• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP Election 2022: जानिए BJP की 'जन आशीर्वाद' और SP की 'जन आक्रोश' यात्रा के पीछे का मकसद!

UP Election 2022: जानिए BJP की 'जन आशीर्वाद' और SP की 'जन आक्रोश' यात्रा के पीछे का मकसद!

जानिए BJP की 'जन आशीर्वाद' और SP की 'जन आक्रोश' यात्रा के पीछे का मकसद!

जानिए BJP की 'जन आशीर्वाद' और SP की 'जन आक्रोश' यात्रा के पीछे का मकसद!

दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के साथ ही जनवादी पार्टी सोशलिस्ट की 'भाजपा हटाओ प्रदेश बचाओ' जनवादी जनक्रांति यात्रा बलिया से शुरू होगी और अयोध्या में खत्म होगी.

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में अगले साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) से पहले सियासी सरगर्मी तेज होती जा रही है. बीजेपी (BJP) ने जातीय समीकरण दुरुस्त करने के लिए ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ शुरू की तो विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (SP) ने जन आशीर्वाद यात्रा के जवाब में ‘भाजपा हटाओ अभियान’ शुरू किया है. दरअसल जातीय समीकरण को दुरुस्त करने के लिए उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी में केंद्र में नए नए बने मंत्रियों को उनकी जातियों और क्षेत्र के हिसाब से जन आशीर्वाद यात्रा करने के लिए कहा. जिसका मकसद जाति विशेष के लोगों तक पहुंच कर यह संदेश देने की कोशिश करना है. इसका उद्देश्य ये भी है कि नए बने मंत्री क्षेत्रों में जाकर अपने जनसंपर्क अभियान को शुरू कर सकें और इस आशीर्वाद यात्रा के जरिए लोगों को 2022 के चुनाव से पहले जोड़ने का काम कर सकें.

इसके जवाब में उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी ने अपने सहयोगी महान दल और जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट) के साथ मिलकर भाजपा हटाओ यात्रा शुरू करने की रणनीति बनाई है. इसके लिए शुरुआत उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल और पश्चिम के इलाकों से की जा रही है. यहां पर बीजेपी अपने सहयोगी दलों को भी मुकाबले के लिए उतार रही है. समाजवादी पार्टी महान दल के जरिए भाजपा हटाओ यात्रा रुहेलखंड लाकर से शुरू कर रही है, जिसमें सबसे पहले पीलीभीत जिले मैं पार्टी अपनी यात्रा शुरू करेगी, उसके बाद 31 अगस्त को अयोध्या में इसका समापन होगा.

विधान परिषद में CM योगी बोले, ‘अब्बा जान’ शब्द कब से हो गया असंसदीय, सपा को परहेज क्यों?

दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के साथ ही जनवादी पार्टी सोशलिस्ट की भाजपा हटाओ प्रदेश बचाओ जनवादी जनक्रांति यात्रा बलिया से शुरू होगी और अयोध्या में खत्म होगी. इस यात्रा का उद्देश्य यह भी है कि समाजवादी पार्टी के नेता अपने सहयोगी दलों के साथ मिलकर जनता को यह बताने का काम करें कि पिछले करीब 5 साल में उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार ने जनता को किस तरह से बरगलाने का काम किया है. समाजवादी पार्टी इसे जागरूकता अभियान भी मानती है.

यात्रा और अभियान के मायने
समाजवादी पार्टी के नेता राजेंद्र चौधरी के मुताबिक यह यात्रा लोगों को किसानों की समस्या, बेरोजगारी, महिला उत्पीड़न, महंगाई, फर्जी मुठभेड़, विकास के मुद्दे, समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान हुए विकास के कार्यों के बारे में असलियत बताने के लिए भी की जा रही है. इसके जरिए जनता को यह बताया जाएगा कि आखिरकार समाजवादी पार्टी का साल 2022 में सत्ता में आना इतना अहम क्यों है. बहरहाल इस जन आशीर्वाद यात्रा और जन आक्रोश के सियासी पार्टियों के लिए अपने अपने मायने हैं, लेकिन सब का उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा जनता से जुड़कर उनके वोट हासिल करना ही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज