Lucknow news

लखनऊ

अपना जिला चुनें

कोरोना के खिलाफ जंग में उतरी डिप्टी सीएम की टीम, कम्युनिटी किचन से भोजन और राशन की मदद

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की टीम गरीबों को भोजन कराने का अभियान छेड़े हुए है.

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की टीम गरीबों को भोजन कराने का अभियान छेड़े हुए है.

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य (Deputy CM Keshav Prasad Maurya) और लोक निर्माण विभाग की तरफ से प्रदेश भर में कम्युनिटी किचन चलाया जा रहा है. यह प्रदेश के सभी 75 जिलों में चल रहा है. इसके माध्यम से जरूरतमंदों को पैकेट में तैय़ार भोजन और राशन दिए जा रहे हैँ. इसका वितरण बीजेपी के कार्यकर्ता, सेवा भारती और दूसरे स्वयंसेवी संगठन भी कर रहे हैं.

SHARE THIS:
लखनऊ. कोरोना (COVID-19) संक्रमण काल में कोई जरूरतमंद भूखा न सोए इस सिद्धांत पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य (Deputy CM Keshav Prasad Maurya) और उनकी टीम काम कर रही है. प्रधानमंत्री के कोरोना से लड़ाई लड़ने के आह्वान पर डिप्टी सीएम केशव मौर्य और लोकनिर्माण विभाग की तरफ से प्रदेश भर में कम्युनिटी किचन चलाया जा रहा है. यह प्रदेश के सभी 75 जिलों में चल रहा है. इसके माध्यम से जरूरतमंदों को पैकेट में तैय़ार भोजन और राशन दिए जा रहे हैँ. इसका वितरण बीजेपी के कार्यकर्ता, सेवा भारती और दूसरे स्वयंसेवी संगठन भी कर रहे हैं.

रोज 1000 लंच पैकेट हो रहे तैयार, राशन की किट भी

लगभग 1000 लंच पैकेट और राशन की किट रोजाना तैयार हो रही है और जरुरतमंदों तक पहुंचाई जा रही है. बीजेपी प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव कहते हैं कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, पंडित दीनदयाल उपाध्याय के सिद्धांतों का पालन करते हुए काम कर रहे हैं. उनका उद्देश्य समाज के पिछली कतार में बैठे जरूरतमंदों और भूखों तक भोजन पहुंचाना है. उनका मानना है कि प्रदेश में कोई भूखा न सोए और इसी लक्ष्य के साथ काम हो रहा है.

खुद नजर रख रहे डिप्टी सीएम

डिप्टी सीएम केशव मौर्य खुद जिलों में नजर बनाए रखते हैं और कार्यकर्ताओं से इसका फीड बैक लेते रहते हैं. कम्युनिटी किचेन के संयोजक और सहायक अभियंका राजीव राय कहते हैं कि हर दिन के खाने का मेन्यू अलग-अलग रहता है. किसी दिन राजमा चावल, तो किसी दिन कढ़ी चावल तो कभी पूरी सब्जी होती है. हर दिन लगभग एक हजार पैकेट खाना लखनऊ में तैयार होता है. राशन का किट भी साथ में तैयार रहता है और जरुरतमंदों तक पहुंचाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

Lucknow COVID-19 Update: हॉटस्पॉट इलाकों की ड्रोन से निगरानी, CM का दौरा संभव

तहसीलदार को पीटने के मामले में मायावती की मांग- बीजेपी MP पर सख्त कार्रवाई हो

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Yogi Cabinet Expansion: यूपी चुनाव से पहले योगी का बड़ा दांव, सामाजिक समीकरण साध जीतेंगे 2022 की जंग!

Yogi Cabinet: योगी आदित्यनाथ ने 2022 के चुनावों को देखते हुए अपनी कैबिनेट में नए चेहरों को शामिल किया है.

UP Assembly Election 2022: यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ का मंत्रिमंडल विस्तार चुनावी समीकरणों के मद्देनजर महत्वपूर्ण माना जा रहा है. प्रदेश की विभिन्न जाति व समुदाय को ध्यान में रखते हुए सरकार ने नए चेहरों को मंत्रिमंडल में शामिल किया है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 19:23 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. यूपी में अगले साल की शुरुआत में ही विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. इसके करीब चार महीने पहले योगी आदित्यनाथ की सरकार ने आज मंत्रिमंडल विस्तार किया है. इस विस्तार में यह ख्याल रखा गया है कि सभी नए मंत्रियों के सरकार में आने का, सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी को फायदा मिले. विधानसभा चुनाव की अनौपचारिक तैयारियां शुरू हो चुकी हैं, इसके मद्देनजर मंत्रिमंडल में विभिन्न जाति व समुदाय के नेताओं को जगह देकर इस वर्ग के मतदाताओं का हित साधने की कोशिश की गई है. जितिन प्रसाद समेत पलटू राम, संजीव कुमार, संगीता बिंद, दिनेश खटिक, धर्मवीर प्रजापति और छत्रपाल गंगवार जैसे नाम, बीजेपी की इसी मंशा को पूरा करेंगे, ऐसी उम्मीद पार्टी कर रही होगी.

ऐन विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिस तरह से चुनावी समीकरणों को ध्यान में रखते हुए कैबिनेट विस्तार किया है, उसे सियासी हलके में बड़े दांव के रूप में देखा जा रहा है. समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, कांग्रेस और तमाम अन्य छोटी-बड़ी पार्टियों की रस्साकशी को देखते हुए सीएम योगी ने बड़े सधे अंदाज में यह दांव चला है. सियासी जानकार उनके इस दांव पर गहरी नजर बनाए रखेंगे. यह देखेंगे कि ये नए चेहरे विधानसभा चुनाव में बीजेपी को किस हद तक लाभ की स्थिति में रख पाते हैं.

आपको बता दें कि पिछले कुछ महीनों से उत्तर प्रदेश में योगी कैबिनेट के विस्तार की चर्चाएं चल रही थीं. इनमें तमाम नामों और नए चेहरों के आने के कयास लगाए जा रहे थे. इनमें से कई चेहरों ने तो आज शाम राजभवन में पद और गोपनीयता की शपथ ली, लेकिन इक्का-दुक्का नाम जरूर नजर नहीं आए. इनमें से एक बेबी रानी मौर्य का है. हाल ही में उत्तराखंड के राज्यपाल का पद छोड़कर आईं बेबी रानी मौर्य के भी योगी कैबिनेट में स्थान बनाने की हलचल आज पूरे दिन चलती रही, लेकिन अंतिम क्षणों में वह कहीं नहीं दिखीं. आगरा के मेयर के रूप में चर्चित मौर्य को पार्टी ने कुछ दिन पहले ही राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है.

UP TGT-PGT Recruitment 2021 : यूपी पीजीटी का इंटरव्यू शेड्यूल जारी, डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

UP PGT :  पीजीटी इंटरव्यू प्रतिदिन दो शिफ्ट में होगा.

UP TGT-PGT Recruitment 2021 : यूपी पीजीटी भर्ती 2021 के इंटरव्यू की तिथि घोषित हो गई है. साथ ही उत्तर प्रदेश माध्यमिक सेवा चयन बोर्ड ने इसका एडमिट कार्ड भी जारी कर दिया है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 19:06 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP PGT Interview Admit Card : उत्तर प्रदेश माध्यमिक सेवा चयन बोर्ड ने अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में पोस्ट ग्रेजुएट टीचर भर्ती के लिए इंटरव्यू का शेड्यूल जारी कर दिया है. पीजीटी भर्ती के लिए इंटरव्यू 05 अक्टूबर से 20 अक्टूबर 2021 तक होंगे. इस भर्ती के लिए लिखित परीक्षा 17 और 18 अगस्त को हुई थी. चयन बोर्ड ने नोटिस जारी करके कहा है कि लिखित परीक्षा में पास हुए अभ्यर्थी इंटरव्यू के लिए अपने एडमिट कार्ड बोर्ड की वेबसाइट www.upsessb.org या https://pariksha.up.nic.in/ से डाउनलोड कर सकते हैं.

बोर्ड ने अपनी वेबसाइट पर इंटरव्यू के कार्यक्रम अनुसार तिथिवार, विषयवार अभ्यर्थियों की सूची अपलोड की है. अभ्यर्थियों को सलाह दी गई है कि वे दिशा-निर्देश अच्छी तरह पढ़ लें. साथ ही परीक्षा पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन में बताए गए अभिलेखों को अपलोड करें और संस्था का विकल्प चुनते हुए अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड करें.

नोटिस में कहा गया है कि इंटरव्यू दो शिफ्ट में होगा. पहले बैच का रिपोर्टिंग टाइम सुबह आठ बजे है. जबकि दूसरे बैच की रिपोर्टिंग का टाइम दोपहर 12 बजे है.

ऐसे डाउनलोड करें एडमिट कार्ड-

-सबसे पहले ई परीक्षा पोर्टल https://pariksha.up.nic.in/ पर जाएं
– यहां UTTAR PRADESH SECONDARY EDUCATION SERVICES SELECTION BOARD, PRAYAGRAJ लिंक पर क्लिक करें
– अब “Click here to submit college preference choice and download Interview Letter for PGT-Examination -2021 लिंक पर क्लिक करें
– अब डाउनलोड इंटरव्यू लेटर पर क्लिक करें
– अब अपना रोल नंबर, कैप्चा एंटर करेक प्रोसीड पर क्लिक कर दें
– अब सेंट ओटीपी पर क्लिक करें

ये भी पढ़ें

Allahabad University Recruitment: इलाहाबाद विश्वविद्यालय में 412 पदों पर नॉन टीचिंग स्टाफ भर्ती प्रक्रिया शुरू, देखें डिटेल

UPSC Recruitment 2021: रक्षा और खनन मंत्रालय में ऑफिसर पदों पर नौकरियां, ये मांगी है योग्यता

यूपी चुनाव से पहले किसानों को खुश करने के लिए योगी सरकार का मास्टर स्ट्रोक

किसान सम्मेलन में शामिल हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ा ऐलान किया. (फाइल फोटो)

Yogi government's decision : विधानसभा चुनाव से पहले किसानों की नाराजगी दूर करने के लिए योगी सरकार ने गन्ने के मूल्य में बढ़ोतरी करके एक कदम तय कर लिया है. इसके अलावा किसानो की एक मांग बिजली बिलों को लेकर भी थी, उसको भी स्वीकार करते हुए सरकार ने एक समिति बनाने की बात की है.

SHARE THIS:

नई दिल्ली. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चल रहा किसान आंदोलन भाजपा को परेशान करने लगा है. विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी किसानों की मांगों से जुड़े फैसले करके किसान आंदोलन के प्रभाव को कम करना चाहती है. उसी को लेकर आज यानी रविवार को योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में गन्ना के मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की घोषणा की है. इसके साथ साथ बिजली बिलों को लेकर भी एक कमिटी बनाने की बात सरकार ने की है.

आज लखनऊ में किसान सम्मलेन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों को संबोधित करते हुए उनकी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार द्वारा किसान हित में किए गए फैसलों की जानकारी दी. इसके साथ ही उन्होंने गन्ने के मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी की घोषणा भी कर दी. अब यूपी में 325 रुपये की जगह 350 रुपये प्रति क्विंटल पर गन्ने की खरीदी होगी. सामान्य गन्ने की खरीद 315 रुपये प्रति क्विंटल से 340 रुपये पर होगी.

इसे भी पढ़ें : Kidney Transplant: कल बनेगा ग्रीन कॉरिडोर, दो घंटे में मेरठ से गुरुग्राम पहुंचेगा ब्लड सैंपल

पश्चिमी यूपी में सबसे ज्यादा पैदावार गन्ने की होती है और किसान आंदोलन का असर यूपी के इसी क्षेत्र में है. कई मौकों पर ये देखा गया है कि कृषि कानूनों को लेकर इस क्षेत्र में बहुत ज्यादा नाराजगी नहीं है. लेकिन गन्ने के भुगतान और उसके मूल्य को लेकर कई बार किसान संगठन सरकार के सामने अपनी बात रख चुके हैं. इसीलिए विधानसभा चुनाव से पहले किसानों की नाराजगी दूर करने के लिए योगी सरकार ने गन्ने के मूल्य में बढ़ोतरी करके एक कदम तय कर लिया है. इसके अलावा किसानो की एक मांग बिजली बिलों को लेकर भी थी, उसको भी स्वीकार करते हुए सरकार ने एक समिति बनाने की बात की है.

इसे भी पढ़ें : Yogi Cabinet Expansion: कांग्रेस से भाजपा में आये जितिन प्रसाद बने कैबिनेट मिनिस्टर

हालांकि किसान संगठनों ने गन्ने के मूल्य में तकरीबन 75 से 100 रुपये की बढ़ोतरी की मांग की गई थी, जिससे गन्ने का मूल्य 400 से 425 रुपये तक मिल सके. फिलहाल सरकार ने सिर्फ 25 रुपये की बढ़ोतरी की है. हालांकि भाकियू ने इसका विरोध भी करना शुरू कर दिया है. लेकिन राजनीति से दूर आम किसान का मानना है कि मूल्य वृद्धि भले ही थोड़ी हुई है, लेकिन सरकार ने थोड़ी राहत देने की कोशिश जरूर की है.

Yogi Cabinet Expansion: यूपी: योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट में शामिल हुए 7 चेहरे, जितिन प्रसाद बनें मंत्री

यूपीए सरकार में मंत्री रहे जितिन प्रसाद, पलटू राम समेत सात ने मंत्री पद की शपथ ली है.

Yogi Cabinet Expansion: 2020 विधानसभा चुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल का बहुप्रतीक्षित विस्तार हो गया है. चुनाव पहले इस विस्तार के कई मायने लगाए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि रूठों को मनाने और समाजिक समीकरण साधने के लिए बीजेपी ने पूरी कोशिश की है. इस विस्तार को 2022 चुनाव की तैयारी के तौर पर देखा जा रहा है. 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत दर्ज की थी अब उसके सामने 2022 के चुनाव में उसे दोहराने की चुनौती है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 18:41 IST
SHARE THIS:

Yogi Cabinet Expansion: 2022  विधानसभा चुनाव से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल का बहुप्रतीक्षित विस्तार हो गया है. चुनाव पहले इस विस्तार के कई मायने लगाए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि रूठों को मनाने और समाजिक समीकरण साधने के लिए बीजेपी ने पूरी कोशिश की है. इस विस्तार को 2022 चुनाव की तैयारी के तौर पर देखा जा रहा है. 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने बंपर जीत दर्ज की थी अब उसके सामने 2022 के चुनाव में उसे दोहराने की चुनौती है.

जितिन प्रसाद ने योगी कैबिनेट विस्तार में मंत्री पद की शपथ ली है. वह यूपीए सरकार में मंत्री रहे हैं. इसके बाद छत्रपाल गंगवार ने भी शपथ ली. गंगवार दूसरी बार साल 2017 में चुनाव जीते हैं. बीजेपी के जिला मंत्री भी रहे हैं.

Yogi Cabinet Expansion: कांग्रेस से भाजपा में आये जितिन प्रसाद बने कैबिनेट मिनिस्टर

Yogi Cabinet Expansion: जितिन प्रसाद ने योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली है.

Yogi Cabinet Expansion News: पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को आज उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. बीजेपी के इस कदम को यूपी में ब्राह्मण सियासत से जोड़कर देखा जा रहा है.

SHARE THIS:

लखनऊ. कांग्रेस से छोड़कर भाजपा में शामिल हुये जितिन प्रसाद  (Jitin Prasada) योगी मंत्रिमंडल में शामिल हो गये हैं. कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है. योगी मंत्रिमंडल विस्तार  (Yogi Cabinet Expansion) में 7 नये मंत्री शपथ ले रहे हैं, जिसमें केवल जितिन प्रसाद को ही कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं, इसे देखते हुए योगी मंत्रिमंडल का विस्तार किया जा रहा है, जिसके जरिये यूपी में जातीय सियासत को साधने की कोशिश बीजेपी करेगी.

जितिन प्रसाद मनमोहन सिंह की सरकार में केंद्र में मंत्री रह चुके हैं. कांग्रेस में लंबी पारी खेलने वाले जितिन प्रसाद ने कुछ महीनों पहले बीजेपी ज्वाइन कर ली थी. जितिन प्रसाद के भाजपा ज्वाइन करने और अब उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल करने को बीजेपी की आगामी चुनावों में ब्राह्मण को जोड़ने की राजनीति के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि जितिन प्रसाद ने कुछ महीने पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और बीजेपी चीफ जेपी नड्डा की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुये थे.

जितिन प्रसाद को विरासत में मिली है राजनीति

वैसे शाहजहांपुर के जितिन प्रसाद को राजनीति विरासत में मिली है. पिता राजीव गांधी और नरसिम्हा राव के राजनीतिक सलाहकार थे, खुद HRD राज्यमंत्री रहे. कांग्रेस पार्टी के चर्चित चेहरे रहे जितिन प्रसाद अब बीजेपी शामिल हो चुके हैं. अब प्रसाद को यूपी के आगामी चुनावों में ब्राह्मण चेहरा के रूप में पेश करने की संभावनाएं हैं. जितिन प्रसाद के परिवार की तीन पीढ़ियां कांग्रेस पार्टी से सक्रिय राजनीति में रही हैं. जितिन प्रसाद को यूपी में कांग्रेस के चर्चित युवा चेहरों में से एक कहा जाता था. वो राहुल गांधी के करीबी नेताओं में से एक रहे और प्रदेश में ब्राह्मण वोटों की गोलबंदी में कांग्रेस उन्हें एक बड़े चेहरे के रूप में इस्तेमाल करना चाहती थी.

UP: CM योगी का किसानों को बड़ा तोहफा, 25 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ा गन्ना मूल्य

UP: सीएम योगी ने गन्ना किसानों को बड़ा तोहफा दिया है. यूपी में गन्ना मूल्य में 25  रुपए का इजाफा किया गया है.

UP News: सीएम योगी आदित्यनाथ ने गन्ने के मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी का ऐलान कर दिया है. अब गन्ने का मूल्य 325 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए कर दिया गया है. गन्ने का मूल्य बढ़ने से गन्ना किसानों की आय में 8% की वृद्धि होगी.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने अपने कैबिनेट विस्तार (Cabinet Expansion) से पहले प्रदेश के गन्ना किसानों (Sugarcane Farmers) को बड़ा तोहफा दिया है. सीएम योगी आदित्यनाथ  ने गन्ने के मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी का ऐलान कर दिया है. अब गन्ने का मूल्य 325 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए कर दिया गया है. गन्ने का मूल्य बढ़ने से गन्ना किसानों की आय में 8% की वृद्धि होगी.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को लखनऊ में किसान सम्मेलन में कहा कि राज्य में अब तक जिस गन्ने का 325 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान होता था. अब सरकार 350 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान करेगी. यही नहीं सामान्य गन्ने का भुगतान जो 315 रुपए प्रति क्विंटल होता था, उसमें भी 25 रुपये की वृद्धि होगी.

सीएम योगी का ऐलान

सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को लखनऊ में किसान सम्मेलन में कहा कि राज्य में अब तक जिस गन्ने का 325 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान होता था. अब सरकार 350 रुपए प्रति क्विंटल भुगतान करेगी. यही नहीं सामान्य गन्ने का भुगतान जो 315 रुपए प्रति क्विंटल होता था, उसमें भी 25 रुपये की वृद्धि होगी. 340 रुपये का भुगतान उसमें भी होगा. अनुपयुक्त गन्ना जिस किसान के भी पास है, प्रति क्विंटल उन्हें भी 25 रुपए की बढ़ोत्तरी का लाभ दिया जाएगा.

सीएम योगी ने कहा कि बसपा सरकार में 21 चीनी मिलें बंद हुईं थीं. पिछले साढ़े 4 सालों के अंदर हमने किसानों से अन्न की रिकॉर्ड खरीद की है. जो काम यूपी सरकार में हुए हैं, वह पिछले की सरकारें भी कर सकती थीं. 2004 से लेकर 2014 तक का शासन देश और प्रदेश के लिए अंधकार युग था. अराजकता, गुंडागर्दी का बोलबाला था. प्रदेश के किसान आत्महत्या और गरीब भूख से मर रहा था. जो आज किसानों के हितैषी बने हैं, वो तब कहां थे? पिछली सरकार ने 19,02,08 किसानों को 12,808 करोड़ रुपये का गेहूं भुगतान किया था. हमारी सरकार ने 43,75,574 किसानों को 36,504 करोड़ रुपये का गेहूं भुगतान उनके खाते में किया है.

इनपुट: अलाउद्दीन

UP Lekhpal Recruitment 2021: सामान्य वर्ग के EWS कैंडिडेट्स के लिए कितने पद होंगें आरक्षित, जानें यहां

UP Lekhpal Recruitment 2021: भर्ती के लिए ऑफिशियल नोटिफिकेशन जल्द जारी किया जाएगा

UP Lekhpal Recruitment 2021: UPSSSC जल्द ही प्रदेश के लेखपाल पदों पर भर्ती प्रक्रिया की शुरूआत करेगा. भर्ती में सामान्य वर्ग के EWS कैंडिडेट्स के लिए कितने पद आरक्षित होंगें इसकी जानकारी नीचे दी जा रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 17:53 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Lekhpal Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) जल्द ही प्रदेश के लेखपाल पदों पर भर्ती प्रक्रिया की शुरूआत करेगा. गौरतलब है कि आयोग ने प्रदेश के 7,889 लेखपाल पदों पर भर्ती की घोषणा की थी. हांलाकि इसके लिए अभी तक अधिसूचना जारी नहीं की गई है. लेकिन जानकारी के अनुसार प्रदेश सरकार ने आयोग को भर्ती प्रक्रिया शुरू करने की हरी झंडी दे दी है.

बता दें कि फ़िलहाल केवल राजस्व लेखपाल के पदों के लिए भर्ती आयोजित की जाएगी. चकबंदी लेखपाल पदों पर भर्ती के इच्छुक उम्मीदवारों को अभी इंतजार करना पड़ सकता है. फ़िलहाल अधिसूचना जारी नहीं होने से भर्ती को लेकर कई प्रकार के सवाल देखने को मिल रहे हैं. ऐसे ही एक महत्वपूर्ण सवाल का जवाब नीचे दिया जा रहा है.

UP Lekhpal Recruitment 2021: EWS कैंडिडेट्स के लिए इतने पद रह सकते हैं आरक्षित
हाल ही में UKSSSC ने भी उत्तरखंड राज्य में लेखपाल भर्ती आयोजित की थी. जिसमें आयोग ने EWS उम्मीदवारों के लिए 10 फ़ीसदी पद आरक्षित किए थे. इसी तर्ज पर यदि UPSSSC भी यूपी लेखपाल भर्ती में इन उम्मीदवारों को 10 फ़ीसदी आरक्षण देता है, तो सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर उम्मीदवारों के लिए तकरीबन 800 पद आरक्षित रह सकते हैं. हालांकि जब तक आधिकारिक अधिसूचना नहीं आ जाती तब तक इस सम्बन्ध में किसी भी जानकारी की पुष्टि नहीं की जा सकती. ऐसे में उम्मीदवारों को भर्ती सम्बन्धी अपडेट के लिए UPSSSC की आधिकारिक वेबसाइट पर विज़िट करते रहना चाहिए.

ये भी पढ़ें-
UP Lekhpal Recruitment 2021: लेखपाल भर्ती में किस उम्र तक के उम्मीदवार कर सकेंगें आवेदन, जानिए यहां
UP Lekhpal Recruitment 2021: जानिए कब से शुरू होगी यूपी लेखपाल भर्ती की आवेदन प्रक्रिया, देखें लेटेस्ट अपडेट

UP Home Guard Recruitment 2021: यूपी होमगार्ड भर्ती को लेकर कहां तक पहुंची बात, क्या है अपडेट, जानें यहां

UP Home Guard Recruitment 2021: भर्ती के लिए 10वीं पास उम्मीदवारों को अप्लाई करने का मौका दिया जा सकता है.

UP Home Guard Recruitment 2021: उम्मीदवार काफी समय से उत्तर प्रदेश में होमगार्ड भर्ती की अधिसूचना जारी होने का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन अभी तक इससे जुड़ी जानकारी सामने नहीं आई है. भर्ती को लेकर अपडेट क्या है इसकी जानकारी नीचे दी जा रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 17:43 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Home Guard Recruitment 2021: उम्मीदवार काफी समय से उत्तर प्रदेश में होमगार्ड भर्ती की अधिसूचना जारी होने का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन अभी तक इससे जुड़ी जानकारी सामने नहीं आई है. हांलाकि कई मीडिया रिपोर्ट्स में ये बताया जा रहा है कि भर्ती के लिए अधिसूचना जल्द ही जारी की जा सकती है. जानकारी के अनुसार, वर्तमान में उत्तर प्रदेश होमगार्ड विभाग में हजारों पद खाली पड़े हैं. ऐसे में सरकार की मंजूरी झंडी मिलते ही भर्ती प्रक्रिया शुरु कर दी जाएगी.

बता दें कि उत्तर प्रदेश होमगार्ड विभाग में वर्तमान में कुल पदों की संख्या तकरीबन 1,18,348 है. जिनमें से 86,000 पदों पर ही मौजूदा समय में कर्मचारी कार्यरत हैं. ऐसे में वर्तमान में करीब 30,000 पद अभी रिक्त हैं. जिन्हें भरने की शुरुआत जल्द ही की जा सकती है.

UP Home Guard Recruitment 2021: भर्ती प्रक्रिया अक्टूबर में शुरू होने की खबर
कई मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी बताया जा रहा है कि यूपी होमगार्ड विभाग अक्टूबर महीने में भर्ती के लिए आधिकारिक अधिसूचना जारी कर सकता है. इसलिए भर्ती के लिए इच्छुक उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे भर्ती की अधिसूचना सम्बन्धी अपडेट के लिए होमगार्ड विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें.

न्याय के लिए अनाथों की आवाज बनी है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला 

ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

SHARE THIS:

सरकार द्वारा भले ही प्रयास किए जाते हो कि अनाथ बच्चों को न्याय मिल सके लेकिन जमीनी स्तर पर न्याय कही मिलता नहीं दिखाई देता. ऐसे में अनाथ बच्चों की आवाज बन कर सभी सरकारी सुविधाओं के साथ-साथ उनके भविष्य को संवार रही है लखनऊ की पोलोमी पावनी शुक्ला. लखनऊ में रहने वाली पाविनी शुक्ला अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए निस्वार्थ कार्य कर रही है. वह जमीन से लेकर अदालत तक अनाथ बच्चों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिदिन कार्य करने में जुटी हुई है.

लोकल18 की टीम से खास बातचीत में उन्होंने बताया कि यूनिसेफ़ की रिपोर्ट के अनुसार देश में 2.9 करोड़ बच्चें अनाथ है. दूसरी रिपोर्ट के अनुसार 3 लाख से कम बच्चें अनाथालय में है और पूरे देश में एडॉप्शन 6 हजार से कम होता है.

विख्यात पत्रिका \”फेमिना\” ने अपने देश की 40 ऐसी महिलाओं की सूची जारी की है जिन्होंने अपने क्षेत्र में विशिष्ट योगदान देते हुए लाखों लोगों को प्रेरित किया है. इस सूची में लखनऊ की पॉलोमी पाविनी शुक्ला भी शामिल की गई हैं. लम्बे अरसे से अनाथ बच्चों को समान अधिकार दिलाने व उनके हित की सुरक्षा के लिए माननीय उच्चतम न्यायलय तक जनहित याचिका लड़ने के लिए उन्हें यह सम्मान मिला है.

अनाथ बच्चों पर उनके द्वारा अपने भाई अमंद शुक्ला के साथ‌ संयुक्त रुप से लिखी पुस्तक \” Weakest on earth – Orphans of India\” तथा उनके परिश्रम द्वारा कई राज्यों में अनाथ बच्चों हेतु नीतिगत बदलाव आए हैं, जिनमें अनाथ बच्चों के लिए आरक्षण, बजट वृद्धि आदि शामिल हैं.

Yogi Cabinet Expansion: केंद्र की तर्ज पर होगा UP में योगी मंत्रिमंडल विस्तार, OBC और दलित पर फोकस

UP: आगामी विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में योगी कैबिनेट विस्तार होने जा रहा है.

UP News: यूपी में चुनावी प्रक्रिया शुरू होने में अब 4 महीने भी नहीं बचे हैं, ऐसे में इस कैबिनेट विस्तार को राजनीतिक विस्तार की संज्ञा दी जा सकती है. केंद्र की तरह राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार में भी ओबीसी और दलित प्रमुखता से रहेंगे.

SHARE THIS:

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP)  की उत्तर प्रदेश सरकार मंत्रिमंडल विस्तार (UP Cabinet Expansion) तो आज कर रही है, लेकिन इस विस्तार को राजनीतिक विस्तार की संज्ञा दी जा सकती है. चुनावी प्रक्रिया शुरू होने में अब 4 महीने भी नहीं बचे हैं, ऐसे में केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार की तरह राज्य मंत्रिमंडल  के विस्तार में भी ओबीसी और दलित प्रमुखता से रहेंगे. कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए ब्राह्मण चेहरा को बीजेपी मंत्रिमंडल में शामिल कर रही है, जिससे साफ हो गया है कि पिछड़ों और दलितों के साथ ब्राह्मण को मंत्रिपद देकर एक संदेश दिया जा रहा है.

2022 के चुनाव से पहले इस विस्तार से बीजेपी अपनी गुणा-गणित फिट करेगी और इन नेताओं को अतिरिक्त जिम्मेदारी भी देगी. सूत्र बताते हैं कि 7 मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी. जितिन प्रसाद की बात करें तो उन्होंने बंगाल चुनाव के बाद बीजेपी का दामन थाम लिया था. पश्चिम बंगाल में वे कांग्रेस के महत्वपूर्ण सिपाही बन कर गए थे, लेकिन वापस लौटे तो भगवा रंग में रंगे हुए थे. इसका इनाम जितिन प्रसाद को मिल रहा है. यूपी में ब्राह्मणों को खुश करन की एक पहल भी है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और यूपी कांग्रेस के बड़े नेता जितिन प्रसाद इससे पहले दो बार सांसद रहे हैं.

दूसरा नाम जो चर्चा में है, वो संगीता बलवंत बिंद का है. वे गाजीपुर की सदर सीट से विधायक हैं और वो पिछड़ी जाति से आती हैं. संगीता 42 साल की हैं, जो पहली बार विधायक चुनी गई हैं.

UP में आज होगा मंत्रिमंडल विस्तार, जितिन प्रसाद सहित ये नए चेहरे हो सकते हैं शामिल

तीसरा नाम जो सबसे चर्चा में है, संजय गौड़ जो कि सोनभद्र जिले की ओबरा सीट से बीजेपी के विधायक हैं और अनुसूचित जनजाति समाज से आते हैं. संजय गौड़ 46 साल के हैं और  पहली बार विधायक चुने गए हैं.

चौथा चर्चित नाम धर्मवीर प्रजापति का है, जो विधान परिषद के सदस्य हैं. धर्मवीर इसी साल जनवरी में एमएलसी बने हैं. पश्चिमी उत्तरप्रदेश के धर्मवीर प्रजापति वर्तमान में माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं.

पांचवा चर्चित नाम छत्रपाल सिंह गंगवार का है. ये माना जा रहा है कि बीजेपी की कोशिश संतोष गंगवार की जगह को भरने की है, क्योंकि संतोष गंगवार अब केंद्रीय मंत्रिमंडल में नहीं है. छत्रपाल बरेली जिले के बहेड़ी विधानसभा सीट से विधायक हैं. ये ओबीसी वर्ग के कुर्मी समाज से आते हैं. बीजेपी के ये वरिष्ठ नेता संघ के प्रचारक भी रह चुके हैं.

Yogi Cabinet Expansion: जानिए कौन हैं BJP MLA दिनेश खटिक? 2017 के चुनाव में दिखाया था दम

छठा नाम पलटू राम हैं, जो बलरामपुर की सदर से विधायक हैं और दलित समाज से आते हैं. पलटू राम मूल राम से गोंडा के निवासी हैं और पहली बार बलरामपुर सदर सीट से विधायक बने हैं.

सातवां नाम हस्तिनापुर के बीजेपी विधायक दिनेश खटिक का है, जो दलित समाज से हैं और आज मंत्रीपद के शपथ लेने वालों की कतार में हैं.

सम्राट मिहिर भोज गुर्जर-प्रतिहार थे, लेकिन BJP ने उनकी जाति बदल दी - अखिलेश यादव

UP: सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बीजेपी पर हमला (File pic)

UP Politics: दादरी के मिहिर भोज पीजी कॉलेज में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा के अनावरण को लेकर गुर्जर और राजपूत (क्षत्रिय) समाज आमने सामने थे.

SHARE THIS:

लखनऊ. समाजवादी पार्टी (SP) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने रविवार को सम्राट मिहिर भोज की जाति को लेकर उपजे विवाद में दखल देते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सम्राट मिहिर भोज गुर्जर-प्रतिहार थे लेकिन पार्टी के नेताओं ने उनकी जाति ही बदल दी, यह निंदनीय है.

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने रविवार को ट्वीट किया, ‘इतिहास में पढ़ाया जाता रहा है कि सम्राट मिहिर भोज गुर्जर-प्रतिहार थे, पर भाजपाइयों ने उनकी जाति ही बदल दी है. निंदनीय!’ यादव ने कहा, ‘छल वश भाजपा स्थापित ऐतिहासिक तथ्यों से जानबूझ कर छेड़छाड़ व सामाजिक विघटन कर किसी एक पक्ष को अपनी तरफ करती रही है. हम हर समाज के मान-सम्मान के साथ हैं!’

अखिलेश यादव ने किया ये ट्वीट

अखिलेश यादव ने किया ये ट्वीट

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 22 सितंबर को दादरी के मिहिर भोज पीजी कॉलेज में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा के अनावरण के दौरान शिलापट्ट से गुर्जर शब्द हटाने को लेकर शुक्रवार को गुर्जर समाज के लोग विरोध में उतर आए. दादरी के मिहिर भोज पीजी कॉलेज में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा के अनावरण को लेकर गुर्जर और राजपूत (क्षत्रिय) समाज आमने सामने थे. हालांकि, मुख्यमंत्री के दौरे से पहले दोनों समुदाय के प्रतिनिधियों ने एक मंच पर आकर विवाद खत्म कर दिया था. इसके बाद प्रतिमा अनावरण के लिए लगने वाले शिलापट्ट पर गुर्जर शब्द को लेकर राजनीति शुरू हो गई.

UP Election 2022: कल से 5 दिन के यूपी दौरे पर प्रियंका गांधी, लखनऊ में तैयार करेंगी चुनावी रोडमैप

UP: प्रियंका गांधी कांग्रेस में कार्यकर्ताओं की नाराजगी पर करेंगी बातचीत (File photo)

Priyanka Gandhi UP Visit: कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी कल यानी 28 सिंतबर से यूपी दौरे पर जा रही हैं. चुनाव की दृष्टि से ये बड़ा महत्वपूर्ण दौरा माना जा रहा है.

SHARE THIS:

पवन गौड/दिल्ली. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) में प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) कांग्रेस को फिर से जिंदा करने के लिए पूरा जोर लगाए हुए हैं. इसके लिए प्रियंका लगातार पार्टी नेताओं के साथ बैठक करके चुनाव की रणनीति तैयार कर रही हैं तो वहीं अपने कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और बैठकों के जरिए उनको चुनाव में एक्टिव करने में लगी हुई हैं. अब 28 सिंतबर से प्रिंयका गांधी फिर से 5 दिन के यूपी दौरे पर जा रही हैं और वहां नेताओं के साथ बैठकर चुनावी रोडमैप तैयार करेंगी. इसके अलावा कांग्रेस की प्रतीज्ञा यात्रा में हर मंडल में सभा भी प्रियंका करेंगी.

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी कल यानी 28 सिंतबर से यूपी दौरे पर जा रही हैं. चुनाव की दृष्टि से ये बड़ा महत्वपूर्ण दौरा माना जा रहा है. इस दौरे में यूपी में 5 दिन का रहेगा प्रियंका गांधी का प्रवास. इसमें रणनीतिक और सलाहकार समिति के साथ करेंगी बैठक. कांग्रेस के तमाम कार्यकर्ताओं से मिलेगी प्रियंका और पार्टी के अंदर जारी गतिरोध और कार्यकर्ताओं की नाराजगी पर भी सभी नेताओं के साथ बातचीत करेंगी. इसके साथ साथ पूरे प्रदेश भर में होने वाली कांग्रेस की प्रतिज्ञा यात्रा के लिए भी योजना बनाई जाएगी. प्रियंका इस यात्रा में हर मंडल में रैली करेंगी और योगी सरकार को घेरती हुई नजर आएंगी.

यह भी पढ़ें- UP: प्रतापगढ़ की घटना पर सख्त CM योगी, BJP सांसद संगम लाल गुप्ता को किया लखनऊ तलब

प्रियंका 9 अक्टूबर को वाराणसी और 10 अक्टूबर को मेरठ में जनसभा को सबोधित करेंगी. पहले ये रैलियां सितम्बर के महीने में होनी थी लेकिन श्राद्ध पक्ष के चलते उनमें परिवर्तन कर दिया गया. अब इनकी शुरुआत नवरात्रि में होगी. प्रियंका यूपी चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के अंदर नेताओ में चल रही गुटबाज़ी और मनमुटाव को खत्म कर इन चाहती हैं. जिस से पार्टी का सभी नेता चुनाव के समय पर एकजुट दिखे और पार्टी को फिर से उत्तर प्रदेश में बेहतर प्रदर्शन करने में कामयाबी दिला सकें. इसीलिए चुनाव से पहले प्रियंका ने पूरे चुनाव की कमान अपने हाथ मे ले ली है.

मुंबई की TikTok गर्ल-YouTuber ने लखनऊ के युवक पर दर्ज कराई रेप की FIR

UP: मुंबई की एक युवती ने लखनऊ के एक युवक पर रेप केस किया है.

UP News: लखनऊ में दर्ज एफआईआर के मुताबिक करीब 2 साल पहले मुंबई की इस टिकटॉक गर्ल और यूट्यूबर युवती की सोशल मीडिया पर दिव्यांश तिवारी से दोस्ती हुई थी.

SHARE THIS:

लखनऊ. महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुंबई (Mumbai) में कांदिवली की रहने वाली एक युवती ने लखनऊ (Lucknow) में मानस विहार, इंदिरा नगर के रहने वाले दिव्यांश तिवारी उर्फ राजेंद्र पंडित पर रेप की एफआईआर दर्ज कराई है. एफआईआर के मुताबिक करीब 2 साल पहले मुंबई की इस टिकटॉक (Tiktok) और यूट्यूब (You Tube) पर अपने वीडियो डालने वाली युवती की सोशल मीडिया पर दिव्यांश तिवारी से दोस्ती हुई थी. तब दिव्यांश तिवारी ने खुद को एक बड़ा कारोबारी और प्रोडक्शन हाउस का मालिक बताया था. यह भी कहा था कि वह एक फिल्म बनाने जा रहा है.

इसके बाद दोनों में दोस्ती बढ़ी तो मुंबई की ये युवती लखनऊ आई और दिव्यांश के साथ लिव-इन में रहने लगी. इस दौरान देश के अलग-अलग शहरों में भी ये युवती दिव्यांश के साथ गई और गर्भवती भी हो गई. जब उसने दिव्यांश को यह बात बताई तो दिव्यांश ने जबरन गर्भपात करा दिया. आरोप है कि इसके बाद भी दिव्यांश युवती का शारीरिक शोषण करता रहा और झांसा देता रहा कि वह जल्द ही एक फिल्म बनाने जा रहा है, जिसमें मुंबई की इस टिकटॉक गर्ल को काम मिलेगा.

पीड़ित युवती ने अपने यू ट्यूब पर डाले गए अपने तमाम वीडियो के जरिए पिछले कुछ सालों में करीब 25 लाख रुपए कमाए थे. आरोप है कि उसमें से 20 लाख रुपए दिव्यांशु ने उससे फिल्म बनाने के नाम पर ले लिए. कुछ समय बीतने के बावजूद भी जब फिल्म बनाने का काम शुरू नहीं हुआ तो युवती ने दिव्यांश से बातचीत की. युवती का आरोप है कि इसके बाद दिव्यांश ने उसके साथ मारपीट की और धमकाया, जिसके बाद युवती मुंबई चली गई.

मुंबई में युवती ने एक बच्चे को जन्म दिया. युवती का आरोप है कि दिव्यांशु बच्चे को अपनाने को तैयार नहीं है. तमाम बातचीत के बाद युवती मुंबई से लखनऊ दिव्यांश के घर पहुंच गई. आरोप है कि वहां पर खुद को समाजवादी पार्टी की बड़ी नेता बताते हुए दिव्यांश की बहनों ने युवती से अभद्रता भी की. जिसके बाद इन तीनों को ही आरोपी बनाते हुए युवती ने इंदिरा नगर कोतवाली में एफआईआर दर्ज की करवाई है. इंस्पेक्टर इंदिरानगर डॉ राम प्रजापति ने बताया कि एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है.

बड़ी खबर! UP में आज होगा मंत्रिमंडल विस्तार, जितिन प्रसाद सहित ये नए चेहरे हो सकते हैं शामिल

UP: उत्तर प्रदेश में आज योगी कैबिनेट का विस्तार होने जा रहा है.

UP News: यूपी चुनाव से पहले योगी मंत्रिमंडल विस्तार में आज करीब आधा दर्जन नए मंत्री शपथ ले सकते हैं. दोपहर 2 बजे राजभवन में तैयारी को लेकर बैठक है. जानकारी के अनुसार आज शाम 5 बजे शपथ ग्रहण समारोह होना है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 12:57 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से बड़ी खबर आ रही है. जानकारी के अनुसार योगी सरकार का आज मंत्रिमंडल विस्तार (Yogi Cabinet Expansion) होना है. इसमें करीब आधा दर्जन नए मंत्री शपथ ले सकते हैं.  दोपहर 2 बजे राजभवन में तैयारी को लेकर बैठक है. अभी तक जो संभावित नाम सामने आ रहे हैं, उनमें जितिन प्रसाद, संजय निषाद, बेबी रानी मौर्य, संगीता बलवंत बिंद, तेजपाल नागर सहित आधा मंत्री शपथ ले सकते हैं. इसके अलावा पलटू राम, दिनेश खटीक, कृष्णा पासवान का नाम भी मंत्री पद की दौड़ शामिल है. जानकारी के अनुसार आज शाम 5 बजे शपथ ग्रहण समारोह होना है.

खबर है कि राजभवन के सभी स्टाफ को रविवार को छुट्टी के दिन मीटिंग के लिए बुलाया गया है. कुछ विधायकों को भी लखनऊ रहने के लिए कहा गया है. ​

वहीं बीजेपी संगठन के सूत्रों के अनुसार आज 10 विधायक मंत्रिपद की शपथ ले सकते हैं. दरअसल जितिन प्रसाद, संजय निषाद, बेबी रानी मौर्य और पिछड़ा वर्ग के एक और नेता जिनको एमएलसी के नामों के लिए फाइनल किया गया है. उनका नाम मंत्री बनने के लिए लगभग तय है. लेकिन इसके अलावा आगामी चुनाव को देखते हुए अलग-अलग वर्गों से छह मंत्री और भी ले सकते हैं.

दरअसल अब सरकार के सामने इस बात की समस्या नहीं है कि जिसे मंत्री बनाया जाएगा, उसे एमएलसी या एमएलए भी होना जरूरी है. यूपी विधानसभा चुनाव से पहले सरकार अलग-अलग लोगों को साधने के लिए अलग से आने वाले लोगों को मंत्री बना सकती है.

दरअसल, चार महीने बाद होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव को देखते हुए इस कैबिनेट विस्तार विस्तार को काफी अहम माना जा रहा है. यह लंबे समय से प्रतीक्षित था. इसी साल 8 जुलाई को हुए मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार में भी उत्तर प्रदेश के नेताओं को खास तरजीह दी गई थी. इसमें जातीय गणित को भी साधने का प्रयास किया गया था. केंद्र में यूपी से बनाए गए 7 नए मंत्रियों में 4 ओबीसी, 2 दलित और एक ब्राह्मण समाज के थे. ये पहला मौका है जब मोदी कैबिनेट में यूपी से रिकॉर्ड 15 मंत्री बनाए गए हैं.

इनपुट: अजीत सिंह/अनामिका सिंह

UP News Live Updates: महंत नरेंद्र गिरि खुदकुशी मामले में CBI की फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने शुरू की जांच

सीबीआई की टीम मठ के अंदर अलग-अलग एंगल से तस्वीरे ले रही है

Uttar Pradesh News Live: नैनी जेल में बंद आनंद गिरी वाह आध्या तिवारी और संदीप तिवारी की संपत्तियों का भी ब्यौरा ले सकती है, सीबीआई अदालत की अनुमति के बाद इन लोगों से पूछताछ करेगी.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 26, 2021, 12:30 IST
SHARE THIS:

UP News Live Updates 26 September 2021: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के संदिग्ध मौत मामले में सीबीआई (CBI) की टीम ने प्रयागराज पहुंचकर जांच शुरू कर दी है. सीबीआई की टीम मठ के अंदर अलग-अलग एंगल से तस्वीरे ले रही है. फॉरेंसिक एक्सपर्ट भी एविडेंस कलेक्ट कर रहे हैं. मौत का राज जानने और उस रहस्य से पर्दा उठाने के लिए सीबीआई रविवार को 8 पॉइंट पर काम कर सकती हैं. 1- सीबीआई के एएसपी के एस नेगी ने नेतृत्व में टीम बाघंबरी मठ पहुंचकर एक बार फिर छानबीन कर सकती हैं.

2- महंत नरेंद्र गिरि ने जिस कमरे में खुदकुशी की थी, उस हैंगिंग रूम की सील खोलकर वहां नाट्य रूपांतरण कर सकती हैं.

3- जिन तीन शिष्यों ने दरवाजा तोड़कर महंत नरेंद्र गिरि के शव को नीचे उतारा था, सीबीआई की टीम आज उनसे औपचारिक तौर पर बयान ले सकती हैं.

4- सीबीआई की एक टीम आज  लेटे हुए बड़े हनुमान जी के मंदिर और नैनी जेल जाकर वहां बंद आरोपियों से पूछताछ कर सकती है.

5- निरंजनी अखाड़े के साधु संत महंत नरेंद्र गिरि की वसीयत कराने वाले वकीलों से मुलाकात कर उनसे वसीयत का सच जान सकते है.

6- सीबीआई आज किसी सरकारी गेस्ट हाउस को अपना कैंप कार्यालय बनाकर वहां के लिए कुछ फोन नंबर जारी कर सकते हैं, ताकि इस मामले में लोग उसे जानकारी दे सकें.

7- नैनी जेल में बंद आनंद गिरी वाह आध्या तिवारी और संदीप तिवारी की संपत्तियों का भी ब्यौरा ले सकती है, सीबीआई अदालत की अनुमति के बाद इन लोगों से पूछताछ करेगी.

8- जिन सफेदपोश और प्रॉपर्टी डीलरों का नाम आ रहा था. सीबीआई की एक टीम उनके बारे में भी छानबीन करेगी. इस मामले की जांच कर रही एसआईटी ने सभी दस्तावेज सीबीआई को सौंप दिया. इस मामले में सीबीआई ने केस भी दर्ज कर लिया है.

UP: प्रतापगढ़ की घटना पर सख्त CM योगी, BJP सांसद संगम लाल गुप्ता को किया लखनऊ तलब

UP: प्रतापगढ़ की घटना पर सख्त CM योगी (File photo)

UP News: इस दौरान बीजेपी सांसद पूरी घटना की जानकारी सीएम योगी को देंगे. वहीं सीएम से मुलाकात के बाद बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता आज डिप्टी सीएम केशव मौर्य से भी मिलने जाएंगे.

SHARE THIS:

प्रतापगढ़. यूपी के प्रतापगढ़ (Pratapgarh) के संगीपुर में एक कार्यक्रम के दौरान बीजेपी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने रविवार को संज्ञान लिया हैं. सूत्रों के मुताबिक सीएम योगी ने बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता को लखनऊ तलब किया है. बताया जा रहा है कि दोपहर 1 बजे उनको मिलने का समय दिया गया है. इस दौरान बीजेपी सांसद पूरी घटना की जानकारी सीएम योगी को देंगे. वहीं सीएम से मुलाकात के बाद बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता आज डिप्टी सीएम केशव मौर्य से भी मिलने जाएंगे.

बता दें शनिवार देर शाम बीजेपी सांसद की तहरीर पर लालगंज कोतवाली में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी और उनकी पुत्री व रामपुर खास से कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा (मोना) समेत 27 नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ जानलेवा हमला, बलवा समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. दरअसल यहां सांगीपुर ब्लॉक सभागार में शनिवार को गरीब कल्याण मेले का आयोजन किया गया था. इसमें जारी प्रोटोकॉल के मुताबिक सांसद संगम लाल गुप्ता को बतौर मुख्य अतिथि दोपहर 1 बजे वहां पहुंचना था लेकिन वह देर से पहुंचे. इस बीच कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी एवं उनकी बेटी विधायक आराधना मिश्रा लगभग 2 बजे कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए.

BJP सांसद को दौड़ा-दौड़ाकर पीटने की कोशिश
उन्हें समर्थक नारेबाजी करते हुए उन्हें मंच तक ले गए. ठीक पांच मिनट बाद सांसद संगम लाल गुप्ता भी पहुंच गए तो उनके समर्थक भी नारेबाजी करते हुए उन्हें मंच तक ले गए. अचानक माहौल गरमा गया और दोनों के समर्थकों ने नारेबाजी करनी शुरू कर दी. इसके बाद समर्थकों में मारपीट शुरू हो गई. प्रमोद तिवारी से धक्का-मुक्की हुई और आराधना मिश्रा का मोबाइल फोन गायब हो गया. मारपीट से सभागार में भगदड़ मच गई. स्थितियां ऐसी हो गईं कि कार्यक्रम में पहुंचे बीजेपी सांसद संगम लाल गुप्ता को जान बचाकर भागना पड़ा. कहा जा रहा है कि सांसद को दौड़ा-दौड़ाकर पीटने की कोशिश की गई. इस क्रम में वे सड़क पर गिर गए. मारपीट के दौरान सांसद और उनके समर्थक बुरी तरह से जख्मी हो गए.

UP: योगी सरकार ने प्रमोशन पाने वाले 8 IPS अफसरों को दी तैनाती, आईजी से एडीजी बने अमिताभ यश

UP: योगी सरकार ने किए 8 आईपीएस अफसरों के तबादले (File photo)

IPS officers Transfer List: इसी कड़ी में आईपीएस रविशंकर छवि को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से डीआईजी पद पर प्रोन्नत होने पर 1090 महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन उत्तर प्रदेश की शाखा में ही तैनाती दी गई है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने रविवार को 8 (IPS Transfer) आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए. यूपी सरकार ने नौ महीने पहले प्रमोशन पाने वाले आईपीएस अफसरों को तैनाती दी है. प्रमोशन पाने वाले आठ में से सात अफसरों को उसी जगह तैनात किया गया है जहां वह पहले थे. आईपीएस नवनीत सिकेरा को एडीजी हाउसिंग एंड वेलफेयर की जिम्मेदारी दी गई है. इसके अलावा,आईजी से प्रमोशन पाए एसटीएफ चीफ अमिताभ यश और नवनीत सिकेरा को उनके विभाग में ही तैनाती दी गई है. वहीं, एडीजी विजय प्रकाश को फायर सर्विस में तैनाती दी गई है.

देखें पूरी लिस्ट

देखें पूरी लिस्ट

इसी कड़ी में आईपीएस रविशंकर छवि को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से डीआईजी पद पर प्रोन्नत होने पर 1090 महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन उत्तर प्रदेश की शाखा में ही तैनाती दी गई है. प्रतिभा अंबेडकर को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से डीआईजी पद पर प्रोन्नत होने पर तनिक सेवाएं उत्तर प्रदेश में ही तैनाती दी गई है.आपको बता दें कि विजय प्रकाश, अमिताभ यश, विनय कुमार यादव, हीरा लाल, शिव शंकर सिंह, रवि शंकर सिंह और प्रतिभा अम्बेडकर को उसी जगह पर तैनात किया गया है जहां वह पहले थे.

UP Election 2022: विधान परिषद में मनोनीत सदस्यों के नाम और मंत्रिमंडल विस्तार पर जल्द लगेगा विराम!

UP: उत्तराखंड की राज्यपाल रह चुकी बेबी रानी मौर्य का नाम दलित कोटे से हो सकता है (File photo)

Yogi Government News: वैसे चर्चा बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह और रामचंद्र प्रधान के नाम की भी है. चार नामों पर राज्यपाल द्वारा मुहर लगने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में एक बार फिर 2022 (Up Assembly Election 2022) में चुनाव जीतकर सत्ता पर काबिज होने के लिए बीजेपी (BJP) ने तैयारी कर लिया है. लंबे इंतजार के बाद बीजेपी जल्द से जल्द विधान परिषद और मंत्रिमंडल विस्तार की खबरों पर विराम लगाएगी. ये माना जा रहा है कि शीघ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की संस्तुति पर अब विधान परिषद में चार नए सदस्य मनोनीत होंगे. मुख्यमंत्री जिन नामों पर संस्तुति करेंगे राज्यपाल आनंदीबेन पटेल उनको मनोनीत करेंगी. विधान परिषद में भाजपा को भले ही में बहुमत नहीं है, लेकिन इन चार सदस्यों की मदद से वह बहुमत के करीब आ जाएगी. उत्तर प्रदेश की 100 सदस्यों वाली विधान परिषद में 10 सदस्यों को मनोनीत करके भेजा जाता है.

प्रदेश सरकार की सिफारिश पर राज्यपाल इन्हेंं मनोनीत करते हैं. वैसे तो मनोनीत क्षेत्र के सभी सदस्यों को साहित्य, कला, सहकारिता, विज्ञान और समाज सेवा के क्षेत्र से चुना जाना चाहिए, लेकिन पिछले कुछ वर्ष में राजनेताओं को ही मनोनीत करने का चलन शुरू हो गया है. विधान परिषद में फिलहाल भाजपा के 32 सदस्य हैं. अब चार सदस्य बढ़ने के साथ सदन में इनकी संख्या 36 हो जाएगी. अखिलेश सरकार ने वर्ष 2015 में लीलावती कुशवाहा, रामवृक्ष सिंह यादव, एसआरएस यादव और जितेंद्र यादव को परिषद का सदस्य बनाया था. एसआरएस यादव का 2020 में कोरोना वायरस संक्रमण से निधन हो गया था.

यह भी पढ़ें- Pratapgarh News: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी की बढ़ी मुश्किलें, विधायक आराधना मिश्र समेत 50 अज्ञात लोगों पर FIR

बीजेपी से कौन कौन हो सकते हैं सूची में शामिल. चर्चा इस बात की है कि बीजेपी अपने इन चारों नामों से जातीय समीकरण दुरुस्त रखेगी. कयास लगाया जा रहा है कि उत्तराखंड की राज्यपाल रह चुकी बेबी रानी मौर्य का नाम दलित कोटे से हो सकता है. वहीं जितिन प्रसाद को ब्राह्मण कोटे से सदस्य बनाया जा सकता है. निषाद पार्टी के प्रमुख संजय निषाद पिछड़े कोटे से हो सकते हैं. वहीं एक प्रत्याशी पश्चिमी उत्तर प्रदेश से जाट कोटे से हो सकता है. वैसे चर्चा बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह और रामचंद्र प्रधान के नाम की भी है. चार नामों पर राज्यपाल द्वारा मुहर लगने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी.

UP Police SI Recruitment 2021: यूपी SI भर्ती में ऐसे होगा चयन, इन टेस्ट में होना होगा पास

UP Police SI Recruitment 2021: भर्ती की आवेदन प्रक्रिया 1 अप्रैल से 15 जून तक आयोजित की गई थी.

UP Police SI Recruitment 2021: केवल परीक्षा के माध्यम से ही उम्मीदवारों का चयन नहीं किया जाएगा. बल्कि इसके लिए उम्मीदवारों को और भी कई परीक्षणों से गुजरना होगा. ये परिक्षण क्या हैं इसकी जानकारी नीचे साझा की जा रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 25, 2021, 22:27 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Police SI Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड (UPPRPB) द्वारा जल्द ही सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा के तारीखों की घोषणा की जाएगी. बता दें कि इस परीक्षा के माध्यम से कुल 9534 पदों पर भर्तियां की जाएंगीं. जिनमें सब इंस्पेक्टर के 9027, प्लाटून कमांडर के 484 और फायर ऑफीसर के 23 पद शामिल हैं. भर्ती की आवेदन प्रक्रिया 1 अप्रैल से 15 जून तक आयोजित की गई थी. जिसके लिए तकरीबन 15 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया है.

गौरतलब है कि भर्ती प्रक्रिया के तहत लिखित परीक्षा आयोजित की जाएगी. लेकिन केवल परीक्षा के माध्यम से ही उम्मीदवारों का चयन नहीं किया जाएगा. बल्कि इसके लिए उम्मीदवारों को और भी कई परीक्षणों से गुजरना होगा. ये परिक्षण क्या हैं इसकी जानकारी नीचे साझा की जा रही है.

UP Police SI Recruitment 2021: इन परीक्षणों में लेना होगा भाग
यूपी एसआई भर्ती के लिए भर्ती के लिए जारी अधिसूचना के अनुसार, उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद कई अन्य टेस्ट भी पास करने होंगें. परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवारों को सबसे पहले डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और शारीरिक दक्षता परिक्षण के लिए बुलाया जाएगा. ये चरण क्लियर करने के बाद उम्मीदवारों का मेडिकल टेस्ट किया जाएगा. बता दें कि लिखित परीक्षा के अलावा बाकी सभी परीक्षणों में केवल क्वालीफाइ करना होगा.

ये भी पढ़ें-
SSC Selection Post Phase 9 : केंद्र सरकार में 3000 से अधिक नौकरियां
Teacher Recruitment 2021: शिक्षकों के 2200 से अधिक पदों पर आज से करें आवेदन

यमुना एक्सप्रेसवे पर आज आधी रात से बढ़ा व्यावसायिक वाहनों का टोल टैक्स, जानें नई दर

यमुना एक्सप्रेसवे पर आज आधी रात से कमर्शियल वाहनों का टोल टैक्स बढ़ा

Yamuna Expressway : यमुना एक्सप्रेसवे कमर्शियल वाहनों के लिए पांच पैसे से लेकर 15 पैसे तक की बढ़ोत्तरी की गई है. इससे 100 किलोमीटर तक करीब 15 रुपये तक टोल टैक्स का अतिरिक्त बोझ बढ़ जाएगा. हल्के मालवाहक वाहन, मिनी बस या कॉमर्शियल गाड़ियों को 3.90 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से टोल चुकाना होगा.

SHARE THIS:

लखनऊ. यमुना एक्सप्रेस वे (Yamuna Expressway) व्यावसायिक वाहनों के लिए और मंहगा हो गया है. इन वाहनों पर पांच पैसे से लेकर 15 पैसे तक की बढ़ोत्तरी की गई है, यानी दस किलोमीटर तक डेढ़ रुपये का अतिरिक्त बोझ आएगा जो 100 किलोमीटर पर पहुंचकर 15 रुपये अतिरिक्त हो जाएगा. यमुना एक्सप्रेसवे पर अब हल्के मालवाहक वाहन, मिनी बस या कॉमर्शियल गाड़ियों को 3.90 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से टोल चुकाना होगा. अब तक इन वाहनों को 3.85 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से टोल देना होता था. इसी तरह बस और ट्रक के लिए अब टोल की दरें 7.90 रुपए प्रति किलोमीटर होंगी, जो कि पहले 7.85 रुपए प्रति/किमी थी. प्रति किलोमीटर पांच पैसे से लेकर 15 पैसे तक की बढ़ोतरी की गई है. इसके अलावा भारी वाहन यानी 3 से 6 एक्सेल वाली गाड़ियों को अब यमुना एक्सप्रेसवे से गुजरने के लिए 11.90 रुपए प्रति किलोमीटर की जगह 12.05 रुपए/किमी का टोल देना होगा.

यमुना एक्सप्रेसवे विकास प्राधिकरण द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक ओवर साइज व्हेकिल या 7 धुरी से अधिक वाले वाहनों के टोल रेट में भी इजाफा किया गया है. इसके तहत विशाल आकार वाले वाहनों को अब एक्सप्रेसवे से गुजरने के लिए 15.55 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से टोल देना होगा. पहले यह दर 15.40 रुपए प्रति किलोमीटर थी.

देखें नई दर

Yamuna Expressway, Delhi News, Lucknow News, Commercial Vehicles, Yamuna Expressway Toll Tax, Toll Tax New Rate,यमुना एक्सप्रेसवे

नई दर की सूची.

इतना पड़ेगा बोझ

यमुना एक्सप्रेसवे विकास प्राधिकरण द्वारा जारी सूचना के अनुसार कामर्शियल वाहनों पर पांच पैसे से लेकर 15 पैसे प्रति किलोमीटर का बोझ डाला गया है. इसके मुताबिक अब हर 10 किलोमीटर पर 1.50 रुपये, 20 पर 3 रुपये अतिरिक्त टैक्स का बोझ आएगा. यह 100 किलोमीटर तक जाकर 15 रुपये तक पहुंच जाएगा.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज