Lucknow news

लखनऊ

अपना जिला चुनें

UP चुनाव से पहले सोशल मीडिया टीम को धार दे रही BJP, आज लखनऊ में दिग्गज दिखाएंगे राह

यूपी चुनाव को देखते हुए बीजेपी अपनी आईटी और सोशल मीडिया टीमों को धारदार बनाने की कवायद में लगी है.

यूपी चुनाव को देखते हुए बीजेपी अपनी आईटी और सोशल मीडिया टीमों को धारदार बनाने की कवायद में लगी है.

Lucknow News: बीजेपी की आईटी और सोशल मीडिया विभाग की कार्यशाला आज लखनऊ में आयोजित हो रही है. इसके लिए प्रदेश भर के आईटी और सोशल मीडिया टीम को बुलाया गया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) के दौरे से पहले बीजेपी की आईटी और सोशल मीडिया की टीम अपने आईटी प्रमुख अमित मालवीय से मार्गदर्शन लेकर तैयार मिलेगी. टीम को चुनाव के लिए बीजेपी के दिग्गज राजनीतिक राह भी दिखाएंगे. भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के आईटी एवं सोशल मीडिया विभाग को सीएम सहित बीजेपी के दिग्गज चुनावी राह दिखाएंगे. इसके लिए प्रदेश भर के आईटी और सोशल मीडिया टीम को लखनऊ बुलाया गया है.

शुक्रवार 6 अगस्त को एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान मे किया गया है. आईटी और सोशल मीडिया विभाग की प्रदेश कार्यशाला में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ दिनेश शर्मा, प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल दिशा-निर्देश देंगे.

इस दौरान आईटी और सोशल मीडिया के राष्ट्रीय प्रमुख अमित मालवीय कार्यशाला में विशेष रूप से मौजूद रहेंगे. अमित मालवीय कार्यशाला में आईटी एवं सोशल मीडिया विभाग के संयोजकों-सहसंयोजकों से आगामी कार्ययोजना के संदर्भ में विस्तार पूर्वक मार्गदर्शन करेंगे. प्रदेश स्तरीय कार्यशाला में आईटी एवं सोशल मीडिया विभाग के प्रदेश के संयोजक-सहसंयोजक, क्षेत्रीय संयोजक और प्रदेश के सभी जिलो के संयोजक-सहसंयोजक सम्मिलित होंगे. मार्गदर्शन लेने के बाद सोशल मीडिया पर विपक्ष को मात देने मे जुट जाएंगे.

चुनावी तैयारियों के तहत बीजेपी अपने हर विंग को ट्रेनिंग देकर सशक्त करने मे जुटी है ताकि विपक्ष को हर मोर्चे पर मात दी जा सके.

गौरतलब है कि सात अगस्त को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लखनऊ पहुंच रहे हैं. जगत प्रकाश नड्डा  7 अगस्त को सुबह 11 बजे राजधानी लखनऊ पहुंचेंगे. राजधानी लखनऊ में इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में पार्टी द्वारा आयोजित प्रदेश के नवनिर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखों के सम्मेलन को संबोधित करेंगे. राष्ट्रीय अध्यक्ष इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में ही पार्टी के सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों के प्रभारियों की बैठक को भी संबोधित कर आवश्यक मार्गदर्शन करेंगे.

इसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष  पार्टी के राज्य मुख्यालय पहुंचेंगे, जहां पार्टी की संगठनात्मक बैठकों में उपस्थित पदाधिकारियों और अन्य प्रमुख नेताओं का मार्गदर्शन करेंगे. 8 अगस्त की सुबह राजधानी लखनऊ से आगरा के लिए रवाना होंगे. आगरा में पार्टी द्वारा आयोजित चिकित्सक (कोरोना वारियर्स) के सम्मेलन को संबोधित करेंगे, साथ ही पार्टी द्वारा आयोजित विभिन्न संगठनात्मक बैठकों में उपस्थित पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए आवश्यक मार्गदर्शन करेंगे. राष्ट्रीय अध्यक्ष 8 अगस्त की शाम को आगरा से नई दिल्ली चले जाएंगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Meerut: अवैध धर्मांतरण के आरोप में ग्लोबल पीस सेंटर के अध्यक्ष मौलाना Kaleem Siddiqui गिरफ्तार

मेरठ से गिरफ्तार हुए मौलाना कलीम सिद्दीकी

Forceful Conversion in UP: गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब मौलाना कलीम सिद्दीकी मंगलवार शाम सात बजे अन्य मौलानाओं के साथ मेरठ के लिसाड़ीगेट में हूमायुंनगर की मस्जिद माशाउल्लाह के इमाम शारिक के आवास पर एक कार्यक्रम में आए थे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 14:25 IST
SHARE THIS:

लखनऊ/मेरठ. अवैध धर्मांतरण (Illegal Religious Conversion) के मामले में उत्तर प्रदेश एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (UP ATS) ने मेरठ (Meerut) से ग्लोबल पीस सेंटर के अध्यक्ष कलीम सिद्दीकी (Kaleem Siddiqui) को गिरफ्तार किया है. कलीम सिद्दीकी उम्र गौतम का करीबी बताया जा रहा है. मौलाना कलीम जमीयत-ए- वलीउल्लाह का अध्यक्ष भी है. जानकारी के मुताबिक मौलाना कलीम को हवाला के जरिए विदेशों से फंडिंग की जाती थी. यूपी एटीएस लंबे समय से उस पर नजर रखे हुए थी

मौलाना कलीम पर आरोप है कि वह लोगों को प्रलोभन देकर शरीयत व्यवस्था लागू करने और जनसंख्या अनुपात बदलने के लिए वृहद स्तर पर धर्मांतरण करवा रहा था. गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब मौलाना कलीम सिद्दीकी मंगलवार शाम सात बजे अन्य मौलानाओं के साथ मेरठ के लिसाड़ीगेट में हूमायुंनगर की मस्जिद माशाउल्लाह के इमाम शारिक के आवास पर एक कार्यक्रम में आए थे. इसके बाद वे अचानक से लापता हो गए. परिजनों ने उनके मोबाइल पर सम्पर्क किया, लेकिन मोबाइल स्विच ऑफ मिला. देर रात तक हंगामा चलता रहा. बाद जानकारी मिली कि मौलाना को एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है.

ड्राइवर समेत तीन अन्य मौलाना भी गिरफ्त
मुजफ्फरनगर के खतौली क्षेत्र के फूलत निवासी मौलाना कलीम सिद्दीकी के साथ उनके ड्राइवर और तीन अन्य मौलानाओं को एटीएस ने गिरफ्तार किया है. मौलाना सिद्दीकी पर आरोप है कि वह दिल्ली में कई शैक्षणिक, सामाजिक और धार्मिक संस्थाओं की आड़ में अवैध धर्मांतरण का काम करता है. वह गैर मुस्लिमों को पैसों और नौकरी का प्रलोभन देकर उन्हें धर्मांतरण के लिए प्रेरित करता है, बाद में उन्हें भी इसी काम में लगा देता है.

अभिनेत्री सना खान का पढ़वाया था निकाह
जानकारी के मुताबिक मौलाना कलीम सिद्दीकी ने ही बॉलीवुड अभिनेत्री सना खान का निकाह पढ़वाया था. इतना ही नहीं गत 7 सितंबर को मुंबई में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के द्वारा आयोजित राष्ट्र प्रथम और राष्ट्र सर्वोपरि कार्यक्रम में भी मौलाना कलीम शामिल हुआ था.

Kanpur Shootout: पत्नी ऋचा के संपर्क में है आरोपी विकास दुबे, 2 जुलाई को फोन कर कहा था- भाग जाओ

Kanpur Encounter: सूत्रों के अनुसार विकास दुबे ने 2 जुलाई को रात 2 बजे पत्नी ऋचा को फोन करके भाग जाने को कहा था.

Kanpur Encounter: सूत्रों के अनुसार विकास दुबे ने 2 जुलाई को रात 2 बजे पत्नी ऋचा को फोन करके भाग जाने को कहा था.

SHARE THIS:

लखनऊ. कानपुर (Kanpur) के विकरू गांव में एक सीओ समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार होने वाले मुख्य आरोपी विकास दुबे (Vikas Dubey) की पत्नी ऋचा की तलाश में पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है. पुलिस से मिली जानकारी के मुतबिक 2 जुलाई को रात 2 बजे विकास दुबे ने पत्नी ऋचा को फोन करके भाग जाने को कहा था. बताया जा रहा है कि ऋचा बेटे को साथ लेकर फरार हो गई. वहीं, भागते वक्त सीसीटीवी कैमरे की डीवीआर भी साथ ले गई हैं. सूत्रों के अनुसार, ऋचा पति विकास दुबे के हर गुनाह की राजदार हैं. फिलहाल पुलिस की कई टीमें फरार आरोपी विकास दुबे और उसकी पत्नी ऋचा की तलाश में छापेमारी कर रही है.

उधर, सीओ समेत 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार चल रहे मुख्य आरोपी विकास दुबे (Vikas Dubey) पर अब इनाम की राशि बढ़ाकर ढाई लाख रुपए कर दी गई है. बता दें कि इस बड़े हत्याकांड को अंजाम देकर फरार चल रहे विकास दुबे की गिरफ्तारी पुलिस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. 40 थानों की फोर्स, एक हजार से अधिक दरोगा, क्राइम ब्रांच और एसटीएफ की टीम उसकी तलाश में जुटी है. बावजूद उसके 72 घंटे से ज्यादा वक्त गुजरने के बाद भी विकास दुबे और उसके गुर्गे पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं.

कानपुर: CO देवेंद्र मिश्रा के परिजनों से मिले AAP सांसद संजय सिंह, शहीद का लेटर किया ट्वीट

फरार चल रहे विकास दुबे की तलाश में पुलिस चप्पे-चप्पे को छान रही है. पुलिस को आशंका है कि वह चंबल के रास्ते बीहड़ों से होते हुए मध्य प्रदेश व राजस्थान भाग सकता है. पुलिस ने चंबल में भी तलाशी अभियान चला रही है. बता दें कि विकास दुबे के पास से पुलिस से लूटी गई एके-47 और अन्य असलहा मौजूद हो सकता है.

Lucknow: चुनाव प्रभारी बनने के बाद धर्मेन्द्र प्रधान का पहला दौरा, चुनावी रोडमैप पर करेंगे मंथन

यूपी चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान आज से तीन दिवसीय दौरे पर लखनऊ पहुंच रहे हैं.

UP Assembly Election: धर्मेन्द्र प्रधान यूपी की चुनावी टीम घोषणा के बाद मुर्हूत की जगह रिजल्ट पर ज्यादा फोकस करते हुए पितृपक्ष में चुनावी अभियान की शुरूआत करने जा रहे है. कई राज्यों का अनुभव समेटे धर्मेन्द्र प्रधान ने यूपी को लेकर होमवर्क तो कर लिया है लेकिन वो सबसे पहले यूपी की टीम से फीडबैक लेंगे.

SHARE THIS:

लखनऊ. 2022 के विधानसभा चुनाव (Assembly Election 2022) में 350 के लक्ष्य को साधने के लिए यूपी बीजेपी (UP BJP) ने अपनी चुनावी तैयारियों को धार देना अभी से शुरू कर दिया है. यूपी में बीजेपी के जीत का खाका तैयार करने के लिए केंद्रीय शिक्षा मंत्री और यूपी बीजेपी चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) बुधवार से अपने तीन दिन के दौरे पर लखनऊ पहुंच रहे है. यूपी बीजेपी चुनाव प्रभारी के रूप में धर्मेंद्र प्रधान का यह पहला दौरा है. प्रधान आज दोपहर 2.30 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचेंगे. इसके बाद शाम 5 बजे बीजेपी दफ्तर पर 2 दौर में बैठकों का दौर चलेगा. इस बैठक में शामिल होने के लिए यूपी के प्रभारी राधा मोहन सिंह आज ही लखनऊ पहुंचे हैं. धर्मेंद्र प्रधान के साथ इस बैठक में सभी सह चुनाव प्रभारी भी शामिल होंगे.

शाम 5 बजे होने वाली बैठक में सभी प्रभारियों के साथ संगठन के पदाधिकारी, संगठन मंत्री सुनील बंसल, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह शामिल होंगे. इस बैठक में सभी मंत्रिपरिषद के सदस्यों को भी बुलाया गया है.  कई राज्यों के प्रभारी रहे धर्मेन्द्र प्रधान यूपी की चुनावी टीम घोषणा के बाद मुर्हूत की जगह रिजल्ट पर ज्यादा फोकस करते हुए पितृपक्ष में चुनावी अभियान की शुरूआत करने जा रहे है. कई राज्यों का अनुभव समेटे धर्मेन्द्र प्रधान ने यूपी को लेकर होमवर्क तो कर लिया है लेकिन वो सबसे पहले यूपी की टीम से फीडबैक लेंगे.

इस दौरान वो ये समझने की कोशिश करेंगे कि फिलहाल यूपी का सियासी समीकरण क्या कहता है? 2017 के चुनावी जीत में किन किन फैक्टर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी और इन्हीं बिंदुओं को ध्यान में रखकर प्रधान अपने चुनावी तैयारियों को लेकर आगे बढ़ेंगे, जिसकेलिए आज की बैठक बड़ी भूमिका निभाने वाली है.

महंत नरेंद्र गिरि की मौत पर कांग्रेस के 10 सवाल: कहा- योगी राज में हो चुकी 21 साधु-संतों की हत्या

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और प्रमोद तिवारी ने महंत नरेंद गिरि की मौत पर 10 गंभीर सवाल उठाये हैं.

UP Congress Narendra Giri Case: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और प्रमोद तिवारी ने महंत नरेंद गिरि की मौत पर 10 गंभीर सवाल उठाये हैं. कहा कि 21 साधु-संतों की हत्या योगी राज में हो चुकी है. मामले की सुप्रीम कोर्ट या फिर हाईकोर्ट की डीविजनल बेंच की निगरानी में CBI जांच कराई जाए.

SHARE THIS:

लखनऊ. प्रयागराज (Prayagraj) में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत के बाद विपक्षी दल UP पुलिस की भूमिका पर हमलावर हैं. पुलिस पर कई गंभीर सवाल खड़े किए गए हैं. इसी को लेकर कांग्रेस ने राजधानी लखनऊ स्थित कांग्रेस मुख्यालय पर प्रेस कांफ्रेस की है, जिसमें कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने इस घटना को लेकर 10 गंभीर सवाल उठाये हैं. इसके साथ इस देश के विभिन्न साधु-संतों की तर्ज पर इस पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट या फिर हाईकोर्ट की डीविजनल बेंच की निगरानी में CBI जांच कराये जाने की मांग की है.

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि ‘महंत नरेन्द्र गिरि की मौत के बाद कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं. जिनमें पहला सवाल ये है कि आखिर सरकार और उसकी पुलिस बिना पोस्टमार्टम के ही महंत नरेन्द्र गिरि की मौत को आत्महत्या क्यों बता रही है? दूसरा सवाल ये कि अगर महंत नरेन्द्र गिरि ने आत्महत्या ही की थी, तो उनके शव को पुलिस के आने से पहले क्यों और किसने उतारा? तीसरा सवाल ये है कि जब महंत नरेन्द्र गिरि के शुभचितंक ये बता रहे हैं कि वे कुछ लिख नहीं सकते थे. तो आखिर इतना लंबा सुसाइड लैटर उन्होंने कैसे लिखा?

चौथा सवाल ये कि अगर सुसाइड नोट में तीन लोगों के नाम का जिक्र है तो आखिर अबतक सिर्फ 1 ही व्यक्ति को ही क्यों गिरफ्तार किया गया? पांचवा सवाल ये है कि आखिर इस मामले में जिस सत्ताधारी नेता, अधिकारी और अन्य लोगों के नाम आ रहे हैं, उनसे अबतक पूछताछ क्यों नही जा रही है? सरकार सिर्फ इस मामले को आत्महत्या बताने में जुटी है. इसलिये कांग्रेस इस मामले की सुप्रीम या हाई कोर्ट के जज की निगरानी में CBI जांच की मांग करती है.’

प्रमोद तिवारी ने लगाए ये आरोप

इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि ‘योगी सरकार में साधु-संतों की हत्या का ये कोई पहला या दूसरा मामला नहीं है. अब तक UP के अंदर योगी सरकार में 21 साधु-संतों की हत्या हो चुकी है. तो योगी राज में सबसे ज्यादा अगर किसी पर मुसीबत आई है. इस दौरान भी कई गंभीर प्रश्न उठ रहे हैं. जिनमें 12 पेज का सुसाइड नोट भी शामिल है. क्रिमिनल हिस्ट्री में अबतक इतना बडा सुसाइड नोट मैने पहले कभी नहीं देखा. अक्सर सुसाइड नोट 4-6 लाइन के साथ अधिकतम 1 पन्ने का होता है. क्योंकि कहा जाता है कि अगर बहुत सोचने-समझने का समय मिला तो सुसाइड के इरादे बदल जाते हैं. आखिर BJP सरकार में उन पर ऐसा कौन सा दबाव था जो वो झेल नहीं पा रहे थे?

उन्होंने कहा कि महंत नरेन्द्र गिरी की मौत उनके शयनकक्ष में नहीं उनके गेस्ट रूम में हुई है. जिसमें एक नहीं बल्कि 2 दरवाजे हैं. तो फिर बाहर का दरवाजा तोड़कर क्यों शव उतारा गया? क्या कारण है कि महंत नरेन्द्र गिरी के पोस्टमार्टम में इतना विलंब किया जा रहा है? ये वो मुख्य सवाल है जो कही न कही पुलिस की थ्योरी पर सवाल खडा कर रहे हैं. इसलिये हम हाथरस कांड की तर्ज पर SC/HC के जज की निगरानी में CBI जांच की मांग कर रहे हैं.’

UP Teacher Recruitment 2021: यूपी में होगी बड़े पैमाने पर शिक्षकों की भर्ती, UPTET के बाद शुरू हो सकती है प्रक्रिया

UPTET 2021 का आयोजन नवंबर 2021 में कराया जा सकता है.

UP Teacher Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश में शिक्षकों की बड़े पैमाने पर भर्ती की योजना बना रही है. ताजा जानकारी के अनुसार सरकार इसी महीने इस सम्बन्ध में घोषणा कर सकती है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 09:54 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Teacher Recruitment 2021: सरकारी नौकरियों की इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों के लिए बड़ी खुशखबरी है. उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश में शिक्षकों की बड़े पैमाने पर भर्ती की योजना बना रही है. ताजा जानकारी के अनुसार सरकार इसी महीने इस सम्बन्ध में घोषणा कर सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सरकार ने भर्ती आयोजित कराने वाली एजेंसी से इस सम्बन्ध में प्रस्ताव भी मांगा है.

साथ ही ये भी जानकारी सामने आ रही है कि UPTET 2021 का आयोजन नवंबर 2021 में कराया जा सकता है. अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो UPTET के बाद दिसंबर में शिक्षक भर्ती परीक्षा भी आयोजित कराई जा सकती है.

UP Teacher Recruitment 2021: कमेटी का किया गया है गठन
बता दें कि हाल ही में यूपी सरकार ने प्रदेश में शिक्षकों की भर्ती के लिए 3 सदस्यीय कमेटी का भी गठन किया था. जिसका मुख्य उद्देश्य था की वह प्रदेश भर के विद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पदों को चिन्हित करे. रिपोर्ट्स के अनुसार वर्तमान में विद्यालयों में शिक्षकों के तकरीबन 70,000 से अधिक पद रिक्त हैं.

UP Teacher Recruitment 2021: हो सकता है प्रमुख भर्ती अभियान
अगर इन सभी पदों पर भर्ती होती है तो यह राज्य का प्रमुख शिक्षक भर्ती अभियान बन सकता है. गौरतलब है की उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रदेश में शिक्षकों के कुल 51,112 रिक्त पद होने की जानकारी दी है. इन पदों को मौजूदा रिक्तियों में विलय किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें-
Teacher Jobs : प्राइमरी टीचर्स की 9300 से अधिक नौकरियां, देखें डिटेल
10वीं से लेकर ग्रेजुएशन पास तक के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल

UP Election 2022 : उलेमा परिषद और पीस पार्टी ने मिलाया हाथ, कहा - सभी पार्टियों को देंगे चैलेंज

आरयूसी और पीस पार्टी के बीच गठबंधन हुआ.

उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले राजनीतिक समीकरणों में यह गठबंधन अहम माना जा सकता है क्योंकि आज़मगढ़ और पूर्वी यूपी के समुदायों में दोनों दलों की पकड़ है. कैसे हुआ गठबंधन और कितना अहम है, जानिए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 08:28 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. डॉ. मोहम्मद अयूब के नेतृत्व वाली पीस पार्टी और मौलाना आमिर रशदी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने हाथ मिला लिये हैं. दोनों दलों ने उत्तर प्रदेश चुनाव 2022 से पहले संयुक्त लोकतांत्रिक गठबंधन को ऐलान मंगलवार को किया. डॉ. अयूब और मौलाना रशदी ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा, ‘सेक्युलर सियासी पार्टियां मुस्लिमों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल कर रही हैं. सेक्युलर पार्टियों की राज्य सरकारों ने मुस्लिम समुदाय के विकास और कल्याण के लिए कोई ठोस काम नहीं किया.’ इस गठबंधन ने सेक्युलर और मानवतावादी सरकार देने के दावे के साथ दावा किया कि सभी पार्टियों को चुनौती पेश करने की तैयारी है.

दोनों नेताओं ने संयुक्त तौर पर बयान दिया कि उनका गठबंधन जनता को सही मायने मे सेक्यूलर और भाईचारे की सरकार देगा. आज तक जितने भी राजनीतिक दलों ने सरकार बनाई, किसी ने धर्म के नाम पर भेद किया तो किसी ने वोटों का इस्तेमाल. कांग्रेस, सपा और बीजेपी, सबने एक विशेष वर्ग के लिए काम किया. दलितों और पिछड़े मुस्लिमों के साथ अन्याय ही होता रहा है. ‘ज़रूरी हो गया था कि ऐसा विकल्प तैयार किया जाये जो समाज के सभी तबकों के लिए काम करे इसलिए यूनाइटेड डेमोकेटिक अलाइंस बनाया है. हम मानववादी सरकार बनाएंगे.’

ये भी पढ़ें : पूर्व सांसद का दावा, ‘हमारे विधायकों पर दावा कर रहे नेता खुद BJP में आने को बेताब’, सपा, बसपा पर साधा निशाना

‘गठबंधन का किसी से कोई द्वेष नहीं’
डॉ. अयूब ने कहा, ‘ये गठबंधन तमाम पार्टियों के लिए चैलेंज होगा, जिन्होंने जन विरोधी कामों के अलावा कुछ नहीं किया. बेरोज़गारी बढ़ती जा रही है, लॉ एंड आर्डर नहीं है और जो हक की आवाज़ उठाता है, उसे चुप करा दिया जाता है.’ वहीं, मौलाना रशदी ने कहा, ‘मुस्लिम वोटों का बंटवारा हो रहा है इसलिए बीजेपी जीत रही है. सेक्यूलर दल मिलकर विकल्प बना रहे हैं लेकिन हमारे इस गठबंधन में किसी के प्रति कोई द्वेष नहीं है.’

सांप्रदायिकता, भ्रष्टाचार, गरीबी, बेरोज़गारी और महंगाई जैसे मुद्दों से प्राथमिकता के साथ निपटने की घोषणा करते हुए इस गठबंधन ने चुनावी ताल ठोकी. आपको बता दें कि पीस पार्टी पूर्वी यूपी के खास तौर से बुनकर समुदायों के बीच पैठ रखती है, जिसने 2012 के चुनाव में चार विधानसभा क्षेत्रों में जीत हासिल की थी. वहीं, आरयूसी का आधार आज़मगढ़ के क्षेत्र में बताया जाता है.

UP B.Ed Counselling 2021 : पहले दिन 13225 अभ्यर्थियों ने लॉक की च्वाइस

UP B.Ed Counselling 2021 : काउंसलिंग का दूसरा चरण 25 सितंबर से शुरू होगा.

UP B.Ed Counselling 2021 : यूपी बीएड काउंसलिंग 2021 की प्रक्रिया में मंगलवार से काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन के साथ कॉलेजों की च्वाइस लॉक करने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई. पहले दिन 13000 से अधिक अभ्यर्थियों ने च्वाइस लॉक किए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 23:48 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP B.Ed Counselling 2021 : उत्तर प्रदेश में संयुक्त बीएड प्रवेश परीक्षा 2021 की ऑनलाइन काउंसलिंग जारी है. पहले चरण की काउंसलिंग के लिए अभी तक 31800 अभ्यर्थी रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं. काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 17 सितंबर से शुरू है. जबकि मंगलवार 21 सितंबर से रजिस्ट्रेशन के साथ च्वाइस फिलिंग की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है. च्वाइस फिलिंग 24 सितंबर तक होगी. इसके बाद 25 सितंबर को अलॉटमेंट होगा. इसी के साथ दूसरे चरण की काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन भी शुरू होगा.

बीएड प्रवेश परीक्षा समन्वयक प्रोफेसर अमिता बाजपेई के अनुसार, पहले दिन 13225 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन च्वाइस लॉक किया. रजिस्ट्रेशन और च्वाइस भरने की, दोनो प्रक्रिया 23 सितंबर तक जारी रहेगी. इसके बाद 25 सितंबर को कॉलेज अलॉटमेंट किया जाएगा.

26 से मिलेगा आवंटन पत्र 

समन्वयक ने बताया कि 26 से 29 सितंबर के बीच अभ्यर्थी शेष शुल्क ऑनलाइन जमा करके अपनी सीट के आवंटन का पत्र प्राप्त कर सकते हैं. उन्होंने बताया कि काउंसलिंग के अगले चरण में 75,001 से 2,00,000 तक की रैंक वाले अभ्यर्थियों का रजिस्ट्रेशन होगा.
दो लाख से अधिक सीटों पर होगे एडमिशन

काउंसलिंग के लिए शिक्षण संस्थानों के विवरण और प्रवेश प्रक्रिया की पूरी जानकारी के लिए लखनऊ विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.lkouniv.ac.in पर विजिट कर सकते हैं. यूपी बीएड की प्रवेश प्रक्रिया में 16 राज्य विश्वविद्यालयों के अंतर्गत आने वाले ले 2479 राजकीय, सहायता प्राप्त महाविद्यालय, स्ववित्तपोषित महाविद्यालय शामिल हैं. बीएड की कुल 2,35,310 सीटें हैं. इसमें से 7830 सीटें विश्वविद्यालयों और राजकीय या सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में हैं. जबकि 2,27,480 सीटें स्ववित्त पोषित महाविद्यालयों में हैं. इसके अलावा प्रत्येक महाविद्यालय में 10 प्रतशित अतिरिक्त सीटें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों के लिए होंगी. हालांकि, इडब्लूएस के लिए अतिरिक्त सीटें अल्पसंख्यक संस्थानों में नहीं होंगी.

ये भी पढ़ें

RPSC RAS-RTS Exam : अब एक ही दिन होगी RAS की प्रारंभिक परीक्षा, आयोग ने बदला कार्यक्रम

Sarkari Naukri 2021: छत्तीसगढ़ में डिप्लोमा पास के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटे

Mahant Narendra Giri Death: महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच के लिए SIT गठित

Mahant Narendra Giri death: महंत नरेंद्र गिरी मामले में आधा दर्जन से ज्यादा लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया.

Prayagraj News: डीआईजी, प्रयागराज ने विशेष जांच दल का गठन कर टीम का नेतृत्व डिप्टी एसपी अजीत सिंह चौहान को सौंपा है. मामले के विवेचक इंस्पेक्टर महेश भी एसआईटी में शामिल किए गए हैं.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) मामले की जांच के लिए डीआईजी, प्रयागराज ने विशेष जांच दल (SIT) का गठन कर दिया है. डिप्टी एसपी अजीत सिंह चौहान के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है. मामले के विवेचक इंस्पेक्टर महेश भी एसआईटी में शामिल किए गए हैं.

जानकारी के अनुसार डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी द्वारा जार्जटाउन थाने में दर्ज एफआईआर की जांच के लिए जो एसआईटी गठित की गई है, उसकी अध्यक्षता सीओ अजीत सिंह चौहान करेंगे. इसमें दो सीओ समेत इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर स्तर के 18 जांच अधिकारी शामिल किए गए हैं. सीओ आस्था जायसवाल और विवेचक महेश सिंह भी एसआईटी में शामिल हैं,

बता दें मामले से जुड़े 2 वीडियो की जांच में पुलिस जुटी हुई है. एक वीडियो के आधार पर नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल करने की चर्चा है. वहीं सुसाइड नोट में भी नरेंद्र गिरि ने इस बात का जिक्र किया है. दूसरा वीडियो महंत नरेंद्र गिरि ने खुद बनाया था, जिसमें अपने खिलाफ हो रही साजिश के बारे में बताया है. दूसरा वीडियो महंत नरेंद्र गिरि के मोबाइल से मिला है. इन दोनो वीडियो की जांच से बड़ा खुलासा होने की उम्मीद है. इन वीडियो के आधार पर बड़ी साजिश होने की आशंका जताई जा रही है. जांच के बाद हो सकता है मामले में बड़ा खुलासा हो.

बता दें महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में पहली एफआईआर प्रयागराज के जॉर्ज टाउन थाने में दर्ज की गई है. महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य अमर गिरि पवन महाराज की तरफ से दर्ज करवाई गई. एफआईआर में सिर्फ उनके शिष्य आनंद गिरि को नामजद आरोपी बनाया गया है. आनंद गिरि के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. उस पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है.

एसआईटी में हैं 18 सदस्य

sit, Prayagraj News, Mahant Narendra Giri Death Case, UP News,

UP: प्रयागराज में महंत नरेंद्र गिरी मौत मामले की जांच में गठित एसआईटी के सदस्य

पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया है और उसे प्रयागराज ले आई है. पुलिस लाइन में आनंद गिरि से पूछताछ चल रही है. वहीं बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को भी पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

एफआईआर के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरि सोमवार दोपहर लगभग 12:30 बजे बाघम्बरी गद्दी के कक्ष में भोजन के बाद रोज की तरह विश्राम के लिए गए थे. रोज 3 बजे दोपहर में उनके चाय का समय होता था, लेकिन चाय के लिए उन्होंने पहले मना किया था और यह कहा था जब पीना होगा तो वह स्वयं सूचित करेंगे. शाम करीब 5 बजे तक कोई सूचना न मिलने पर उन्हें फोन किया गया. लेकिन महंत नरेंद्र गिरि का फोन बंद था. इसके बाद दरवाजा खटखटाया गया तो कोई आहट नहीं मिली. जिसके बाद सुमित तिवारी, सर्वेश कुमार द्विवेदी, धनंजय आदि ने धक्का देकर दरवाजा खोला. तब नरेन्द्र गिरि पंखे में रस्सी से लटकते हुए पाए गए.

FIR में आगे लिखा हुआ है कि जीवन की संभावना को देखते हुए शिष्यों ने रस्सी काटकर नरेंद्र गिरि को नीचे उतारा, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी. एफआईआर में जिक्र है कि महाराज पिछले कुछ महीने से आनंद गिरि को लेकर परेशान रहा करते थे. यह बात कभी-कभी वह स्वयं भी कहते थे कि आनंद गिरि हमें बहुत परेशान करता रहता है.

Mahant Narendra Giri Suicide Case: चेले ही नहीं ये SP नेता भी थे संपत्ति विवाद के घेरे में

पुलिस के लिए पहेली बनी है महंत नरेंद्र गिरि की मौत (File photo)

Mahant Narendra Giri death: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघंबरी मठ के प्रमुख महंत नरेंद्र गि​रि की मौत यूपी पुलिस के लिए अबूझ पहेली बनी हुई है. इस मामले में सुसाइड नोट में महंत ने मौत की वजह साफ तो कर दी है, लेकिन अब संपत्ति विवाद में सपा विधायक का नाम भी सामने आ गया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (All India Akhara Parishad) के अध्यक्ष और बाघंबरी मठ (Baghmbri Math) के प्रमुख महंत नरेंद्र गि​रि की मौत यूपी पुलिस के लिए अबूझ पहेली बनी हुई है. यह घटना सूबे में सुर्खियां बनी है. सुसाइड नोट सामने आने के बाद महंत का चेला गिरफ्तार हो गया है, लेकिन कई और ऐसे राजदार हैं जो पूरे मामले को संदिग्ध बना रहे हैं. पुलिस एक एक कड़ी को जोड़कर आगे बढ़ रही है, हालांकि महंत नरेंद्र गिरि की मौत की असली वजह क्या है इस रहस्य से जांच के बाद ही पर्दा उठेगा. इतना तो तय है कि मठ बाघम्बरी गद्दी और बड़े हनुमान मंदिर की संपत्ति को लेकर जो विवाद शुरू हुआ था, उसने महंत नरेंद्र गिरि की जान ले ली.

दरअसल, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का हंड़िया के सपा विधायक से जमीन को लेकर विवाद हुआ था. यह विवाद 2012 में सपा नेता और हंडिया से विधायक रहे महेश नारायण सिंह से जमीन की खरीद फरोख्त को लेकर हुआ था. फरवरी 2012 में महंत ने सपा नेता महेश नारायण सिंह, शैलेंद्र सिंह, हरिनारायण सिंह व 50 अज्ञात के खिलाफ जार्ज टाउन में मुकदमा दर्ज कराया गया था. इस मामले में दूसरे पक्ष ने भी नरेंद्र गिरि, आनंद गिरि व दो अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी.

मठ की जमीन का कुछ हिस्सा महंत नरेंद्र गिरि ने बेच दिया था, ताकि जीर्ण शीर्ण हो चुके मठ का जीर्णोद्धार किया जा सके. बताया जा रहा है कि सपा विधायक महेश नारायण दबंगई के बल पर बगैर पूरा पैसा दिए जमीन लिखवाना चाह रहे थे. इसके लिए वह लगातार महंत नरेंद्र गिरि पर दबाव बना रहे थे. महंत नरेंद्र गिरी इस दबाव के आगे झुके नहीं और जमीन की रजिस्ट्री के लिए तैयार नहीं हुए.

जिसके बाद मठ में सपा विधायक असलहों के साथ पहुंचे थे काफी हो हंगामा भी हुआ था. बाद में पैसे देने के बाद ही महंत नरेंद्र ​गिरि ने जमीन की रजिस्ट्री की थी. मौजूदा समय में 7 बीघे जमीन की कीमत 40 करोड़ रुपये बताई जा रही हैं. इस जमीन बिक्री को लेकर भी समय समय पर महंत नरेंद्र गिरी पर आरोप लगते रहे हैं.

करोड़ों में है मठ की संपत्ति

मठ बाघम्बरी गद्दी और बड़े हनुमान मंदिर दोनों पंचायती अखाड़ा निरंजनी के तहत नहीं आते हैं, बल्कि सम्पत्ति मठ बाघंबरी गद्दी के अधीन आती है. मौजूदा समय में मठ की गद्दी में जहां महंत विचारानंद संस्कृत महाविद्यालय संचालित हो रहा है, वहीं पर एक गौशाला के साथ ही कुंभ के दौरान यहां पर तीन मंजिला एक बड़ा भव्य गेस्ट हाउस भी बनाया गया है. कुल मिलाकर इस मठ और संस्कृत महाविद्यालय की संपत्ति करोड़ों में है, जिसको लेकर महंत नरेंद्र ​गिरि और स्वामी आनंद ​गिरि के बीच विवाद शुरू हो गया था.

महंत नरेंद्र गिरि केस की जांच के लिए DIG प्रयागराज ने SIT का गठन किया गया है. यूपी सरकार ने इस मामले की जांच के निर्देश दिए हैं.

UPTET Exam 2021: UPTET को लेकर सामने आई महत्वपूर्ण जानकारी, देखें डिटेल

UPTET 2021 : उम्मीदवार काफी समय से परीक्षा के तारीखों का इंतजार कर रहे हैं.

UPTET Exam 2021: विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में परीक्षा की तारीखों को लेकर काफी समय से अटकलें लगाई जा रही थी. लेकिन हालिया अपडेट से तस्वीर साफ़ होती नजर आ रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 17:38 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UPTET 2021: उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET 2021) को लेकर बड़ी जानकारी सामने आ रही है. दरअसल विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में परीक्षा की तारीखों को लेकर काफी समय से अटकलें लगाई जा रही थी. लेकिन हालिया अपडेट से तस्वीर साफ़ होती नजर आ रही है. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा बोर्ड (UPBEB) द्वारा साल में एक बार UPTET परीक्षा का आयोजन किया जाता है. हांलाकि UPTET 2021 को लेकर अभी तक अधिसूचना जारी नहीं की गई है. इच्छुक उम्मीदवार काफी समय से परीक्षा के तारीखों का इंतजार कर रहे हैं. आयोजन में इतना विलम्ब होने से अभ्यर्थी परेशान भी हैं.

लेकिन अब ऐसा लगता है की उनका इंतजार जल्द ही ख़त्म हो सकता है. परीक्षा के तारीख को लेकर एक महत्वपूर्ण अपडेट नीचे दिया जा रहा है.

UPTET Exam 2021: विभाग ने भेजा है प्रस्ताव
इस परीक्षा को लेकर अभी तक यह जानकारी सामने आ रही थी कि, UPBEB द्वारा दिसंबर माह में परीक्षा आयोजित कराने का प्रस्ताव दिया गया है, लेकिन शिक्षा मंत्री इसे और जल्दी आयोजित कराने के पक्ष में हैं. हालांकि अब ताजा जानकारी के अनुसार विभाग द्वारा 28 नवंबर 2021 को परीक्षा आयोजित कराने का प्रस्ताव दिया गया है. अगर आम सहमित बनती है तो जल्द ही UPTET 2021 के लिए अधिसूचना जारी कर दी जाएगी.

ये भी पढ़ें-
Railway Naukri : रेलवे में 10वीं पास के लिए 3000 से अधिक जॉब्स, आवेदन शुरू
10वीं से लेकर ग्रेजुएशन पास तक के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल

UP Home Guard Recruitment 2021: जानें कौन कर सकता है यूपी होमगार्ड भर्ती के लिए आवेदन

UP Home Guard Recruitment 2021: करीब 19,000 से 30,000 होमगार्ड पदों पर भर्ती आयोजित की जाएगी.

UP Home Guard Recruitment 2021: आधिकारिक अधिसूचना जारी ना होने के कारण फ़िलहाल भर्ती को लेकर उम्मीदवारों के मन में कई प्रकार की दुविधा देखने को मिल रही है. उनमें से एक दुविधा ये भी है कि भर्ती के लिए 10वीं पास अप्लाई कर सकेंगें या 12वीं पास.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 17:28 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Home Guard Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश में होमगार्ड पदों पर भर्ती के लिए अधिसूचना जल्द ही जारी की जा सकती है. वर्तमान में यूपी होमगार्ड विभाग में हजारों की संख्या में पद खाली हैं. ताजा जानकारी के अनुसार सरकार जल्द ही इन पदों पर नियुक्ति के लिए भर्ती प्रक्रिया की शुरुआत कर सकती है. बता दें कि प्रदेश के होमगार्ड विभाग में कुल स्वीकृत पदों की संख्या 1,18,348 है. लेकिन फ़िलहाल तकरीबन 86,000 पदों पर ही कर्मचारियों की नियुक्ति है. ऐसे में लगभग 30,000 पद वर्तमान में रिक्त पड़े.

कई मीडिया रिपोर्ट्स में ये बताया गया है कि इसके लिए अधिसूचना जल्द ही जारी की जाएगी. इसलिए उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे भर्ती सम्बन्धी अपडेट के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करते रहें.

UP Home Guard Recruitment 2021: किन्हें मिल सकता है आवेदन का मौका
आधिकारिक अधिसूचना जारी ना होने के कारण फ़िलहाल भर्ती को लेकर उम्मीदवारों के मन में कई प्रकार की दुविधा देखने को मिल रही है. उनमें से एक दुविधा ये भी है कि भर्ती के लिए 10वीं पास अप्लाई कर सकेंगें या 12वीं पास. तो बता दें कि अभी तक की होमगार्ड भर्तियों में 10वीं पास उम्मीदवार भी शामिल होते आए हैं. लेकिन बीते दिनों उत्तर प्रदेश के तत्कालीन नागरिक सुरक्षा, प्रांतीय रक्षक दल व सैनिक कल्याण मंत्री चेतन चौहान ने बताया था कि अब से प्रदेश में 12वीं पास उम्मीदवारों को होमगार्ड पदों पर नियुक्त किया जाएगा.

UP Home Guard Recruitment 2021: अधिसूचना का इंतजार करें
ऐसे में फ़िलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि आगामी होमगार्ड भर्ती के लिए 10वीं पास अप्लाई कर सकेंगें या 12वीं पास. एक बार अधिकारिक अधिसूचना जारी होने के बाद ही ये स्पष्ट हो प[एगा. इसलिए उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे अधिसूचना संबंधी अपडेट के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करते रहें.

ये भी पढ़ें-
Railway Naukri : रेलवे में 10वीं पास के लिए 3000 से अधिक जॉब्स, आवेदन शुरू
10वीं से लेकर ग्रेजुएशन पास तक के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल

Mahant Narendra Giri Suicide: सपा प्रमुख अखिलेश यादव बोले- सरकार हाईकोर्ट के जजों से कराए महंत नरेंद्र गिरि के मौत की जांच

UP: सपा प्रमुख अखिलेश यादव बोले- जजों की निगरानी में हो जांच

Prayagraj News: प्रयागराज के बाघंबरी गद्दी व लेटे हनुमानजी के महंत आचार्य नरेंद्र गिरि का शव कल उनके आश्रम के कमरे में मिला था. बाघंबरी मठ में उनकी लाश फांसी के फंदे से लटकती मिली थी.

SHARE THIS:

लखनऊ. अखिल अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri Death) की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है. उनका शव फंदे से लटका मिला है जिसे प्रयागराज स्थित गेस्ट हाउस से बरामद किया गया. इसी कड़ी में मंगलवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ट्वीट कर न्यायिक जांच कराए जाने की मांग की है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष, धर्म कर्म, अध्यात्म के प्रति जीवन समर्पित करने वाले महान संत नरेंद्र गिरी जी का संदिग्ध परिस्थितियों में निधन, ह्रदय विदारक. हाई कोर्ट के सिटिंग जजों की निगरानी में पूरे घटनाक्रम की जांच करा सत्य सामने लाए सरकार.’

इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले की कमिश्नर, एडीजी, आईजी, डीआईजी द्वारा जांच किये जाने की बात कही. महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध स्थिति में मौत के मामले में आज प्रयागराज पुलिस ने कई राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों के साथ-साथ आधा दर्जन से ज्यादा व्यक्तियों को हिरासत में ले लिया है. सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों के मुताबिक इन सभी लोगों से पूछताछ की जा रही है. पुलिस के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरि के गनर से भी पूछताछ की जाएगी. महंत को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी.

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने किया ट्वीट

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने किया ट्वीट

प्रयागराज के बाघंबरी गद्दी व लेटे हनुमानजी के महंत आचार्य नरेंद्र गिरि का शव कल उनके आश्रम के कमरे में मिला था. बाघंबरी मठ में उनकी लाश फांसी के फंदे से लटकती मिली थी. संदिग्ध हालत में महंत की मौत के बाद पुलिस को 8 पन्नों का सुसाइड नोट भी मिला था, जिसके बाद कल देर रात ही उनके शिष्य आनंद गिरि को हरिद्वार से हिरासत में लिया गया था. पुलिस के मुताबिक, महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि के ऊपर प्रताड़ना का आरोप लगाया था.

सिफारिश: UP में संपत्ति बंटवारे में 5000 का स्टांप शुल्क और 2000 लें रजिस्ट्रेशन फीस

UP: राज्य विधि आयोग ने प्रॉपर्टी बंटवारे से संबंधित स्टांप और रजिस्ट्रेशन शुल्क में अहम कमी का प्रस्ताव सरकार को सौंपा है. (सांकेतिक तस्वीर)

UP News: राज्य विधि आयोग द्वारा सरकार से की गई सिफारिश के अनुसार परिवार का मुखिया अचल संपत्ति का बंटवारा, हस्तांतरण यदि परिवार के सदस्यों के बीच करना चाहता है तो अधिकतम 5000 रुपये स्टांप शुल्क और ज्यादा से ज्यादा रजिस्ट्रेशन शुल्क किया जाए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 16:20 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. परिवार के सदस्यों के बीच अचल संपत्ति के बंटवारे की प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए राज्य विधि आयोग (State Law Commission) ने अहम कदम उठाया है. आयोग ने यूपी सरकार (UP Government) से सिफारिश की है कि बंटवारें में लगने वाले स्टांप शुल्क और रजिस्ट्रेशन फीस को कम कर दिया जाए. स्टांप शुल्क सिर्फ 5000 रुपये लिया जाए और रजिस्ट्रेशन फीस 2000 रुपये रखी जाए. आयोग का तर्क है कि ऐसा करने से यूपी में संपत्ति बंटवारे, हस्तातंरण और वसीयत आदि से जुड़े मामलों में मुकदमेबाजी कम होगी. यही नहीं सरकार को राजस्व में भी कमी नहीं आएगी.

जानकारी के अनुसार आयोग की ओर से 20वां प्रत्यावेदन राज्य सरकार को सौंप दिया गया है. बता दें वर्तमान में संपत्ति के कुल मूल्य का 7 फीसदी स्टांप शुल्क लगता है, वहीं रजिस्ट्रेशन शुल्क कुल मूल्य का एक प्रतिशत होता है.

वहीं महिलाओं के मामले में 10 लाख की संपत्ति पर एक फीसदी छूट के साथ 6 फीसदी स्टांप शुल्क लगता है. वहीं ग्रामीण इलाकों में दो फीसदी स्टांप शुल्क लिया जाता है.

आयोग का मानना है कि परिवार का मुखिया सदस्यों के बीच संपत्ति का बंटवारा करता है तो स्टांप शुल्क देना पड़ता है. धन के अभाव में ऐसा न कर पाने की स्थिति होती तो परिवारों में विवाद सामने आ जाता और मामला कोर्ट पहुंच जाता है. ऐसे में अगर स्टांप शुल्क में कमी की जाती है तो बेवजह के मुकदमों से बचा जा सकता है.

आयोग द्वारा की गई सिफारिश के अनुसार परिवार का मुखिया अचल संपत्ति का बंटवारा, हस्तांतरण यदि परिवार के सदस्यों के बीच करना चाहता है तो उसे अधिकतम 5000 रुपये स्टांप शुल्क कर दिया जाए, साथ ही रजिस्ट्रेशन शुल्क भी ज्यादा से ज्यादा 2000 रुपये किया जाए.

Narendra Giri Death: FIR से समझें कैसे हुई महंत नरेंद्र गिरि की मौत, आरोपी के कॉलम में सिर्फ आनंद गिरि का नाम

RIP Mahant Narendra Giri: आचार्य नरेंद्र गिरी की शव का आज कराया जाएगा पोस्टमॉर्टम.

Narendra Giri Suicide Case: आनंद गिरि के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. उन पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है. महंत नरेन्द्र गिरि के शव के पोस्टमॉर्टम से ही पता चलेगा कि उनकी मौत आत्महत्या है या हत्या.

SHARE THIS:

प्रयागराज/लखनऊ. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) आत्महत्या मामले में पहली एफआईआर प्रयागराज के जॉर्ज टाउन थाने में दर्ज की गई है. महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य अमर गिरि पवन महाराज की तरफ से दर्ज करवाई गई. एफआईआर में सिर्फ उनके शिष्य आनंद गिरि को नामजद आरोपी बनाया गया है. आनंद गिरि के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. उस पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है. पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया है और अब उन्हें सड़क मार्ग से प्रयागराज लाया जा रहा है. उधर बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को भी पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

एफआईआर के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरि सोमवार दोपहर लगभग 12:30 बजे बाघम्बरी गद्दी के कक्ष में भोजन के बाद रोज की तरह विश्राम के लिए गए थे. रोज 3 बजे दोपहर में उनके चाय का समय होता था, लेकिन चाय के लिए उन्होंने पहले मना किया था और यह कहा था जब पीना होगा तो वह स्वयं सूचित करेंगे. शाम करीब 5 बजे तक कोई सूचना न मिलने पर उन्हें फोन किया गया. लेकिन महंत नरेंद्र गिरि का फोन बंद था. इसके बाद दरवाजा खटखटाया गया तो कोई आहट नहीं मिली. जिसके बाद सुमित तिवारी, सर्वेश कुमार द्विवेदी, धनंजय आदि ने धक्का देकर दरवाजा खोला. तब नरेन्द्र गिरि पंखे में रस्सी से लटकते हुए पाए गए.

mahant narendra giri death, mahant narendra giri suicide case, fir in mahant narendra giri death case, fir copy of mahant narendra giri death case

महंत नरेंद्र गिरी आत्महत्या मामले में दर्ज हुई पहली FIR

FIR में आनंद गिरि पर परेशान करने का जिक्र

FIR में आगे लिखा हुआ है कि जीवन की संभावना को देखते हुए शिष्यों ने रस्सी काटकर नरेेन्द्र गिरि को नीचे उतारा, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थती. एफआईआर में जिक्र है कि महाराज पिछले कुछ महीने से आनंद गिरि को लेकर परेशान रहा करते थे. यह बात कभी-कभी वह स्वयं भी कहते थे कि आनंद गिरि हमें बहुत परेशान करता रहता है.

आज होगा पोस्टमॉर्टम

महंत नरेंद्र गिरी की मौत मामले में यह पहला कानूनी कदम है, जिसमें आनंद गिरि को आरोपी बनाया गया है. अब उनकी मौत हत्या थी या आत्महत्या, इसका पता पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही चलेगा. फिलहाल डॉक्टरों के पैनल द्वारा उनका पोस्टमॉर्टम कराने की तैयारी की गई है. उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए बाघंबरी पीठ मठ में रखा जाएगा. जानकारी के मुताबिक मठ में ही नरेंद्र गिरि को भू-समाधि दी जाएगी.

Prayagraj News: सीएम योगी ने महंत नरेंद्र गिरी को दी श्रद्धांजलि, बोले- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा

UP: हमारे आध्यात्मिक और धार्मिक समाज की अपूरणीय क्षति

Mahant Narendra Giri Death: सीएम योगी ने कहा कि उनका जाना संत समाज के लिए अपूरणीय क्षति है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र गिरि के निधन से बेहद दुखी हूं. संत समाज की ओर से श्रद्धांजलि देने आया हूं.

SHARE THIS:

प्रयागराज. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मंगलवार को प्रयागराज के बाघंबरी मठ पहुंचकर महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri) को श्रद्धांजलि अर्पित की. सीएम योगी ने कहा कि इस दुखद घटना से हम सभी दुखी हैं. कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था. इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि पुलिस के चार बड़े अफसर मामले की जांच कर रहे हैं. एक-एक घटना का पर्दाफाश होगा. जो भी जिम्मेदार होगा, उसे सजा मिलेगी. दोषियों को कठोर सजा मिलेगी. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि दोषी बचेगा नहीं, हर हाल में सजा मिलेगी. नरेंद्र गिरि मौत मामले की जांच जारी है इसलिए बेवजह की बयानबाजी से बचना चाहिए. सीएम ने कहा कि पंचक होने के कारण आज महंत नरेंद्र गिरी को समाधि नहीं दी जाएगी. आज जनता के दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर यहां रहेगा. बुधवार को पांच सदस्यीय टीम उनके पार्थिव शरीर का पोस्टमार्टम करेगी. वहीं पोस्टमार्टम के बाद  धार्मिक विधि विधान से अंतिम संस्कार किया जाएगा.

सीएम योगी ने कहा कि उनका जाना संत समाज के लिए अपूरणीय क्षति है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र गिरि के निधन से बेहद दुखी हूं. संत समाज की ओर से श्रद्धांजलि देने आया हूं. इस दुखद घटना से हम सब व्यथित हैं. यह हमारे आध्यात्मिक और धार्मिक समाज की अपूरणीय क्षति है. मान अपमान की चिंता के बगैर उन्होंने प्रयागराज कुंभ को भव्यता के साथ आयोजित करने में योगदान दिया था. समाज और देश के हित में किए जाने वाले हर निर्णय में उनका सहयोग प्राप्त होता था. साथ ही यूपी सीएम तमाम साधु संतों से भी बात कर हालात का संज्ञान लिया.

शिष्य आनंद गिरि समेत 3 गिरफ्तार
बता दें कि देश भर में अपने बयान से सुर्खियों में रहने वाले अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार शाम संदिग्ध हालात में मौत हो गई. उनका शव अल्लापुर में श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के कमरे में फंदे से लटका मिला. मामले में पुलिस ने उनके शिष्य योगगुरु आनंद गिरि, लेटे हुए हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को गिरफ्तार कर लिया है.

BBAU Entrance Exam 2021: 28 सितम्बर से होगी BBAU की प्रवेश परीक्षा, देखें पूरा शेड्यूल

BBAU Entrance Exam 2021: 28 से 30 सितंबर और 1 से 4 अक्टूबर तक देशभर में प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी.

BBAU Entrance Exam 2021: ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ये परीक्षा आयोजित की जाएगी. उम्मीदवार bbauet.nta.nic.in पर जाकर प्रवेश परीक्षा के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 10:25 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. BBAU Entrance Exam 2021: राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) ने बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय (BBAU) की प्रवेश परीक्षा का शेड्यूल जारी कर दिया है. ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट दोनों पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ये परीक्षा आयोजित की जाएगी. उम्मीदवार bbauet.nta.nic.in पर जाकर प्रवेश परीक्षा के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

यूजी के कुल 15 पाठ्यक्रमों के लिए ये परीक्षा आयोजित की जाएगी. वहीं पीजी के कुल 40 पाठ्यक्रम हैं जिनके लिए परीक्षा आयोजित की जाएगी. इसके अलावा विश्वविद्यालय के पांच साल के एकीकृत पाठ्यक्रम, डिप्लोमा और अन्य में एडमिशन के लिए भी परीक्षा देनी होगी. बता दें कि परीक्षा सीबीटी मोड, हाइब्रिड या पेन और पेपर मोड में आयोजित की जाएगी. जिसमें परीक्षा वस्तुनिष्ठ प्रकार के एमसीक्यू आधारित प्रश्न पूछे जाएंगें.

BBAU Exam 2021: ये है पूरा शेड्यूल
एनटीए द्वारा जारी आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार 28 से 30 सितंबर और 1 से 4 अक्टूबर 2021 तक देशभर में प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी. परीक्षा की अवधि दो घंटे की रहेगी. बता दें कि NTA ने अभी तक परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी नहीं किया है. हालांकि उमीदवारों को ध्यान देना चाहिए कि एडमिट कार्ड सम्बन्धी अपडेट के लिए वे आधिकारिक वेबसाइट-bbauet.nta.nic.in पर चेक करते रहें. इसके अलावा शेड्यूल में परीक्षा की तारीख, परीक्षा की अवधि के साथ-साथ परीक्षा आयोजित करने का तरीका भी दिया गया है. उम्मीदवार परीक्षा में बैठने से पहले विस्तृत डिटेल देख लें.

ये भी पढ़ें-
Railway Naukri : रेलवे में 10वीं पास के लिए 3000 से अधिक जॉब्स, आवेदन शुरू
10वीं से लेकर ग्रेजुएशन पास तक के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल

UP: लखनऊ की पॉलोमी पाविनी शुक्ला को फेमस 'Femina Magazine' ने किया सम्मानित, लिस्ट में शामिल हैं ये हस्तियां

इस सूची में अन्य विख्यात महिलाएं भी शामिल

Lucknow News: बता दें कि अनाथ बच्चों के लिए कार्यरत पॉलोमी पाविनी शुक्ला को पूर्व में भी सम्मानित किया जा चुका है. हाल ही में विख्यात अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका 'फोर्ब्स' ने भी अपनी '30 Under 30' सूची में उन्हें सम्मिलित किया था.

SHARE THIS:

लखनऊ. फेमस पत्रिका “फेमिना” (Femina Magazine) ने अपने लेटेस्ट एडिशन में देश की 40 ऐसी महिलाओं की सूची जारी की है. इस सूची में लखनऊ की पॉलोमी पाविनी शुक्ला (Poulomi Pavini Shukla) भी शामिल की गई हैं. लंबे अरसे से अनाथ बच्चों को समान अधिकार दिलाने और उनके हित की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट तक जनहित याचिका लड़ने के लिए उन्हें यह सम्मान मिला है.

अनाथ बच्चों पर उनके द्वारा अपने भाई अमंद शुक्ला के साथ‌ संयुक्त रुप से लिखी पुस्तक ‘ Weakest on earth – Orphans of India’ और उनके परिश्रम द्वारा कई राज्यों में अनाथ बच्चों हेतु नीतिगत बदलाव आए हैं, जिनमें अनाथ बच्चों के लिए आरक्षण, बजट वृद्धि आदि सम्मिलित हैं. इस सूची में उत्तर प्रदेश से पॉलोमी पाविनी शुक्ला के अलावा मात्र एक और महिला सम्मिलित हैं.

यह भी पढ़ें- Narendra Giri Death Mystery: शिष्य आनंद गिरि का सामने आया Video, जब गुरु नरेंद्र गिरि के पैर और कान पकड़कर मांगी थी माफी

देश भर की 40 महिलाओं की इस सूची में अन्य विख्यात महिलाएं भी शामिल की गई हैं, जैसे टोक्यो ओलंपिक्स में देश को गौरान्वित करने वाली रानी रामपाल व मीराबाई चानू, सुप्रीम कोर्ट में हाल ही में आईं तीन न्यायमूर्ति, इसरो के मंगलयान मिशन की महिला वैज्ञानिक, स्मृति ईरानी, मीनाक्षी लेखी, महुआ मोइत्रा, पी वी सिंधु, बरखा दत्त, आलिआ भट्ट, मसाबा गुप्ता, भूमि पेडनेकर, नीता अम्बानी, कोनेरू हम्पी आदि शामिल हैं.

फोर्ब्स पत्रिका में भी मिली थी जगह
बता दें कि अनाथ बच्चों के लिए कार्यरत पॉलोमी पाविनी शुक्ला को पूर्व में भी सम्मानित किया जा चुका है. हाल ही में विख्यात अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका ‘फोर्ब्स’ ने भी अपनी ’30 Under 30′ सूची में उन्हें सम्मिलित किया था. यह सूची 30 ऐसे व्यक्तियों की है जो 30 वर्ष से कम आयु के हैं और जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में अहम योगदान दिया है.

Narendra Giri Death Case: दो साल पहले भी निरंजनी अखाड़े में हुई थी संत की संदिग्ध मौत, CBI जांच की उठी थी मांग

निरंजनी अखाड़े में दो साल पहले भी एक संत की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया था. -  नरेंद्र गिरी का फाइल फोटो

Niranjani Akhara Death Case: महंत नरेंद्र गिरी की मौत के आद निरंजनी अखाड़े में दो साल पहले हुई एक संत की संदिग्ध मौत की याद ताजा हो गई है. संत का शव उनके कमरे में मिला था. उन्हें गोली लगी थी. तब सीबीआई जांच की मांग उठी थी.

SHARE THIS:

लखनऊ. निरंजनी अखाड़े (Niranjani Akhara) के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (All India Akhara Parishad) के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है. पुलिस ने अभी तक की जांच के आधार पर इसे आत्महत्या करार दिया है, लेकिन पिछले कुछ सालों से निरंजनी अखाड़े के ऐसे ही हालात रहे हैं. दो साल पहले नवम्बर के महीने में भी अखाड़े के एक संत की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. संत का शव उनके कमरे में मिला था. उन्हें गोली लगी थी. उनकी हथेली में पिस्टल फंसी थी और पास में ही खोखे बरामद किये गये थे.

नरेंद्र गिरी की मौत के साथ ही लोगों को दो साल पहले हुए निरंजनी अखाड़े के संत आशीष गिरी की मौत की याद ताजा हो गई है. आशीष गिरी का शव निरंजनी अखाड़े में ही 17 नवम्बर 2019 को बरामद हुआ था. उनकी मौत को लेकर तब नरेंद्र गिरी के शिष्य आनंद ने कई गंभीर सवाल भी खड़े किये थे. तब आनंद गिरी ने कहा था कि जमीनी विवाद को लेकर आशीष ​गिरी की हत्या की गई है. इसकी जांच सीबीआई से करने की भी मांग की गई थी. चौकाने वाली बात ये है कि आशीष गिरी की लाश बरामद होने के कई दिनों बाद तक इस मामले में कोई मुकदमा प्रयागराज में दर्ज नहीं किया गया था.

आनंद गिरी और गिरी के बीच रिश्ते पिछले कुछ सालों से तल्ख रहे हैं. आनंद गिरी दिवंगत नरेंद्र गिरी के शिष्य थे. दोनों के बीच तल्खी तब चरम पर पहुंच गई थी. तब आनंद गिरी को अखाड़े से निकाल दिया था. अभी हाल में ही आनंद गिरी ने नरेंद्र गिरी से पैर छूकर माफी मांगी थी, जिसके बाद उन्हें माफ कर दिया गया था. अब सुसाइड नोट सामने आया है उसमें नरेंद्र गिरी ने आनंद गिरी को ही मौत का जिम्मेदार ठहराया है. बता दें कि निरंजनी अखाड़े के पास प्रयागराज जिले में बहुत जमीनें हैं. जमीनों की बिक्री को लेकर अकसर अखाड़े में विवाद के सुर उठते रहे हैं.

UP Election 2022: वोट बैंक को मैनेज करने में जुटी बीजेपी, जाटों के बाद अब गुर्जरों को साधने की कोशिश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राजा मिहिर भोज की मूर्ति का करेंगे अनावरण

UP Political News: अलीगढ़ में जाट राजा महेन्द्र प्रताप सिंह के नाम पर विश्वविद्यालय का शिलान्यास कर जहां जाट वोट बैंक को अपने पाले में लाने की कोशिश हुई, अब वहीं गुर्जरों को साधने की कोशिश है.

SHARE THIS:

लखनऊ. जैसे-जैसे यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे राजनीतिक दलों का वोट मैनेजमेंट भी दिखने लगा है. कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन से परेशान बीजेपी ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों को साधने के लिए नया रास्ता अख्तियार कर लिया है. अलीगढ़ में जाट राजा महेन्द्र प्रताप सिंह के नाम पर विश्वविद्यालय का शिलान्यास कर जहां जाट वोट बैंक को अपने पाले में लाने की कोशिश हुई, अब वहीं गुर्जरों को साधने की कोशिश है.

दरअसल, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के नोएडा के दादरी मे गुर्जर सम्राट मिहिर भोज के 12 फुट की प्रतिमा का अनावरण सीएम योगी आदित्यनाथ से कराने की तैयारी है.यह प्रतिमा सम्राट मिहिर भोज के नाम पर बने पीजी कॉलेज में लगी है. दो साल पहले ये प्रतिमा तैयार की गयी थी, पर कोरोना की वजह से अनावरण नहीं हो पाया था.

बीजेपी का नया दांव
वरिष्ठ पत्रकार अनिल भारद्वाज कहते हैं कि ये बीजेपी का नया दांव है. सीएम योगी आदित्यनाथ जब खुद मूर्ति का अनावरण करेंगे तो गुर्जर समाज में एक संदेश जाएगा जो कि बड़ा वोक बैंक है. और बीजेपी संदेशों की राजनीति में माहिर हैं. गौरतलब है कि राजा मिहिर भोज को धर्मरक्षक राजा के तौर पर देखा जाता है और गुर्जर उनको अपना पूर्वज मानते हैं.

22 सितंबर को मुख्यमंत्री कर सकते हैं मूर्ति का अनावरण
दरअसल, किसान आंदोलन के बाद से पश्चिमी यूपी का सियासी समीकरण गड़बड़ा गया है, जिसको दुरुस्त करने के लिए बीजेपी के दिग्गज रात दिन एक किए हुए हैं. इसी के तहत ये भी तैयारी की गई है. कहा जा रहा है कि 22 सितंबर को सीएम मिहिर भोज की मूर्ति का अनावरण कर सकते हैं. विपक्षियों का मानना है कि मूर्ति का अनावरण गलत नहीं है, लेकिन सवाल बीजेपी के समय को लेकर जरूर उठता है.

Mahant Narendra Giri Death: आनंद गिरी का बड़ा बयान, कहा- गुरुजी कभी आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई

आनंद गिरी का आरोप है कि महंत नरेंद्र गिरी को मारकर मुझे फंसाने की साजिश है.

Mahant Narendra Giri Death: आनंद गिरी ने कहा है कि गुरुजी कभी आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है. उन्होंने कुछ अधिकारियों पर ही गंभीर आरोप लगाकर साजिश करने की बात कही है. आनंद गिरी ने कहा कि आईजी स्वयं इसमें संदिग्ध हैं.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) का शव संदिग्ध परिस्थिति में मिलने के बाद शोक के बाद कई सवाल खड़े हो गए हैं. पु​लिस ने उनके शिष्य आनंद गिरी पर शिकंजा कसना शुरू किया है. उन्हें हरिद्वार में हिरासत में लिया गया है. वहीं आनंद गिरी ने कहा है कि गुरुजी कभी आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है. उन्होंने कुछ अधिकारियों पर ही गंभीर आरोप लगाकर साजिश करने की बात कही है. आनंद गिरी ने कहा कि आईजी स्वयं इसमें संदिग्ध हैं. आईजी लगातार नरेन्द्र गिरी के संपर्क में रहते थे.

आनंद गिरी का आरोप है कि मठ और मंदिर का पैसा हड़पने वालों ने महंत जी की हत्या की. इस साजिश में मठ के कई बड़े नाम शामिल हो सकते हैं. करोड़ों का खेल हैं. इसमें एक सिपाही अजय सिंह भी है. यही लोग उनकी हत्या कर सकते हैं. आनंद गिरी का आरोप है कि इस घटना में पुलिस के अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं.

आनंद गिरी का आरोप है कि महंत नरेंद्र गिरी को मारकर मुझे फंसाने की साजिश है. इसमें पुलिस के बड़े अधिकारी ही शामिल हैं. मैं जांच की मांग करता हूं. उनके खिलाफ बहुत बड़ी साजिश की गई है. उन्होंने आरोप लगाया कि मनीष शुक्ला जिनकी उन्होंने शादी महंत नरेंद्र गिरी ने कराई थी. उसे पांच करोड़ का मकान दिया. इसके आलावा अभिषेक मिश्र भी इस मामले में शामिल हो सकते हैं, जिनकी जांच होनी चाहिए.

वो कभी आत्महत्या नहीं कर सकते
संदेह के घेरे में आए आनंद गिरी ने आरोप लगाया कि आईजी स्वयं इसमें संदिग्ध हैं. आईजी लगातार उनके संपर्क में रहते थे. आईजी क्लोजली इस विषय को वॉच कर रहे थे और उनके साथ पारिवारिक संबंध थे. यह पूरी तरह से जांच का विषय है. उनके खिलाफ बहुत बड़ा षड्यंत्र रचा जा रहा है. मुझे फंसा कर इस केस को रफा दफा करने की कोशिश की जा रही है. यही षड्यंत्र है. एक तीर से दो निशाने करने के लिए चालबाज लोग साजिश कर रहे हैं. महंत नरेंद्र गिरी के शव के पास एक सुसाइड नोट मिला है. इस सुसाइड नोट में तीन लोगों के नाम दिए गए हैं. इसमें आद्या तिवारी, संदीप तिवारी और आनंद गिरी के नाम शामिल हैं. इसके सामने आने के बाद पुलिस ने इन लोगों की ओर जांच शुरू कर दी है. इसी के बाद आनंद गिरी को हरिद्वार में हिरासत में लिया गया है.

‘मेरा उनसे नहीं मठ की जमीन को लेकर विवाद था’:आनंद गिरी
नरेन्द्र गिरी की रहस्यमय परिस्थिति में मौत के बाद आनंद गिरी बताया, ‘अभी मैं हरिद्वार में हूं, कल प्रयागराज पहुंचकर देखूंगा क्या सच है.’ आनंद गिरी ने कहा ‘हमें अलग इसलिए किया गया, ताकि एक का काम तमाम हो सके. नरेंद्र गिरी से विवादों पर आनंद गिरी ने कहा कि ‘मेरा उनसे नहीं मठ की जमीन को लेकर विवाद था.’ आनंद गिरी ने कहा- ‘शक के दायरे में कई लोग हैं, उन्होंने ही नरेंद्र गिरी को मेरे खिलाफ किया.’ इसके साथ ही आनंद ​गिरी ने उनकी मौत पर कुछ बड़े लोगों और एक पुलिस के अधिकारी की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं.

आनंद गिरी पर रहे संगीन आरोप
संत आनंद गिरी पर दो अलग-अलग मौकों पर दो महिलाओं के साथ मारपीट का आरोप लगा था. आरोप के मुताबिक उन्हें दो अवसरों पर हिंदू प्रार्थना के लिए अपने घरों में आमंत्रित किया गया था. जहां 2016 में उन्होंने अपने घर के बेडरूम में एक 29 वर्षीय महिला के साथ कथित तौर पर मारपीट की. इसके बाद 2018 में, गिरि ने लाउंज रूम में 34 वर्षीय एक महिला के साथ कथित तौर पर मारपीट की.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज