्या पूछताछ हुई इसके बारे में उन्हें कुछ नहीं पता.

दुबई और क़तर जा चुका है

इस सवाल के जवाब में कि क्या उन्हें इस बात की खबर नहीं लगी कि घर में विस्फोटक रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि बीटा और उसका परिवार अलग कमरे में रहते थे. उनके बीच क्या बात होती थी क्या नहीं मुझे नहीं पता. वह गांव घर में किसी से कोई मतलब नहीं रखता था. कफील अहमद ने बताया कि वह दुबई और कतर जा चुका है. इसके अलावा वह काम के सिलसिले में उत्तराखंड और रायपीर भी गया था.

शुक्रवार को निकला था घर से

पिता कफील अहमद के मुताबिक वह शुक्रवार को घर से निकला था. इसके बाद अचानक से उकसा फ़ोन आउट ऑफ़ नेटवर्क हो गया. लखनऊ रिश्तेदारी में भी उसके बारे में पूछताछ की गई, लेकिन वहां भी नहीं मिला. अब वह दिल्ली कैसे पहुंचा इसकी जानकारी नहीं है. पुलिस के घर आने पर पूरी बात पता चली. बेटे की इस करतूत से बाप-दादाओं की कमाई इज्जत खाक में मिल गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज