BSP उपचुनाव की तैयारी में जुटी, मायावती ने पार्टी संगठन में किए बड़े बदलाव

बीएसपी की 9 मंडलों की बैठक के बाद पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के नाम संदेश जारी करते हुए मायावती ने कहा कि बूथ लेवल पर कमेटी की समीक्षा की जाए. सभी कार्यकर्ता उपचुनाव की तैयारी में जुट जाएं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 7, 2019, 6:05 AM IST
BSP उपचुनाव की तैयारी में जुटी, मायावती ने पार्टी संगठन में किए बड़े बदलाव
यूपी पॉवर कॉरपोरेशन ने विद्युत नियामक आयोग को वर्ष 2019-20 में बिजली की कीमतों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव दिया है. (मायावती का फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 7, 2019, 6:05 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों के बाद बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने पार्टी के संगठन में बड़ा बदलाव किया है. यूपी की 12 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले तीन मंडलों को मिलाकर एक जोन बनाया गया है. मंडल प्रमुख अब जोन प्रभारी के रूप में काम करेंगे, जबकि मंडल कोऑर्डिनेटर अब मुख्य जोन प्रभारी के रूप में काम करेंगे.

पार्टी की 9 मंडलों की बैठक के बाद पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के नाम संदेश जारी करते हुए कहा कि मायावती ने कहा कि बूथ लेवल पर कमेटी की समीक्षा की जाए. सभी कार्यकर्ता उपचुनाव की तैयारी में जुट जाएं. बता दें कि शनिवार को बसपा की 9 मंडलों की बैठक खत्म हो गई. इस बैठक में 12 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव  को लेकर विस्तार से चर्चा की गई.

मिशन-2022 के लिए जमीन तैयार कर रही है बसपा
सूत्रों की मानें तो मायावती अब 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई हैं. हाल ही में लखनऊ में बसपा की ऑल इंडिया बैठक में मायावती ने अखिलेश पर मुस्लिमों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि सपा ने ज्यादा मुस्लिम प्रत्याशी उतारने से मना किया था. साथ ही यह भी जाता दिया कि अखिलेश के विरोध के बावजूद उन्होंने 6 मुस्लिमों को टिकट दिया, जबकि सपा ने सिर्फ चार. हालांकि दोनों ही पार्टियों के 3-3 मुस्लिम उम्मीदवार विजयी रहे.

दलित-मुस्लिम सोशल इंजीनियरिंग फ़ॉर्मूले पर बढ़ीं मायावती
वह दलित-मुस्लिम सोशल इंजीनियरिंग के फ़ॉर्मूले पर आगे बढ़ रही हैं. यही वजह है कि आगामी चुनावों में वे दलितों के साथ ही मुस्लिमों की भागीदारी भी बढ़ाएंगी. उनकी रणनीति दलित-मुस्लिम ताकत को धार देने की है. यही वजह है कि उन्होंने मुस्लिमों को कम टिकट देने का आरोप अखिलेश पर लगाया तो वहीं गठबंधन को मिली हार के लिए अखिलेश सरकार में हुए दलित विरोधी कार्य व प्रमोशन में आरक्षण के विरोध को जिम्मेदार ठहरा दिया. उनकी रणनीति स्पष्ट है कि वे अखिलेश को मुस्लिम और दलित विरोधी बताकर खुद को उनका शुभचिंतक साबित करने में लगी हैं.

ये भी पढ़ें-
Loading...

BJP विधायक सुरेंद्र सिंह ने सरकारी डॉक्टरों बताया राक्षस, पत्रकारों पर भी भड़के

यूपी में बदले गए 6 जिलों के पुलिस कप्तान, 22 IPS अफसरों के तबादले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 7, 2019, 5:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...