बाबरी विध्वंस केस: CBI कोर्ट में कल मौजूद नहीं रहेंगी उमा भारती, ये है वजह

CBI कोर्ट में कल मौजूद नहीं रहेंगी उमा भारती (file photo)
CBI कोर्ट में कल मौजूद नहीं रहेंगी उमा भारती (file photo)

बीजेपी की वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) को चिट्ठी लिखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 8:39 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. बाबरी विध्वंस मामले (Babri Demolition Case) में 30 सितंबर 2020 दिन को सीबीआई (CBI) के विशेष न्यायाधीश अयोध्या प्रकरण लखनऊ अपना निर्णय सुनाएंगे. इस दौरान कोर्ट में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की फायरब्रांड नेत्री उमा भारती को भी उपस्थित रहना था, लेकिन अब वह कोर्ट में मौजूद नहीं रह सकेंगी. उमा भारती कोरोना वायरस से संक्रमित हैं. उमा भारती के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव आई है.

मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. उमा भारती ने कहा है कि दिनांक 27/09/2020 की शाम को वन्दे मातरम् कुंज पहुंचने पर जब मुझे कोरोना पॉज़िटिव होने के प्रारम्भिक संकेत पौड़ी जिले के चिकित्सक दल ने दिये तब मैं सबको सतर्क करते हुए तुरंत होम आइसोलेशन में चली गयी.


उन्होंने आगे लिखा, अब मैं एम्स ऋषिकेश में उन्ही के देखरेख में हूं. अभी मुझे 17 दिन और इंतज़ार करना होगा. उन्ही के निर्देशानुसार इसमें से अधिकतम समय मुझे एम्स ऋषिकेश में ही रहना होगा. फिर कुछ समय के लिये बाहरी संपर्क करने से पहले होम आयसोलशन करना होगा. उमा भारती कहा है कि आगे की स्थिति की जानकारी दूंगी.





जेल जाऊंगी, लेकिन जमानत नहीं लूंगी

इससे पहले सोमवार को फैसले को लेकर बीजेपी की वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी भावनात्मक रूप से 26 सितंबर को लिखी गई है, जिसमें कहा गया है कि 30 सितंबर को सीबीआई की विशेष अदालत मे मुझे फैसला सुनने के लिए पेश होना है. मै कानून को वेद, अदालत को मंदिर और जज को भगवान मानती हूं. इसलिए अदालत का हर फैसला मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद होगा.

उन्होंने आगे लिखा, मैं नहीं जानती फैसला क्या होगा किंतु मैं अयोध्या पर जमानत नहीं लूंगी. जमानत लेने से आंदोलन मे भागीदारी की गरिमा कलंकित होगी. ऐसे हालातों में आप नई टीम में रख पाते हैं कि नहीं इसपर विचार कर लीजिए. यह मैं आपके विवेक पर छोड़ती हूं. पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने अपने पत्र में कहा है कि मैं हमेशा कहती आयी हूं कि अयोध्या के लिए मुझे फांसी भी मंजूर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज