बलरामपुर हादसा: जांच कमेटी ने CM योगी को सौंपी रिपोर्ट, सरकार ने लिया ये बड़ा एक्‍शन

बलरामपुर मामले में सीएम योगी ने मध्यांचल विधुत वितरण निगम के एमडी के नेतृत्व में एक जांच समिति गठित कर 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट सौपने के साथ दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया था.

Rajeev P Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 17, 2019, 8:43 PM IST
बलरामपुर हादसा: जांच कमेटी ने CM योगी को सौंपी रिपोर्ट, सरकार ने लिया ये बड़ा एक्‍शन
बलरामपुर मामले में कई अधिकारियों के खिलाफ एक्‍शन हुआ है.
Rajeev P Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 17, 2019, 8:43 PM IST
उत्‍तर प्रदेश के बलरामपुर में पिछले सोमवार को प्राथमिक विद्यालय पर हाईटेंशन तार गिरने से बच्चों को लगे करंट के मामले में शासन द्वारा गठित जांच समिति ने आज सीएम योगी आदित्यनाथ को अपनी रिपोर्ट सौप दी है. जांच में बिजली विभाग की स्थानीय स्तर पर मिली लापरवाही के बाद जेई और एई परीक्षण खंड को भी निलंबित कर दिया गया. साथ ही अधिशाषी अभियंता परीक्षण खंड और उपखंड अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई करते हुए इन दोनों अधिकारियों के खिलाफ चार्जशीट जारी कर दी गई है.

हादसे में 52 बच्‍चे हुए थे घायल
गौरतलब है कि बीते सोमवार को बलरामपुर जिले के नयानगर, विशुनपुर प्राथमिक विद्यालय की छत पर हाईटेंशन तार गिरने से 52 स्कूली बच्चे गंभीर रूप से झुलस गए थे. जिसका सीएम योगी ने संज्ञान लेते हुए मध्यांचल विद्युत वितरण निगम के एमडी के नेतृत्व में एक जांच समिति गठित कर 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट सौपने के साथ दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया था.

बीते मंगलवार को मध्यांचल के एमडी संजय गोयल ने बलरामपुर जाकर घटनास्थल का निरीक्षण कर इस हादसे की जांच की. जांच रिपोर्ट के मुताबिक क्षतिग्रस्त डबल पोल का स्थानीय जेई प्रियदर्शी तिवारी और लाइन स्टाफ इबता हुसैन द्वारा अनुरक्षण कराया गया, लेकिन डबल पोल की तरफ जाने वाली 11 के.वी. लाइन के हॉरिजेन्टल क्लीयरेन्स को संज्ञान में नहीं लिया गया और न ही समय से पास में लगे पेड़ की कटाई-छटाई कराई गई, जिसके चलते ही दुर्घटना हुई.

मध्यांचल विद्युत वितरण निगम के एमडी संजय गोयल ने की है जांच.


जेई समेत नपे ये अधिकारी
इस मामले में जेई प्रियदर्शी तिवारी और लाईन स्टाफ इबता हुसैन को जहां पहले ही निलंबित कर दिया गया था. वहीं, आज मानकों के मुताबिक पोषकों का परीक्षण न किये जाने के चलते विधुत परीक्षणशाला उतरौला के सहायक अभियंता (परीक्षण) धीरेन्द्र कुमार को भी निलंबित कर दिया गया है. इस दौरान अधिशाषी अभियंता परीक्षण खंड राजेश कुमार सिन्हा और उपखंड अधिकारी प्रशांत शेखर श्रीवास्तव के खिलाफ भी कार्रवाई करते हुए इन दोनों अधिकारियों के खिलाफ चार्जशीट जारी कर दी गई है.
Loading...

स्‍कूल के निर्माण पर भी उठे सवाल
हालांकि जांच के दौरान हाईटेंशन लाइन गुजरने के बावजूद नियमों को ताक में रख न सिर्फ प्राथमिक विद्यालय का निर्माण होने की बात सामने आई है बल्कि स्कूल प्रशासन की लापरवाही के चलते स्कूल की छत पर होने वाले जलभराव से भी स्कूल में करंट उतरने का भी खुलासा हुआ है.

बहरहाल, सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर हाईटेंशन लाइन से सुरक्षा के लिये भी अभियान शुरू कर दिया गया है, जिसके तहत लाइन के आस-पास बने स्कूल और अस्पताल जैसे सार्वजनिक स्थलों की पहचान कर कर लाइन को दुरूस्त किया जायेगा. यही नहीं, जरूरत पड़ने पर मानकों के विपरीत हाईटेंशन लाइन के करीब बने संस्थानों से तारों की शिफ्टिंग भी कराई जायेगी.

ये भी पढ़ें: 

ये है बाहुबली अतीक की आपराधिक कुंडली, दर्ज इतने मुकदमे

आखिर क्यों कभी मुलायम के साथ खड़े रहे क्षत्रिय नेता एक-एक कर अखिलेश यादव का साथ छोड़ रहे?
First published: July 17, 2019, 8:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...