Home /News /uttar-pradesh /

धर्मांतरण केस में बड़ा खुलासा: 'अल्लाह के बंदे' समेत 7 कोड वर्ड में से 6 को UP ATS ने क‍िया डिकोड, 10 खास बातें

धर्मांतरण केस में बड़ा खुलासा: 'अल्लाह के बंदे' समेत 7 कोड वर्ड में से 6 को UP ATS ने क‍िया डिकोड, 10 खास बातें

जबरन धर्मांतरण केस की जांच के दौरान 7 कोड वर्ड मिले हैं, जिसमें से 6 को डिकोड करके उसका मतलब पता कर लिया गया है

जबरन धर्मांतरण केस की जांच के दौरान 7 कोड वर्ड मिले हैं, जिसमें से 6 को डिकोड करके उसका मतलब पता कर लिया गया है

Big Disclosure in Uttar Pradesh conversion case: अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया है क‍ि अलग-अलग जगह से हमने 5 गिरफ्तारियां की हैं. बड़े सबूत और साक्ष्य मिले हैं और यह कोई छोटा मामला नहीं है. मुख्यमंत्री जी ने खुद बैठक ली है सभी जांच एजेंसियों को निर्देश दिया है सख्ती से कार्रवाई करें किसी को छोड़ा नहीं जाएगा. हम हर एंगल से जांच कर रहे हैं हमारी जांच एजेंसियां धीरे-धीरे बड़े खुलासे की तरफ बढ़ रहे हैं अभी बहुत कुछ करना बाकी है.

अधिक पढ़ें ...
उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण मामले में UP ATS ने जहरीले कोडवर्ड से जुड़ा सनसनीखेज खुलासा किया है. धर्मांतरण के लिए कट्टरपंथियों के निशाने पर मूक बधिर बच्चे थे, जिन्हें बरगलाने के लिए साइन लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जा रहा था. बच्चों का ब्रेन वॉश करने के लिए जहरीले कोडवर्ड तैयार किए गए थे. ATS ने 7 में से 6 कोडवर्ड को डिकोड कर अवैध धर्मांतरण के इन हथियारों को बेनक़ाब किया है. राज्य में अवैध धर्मांतरण से जुड़ी जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है. एक से बढ़कर एक साज़िशें सामने आ रही हैं. अवैध धर्मांतरण से जुड़े इन मामलों के तह तक पहुंचने के लिए UP के 32 ज़िलों समेत देश के 24 राज्यों में छापेमारी चल रही है. अब तक अवैध धर्मांतरण से जुड़े पांच आरोपियों को गिरफ़्तार किया गया है. इस गिरोह की जड़ें कितनी गहरी हैं, इसका अंदाज़ा इससे भी लगाया जा सकता है कि UP ATS ने महाराष्ट्र के बीड में रहने वाले जिस इरफ़ान शेख़ को गिरफ़्तार किया है, वो दिल्ली में बाल कल्याण मंत्रालय में दूभाषिये का काम करता था. अवैध धर्मांतरण का मुद्दा अब देश में गम्भीर समस्या बनता जा रहा है. कश्मीर से लेकर केरल तक ऐसे मुद्दे देश का ध्यान खींचते रहे हैं. हालात की गम्भीरता को समझकर यूपी सहित कई राज्यों ने इस मुद्दे पर सख़्त क़ानून भी बनाए हैं, लेकिन अब भी अवैध धर्मांतरण कम होता नहीं दिख रहा. अवैध धर्मांतरण की चुनौती से पार पाने के लिए सरकार को कई और सख़्त क़दम उठाने पड़ सकते हैं.



इस केस से जुड़ी 10 बड़ी बातें
'रिवर्ट बैक टू इस्लाम प्रोग्राम' यानी धर्म को परिवर्तन करना डेफ सोसाइटी की टीचर यही काम करती थी और इस कोड के जरिए बातचीत करती थी. छात्रों को इसी कोड के साथ बतचीत कर धर्मांतरण की तरफ ले जाती थी.
'मुतक्की' इस शब्द का मतलब एटीएस को पूछताछ में पता चला है कि हक और सच को तलाश करना है. इसको बार-बार बोलकर बच्चों और अन्य में बातचीत के लिए प्रयोग किया जाता था.
'सलात' यह शब्द नमाज के लिए कहा जाता था. इस्लाम मे जो धर्मांतरण करता तो उसको यह जिम्मेदारी दी जाती थी. यह शब्द बहुत बार बोला जाता था जिससे आम बोलचाल में भी बोल जा सके.
'रहमत' यानी कि बाहर विदेशों से आने वाला फंड इसी नाम के कोड से बातचीत किया जाता था. इस वजह से किसी को शक नही होता था कि वह क्या कर रहे हैं.
'अल्लाह के बंदे' यानी कोई यूट्यूब या सोशल मीडिया से मूक बधिरों के लिए डाले वीडियो लाइक करता था.
मोबाइल नंबर और जन्मतिथि, यह कोडवर्ड में धर्म परिवर्तन करवाने का नाम था. एक आईडी के रूप में इसको बनाया जाता था जिसका आगे इस्तेमाल किया जाता था.
'कौम का कलंक' नाम से एक कोडवर्ड मिला है जिसे डिकोड नहीं किया जा सका है. इसकी जांच की जा रही है एटीएस आईजी के मुताबिक, धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार किए गए. एटीएस की जांच में अभी पता चला है कि जिस साईन लैंग्वेज में बात करने के लिए कोडवर्ड का प्रयोग किया जाता रहा है.
अवनीश अवस्थी ने बताया क‍ि इसमें विदेशी फंडिंग और हवाला का मामला भी सामने आया है. 1.50 से 2 करोड़ रुपए का ट्रांजेक्‍शन विदेशी खातों से हुआ है हमारी एजेंसियां जांच को आगे बढ़ा रहे हैं. यह इंटरनेशनल बॉर्डर से भी जुड़ा मामला है लिहाजा हम केंद्रीय जांच एजेंसियों से भी जांच से जुड़ी बातें शेयर कर रहे है.
उन्होंने कहा क‍ि अलग-अलग जगह से हमने 5 गिरफ्तारियां की हैं. बड़े सबूत और साक्ष्य मिले हैं और यह कोई छोटा मामला नहीं है. मुख्यमंत्री जी ने खुद बैठक ली है सभी जांच एजेंसियों को निर्देश दिया है सख्ती से कार्रवाई करें किसी को छोड़ा नहीं जाएगा. हम हर एंगल से जांच कर रहे हैं हमारी जांच एजेंसियां धीरे-धीरे बड़े खुलासे की तरफ बढ़ रहे हैं अभी बहुत कुछ करना बाकी है.
धर्मांतरण को लेकर सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ ने की बड़ी बैठक- प्रदेश की सभी जांच एजेंसियों को न‍िर्देश दिया है. कहा है क‍ि सख्‍ती से की जाए कार्रवाई. जांच के तह में जाकर एक-एक बिंदु पर जांच की जाए. धर्मांतरण में शामिल किसी भी व्यक्ति को नहीं छोड़ा जाएगा. मुख्यमंत्री का निर्देश हर जिले में धर्मांतरण करने वालों या उनके गिरोह पर नजर रखी जाए और सख्त कार्रवाई की जाए. मुख्यमंत्री ने डीजीपी अपर मुख्य सचिव ग्रह एटीएस और एसटीएफ के बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की थी. यह बैठक सोमवार देर रात तक चली थी.

Tags: Conversion case, UP ATS, UP news, Uttar pradesh news, Yogi adityanath

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर