नीरज शेखर होंगे यूपी से बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार

हाल ही में समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी (BJP) में शामिल होने वाले नीरज शेखर (Neeraj Shekhar) यूपी से बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार (RAJYA SABHA CANDIDATE) होंगे. यह राज्यसभा सीट नीरज शेखर के इस्तीफे के बाद ही खाली हुई है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 8, 2019, 10:51 PM IST
नीरज शेखर होंगे यूपी से बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार
हाल ही में समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी (BJP) में शामिल होने वाले नीरज शेखर (Neeraj Shekhar) यूपी से बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार (RAJYA SABHA CANDIDATE) होंगे. यह राज्यसभा सीट नीरज शेखर के इस्तीफे के बाद ही खाली हुई है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 8, 2019, 10:51 PM IST
हाल ही में समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी (BJP) में शामिल होने वाले नीरज शेखर (Neeraj Shekhar) यूपी से बीजेपी के राज्यसभा उम्मीदवार (RAJYA SABHA CANDIDATE) होंगे. यह राज्यसभा सीट नीरज शेखर के इस्तीफे के बाद ही खाली हुई है. नीरज शेखर ने समाजवादी पार्टी से राजनीति की शुरुआत की थी. बीते लोकसभा चुनाव में बलिया लोकसभा सीट से टिकट न मिलने के कारण वो पार्टी से नाराज चल रहे थे. इसके बाद उन्होंने जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी ज्वाइन की थी.

समाजवादी पार्टी को नुकसान
नीरज शेखर का इस्तीफा समाजवादी पार्टी के लिए एक बड़ा झटका है. उनके इस्तीफे से सपा का राज्यसभा में संख्या बल कम हुआ ही है. वहीं, अहम क्षत्रिय चेहरे को भी खो दिया है. कहा जा रहा है कि नीरज शेखर के इस्तीफे की पटकथा लोकसभा चुनाव के दौरान ही लिखी जा चुकी थी. नीरज शेखर लोकसभा का टिकट न मिलने से नाराज थे.

वे चाहते थे कि अपने पिता की विरासत को सहेजा जाए, लेकिन अखिलेश यादव ने एन वक्त पर उनकी पत्नी सुमन शेखर की जगह सनातन पांडेय को मैदान में उतार दिया. नीरज शेखर की नाराजगी का खामियाजा सपा को लोकसभा चुनाव में भी देखने को मिला. अखिलेश की बलिया रैली में नीरज शामिल नहीं हुए. इतना ही नहीं पूरे चुनाव प्रचार से वे दूरी बनाए रखा.

ये है नीरज का पॉलिटिकल सफर
2007 में पिता चंद्रशेखर की मौत के बाद हुए उपचुनाव में जीत दर्ज कर वे पहली बार सांसद पहुंचे. वे 2009 के लोकसभा चुनाव फिर जीते और लोकसभा पहुंचे, लेकिन 2014 के मोदी लहर में उन्हें हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद सपा ने उन्हें राज्य सभा भेज दिया. वर्ष 2019 में एक बार फिर वे लोकसभा चुनाव लड़कर पिता की विरासत को सहेजना चाहते थे, लेकिन पार्टी अध्यक्ष ने राज्य सभा सदस्य का हावाला देते हुए टिकट नहीं दिया. तभी से नीरज शेखर नाराज चल रहे थे. बात यह भी आई कि टिकट न मिलने से नाराज नीरज के समर्थकों ने चुनाव में बीजेपी के लिए प्रचार किया.
ये भी पढ़ें:
Loading...

कानून बनने के बाद भी UP में जारी है ट्रिपल तलाक, किसी की कटी नाक तो किसी ने झेला हलाला

राम जन्मभूमि पर केवल रामलला का अधिकार है, निर्मोही अखाड़ा का नहीं: VHP

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 10:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...