Home /News /uttar-pradesh /

'PM तो बेटी की तरह मानते हैं', बहू-बेटी वाले बयान पर बोलीं संघमित्रा मौर्य, कहा- पिता जी SP में चले गए हैं तो...

'PM तो बेटी की तरह मानते हैं', बहू-बेटी वाले बयान पर बोलीं संघमित्रा मौर्य, कहा- पिता जी SP में चले गए हैं तो...

भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य (फाइल फोटो)

भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य (फाइल फोटो)

BJP MP Sanghmitra Maurya News: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh Chunav) में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) से पहले सियासत गर्म है. योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद अब इस बात की भी चर्चा होने लगी है कि क्या उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य (Sanghmitra Maurya) भी पाला बदलेंगी? इन अटकलों पर बदायूं से भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य ने विराम लगा दिया है और कहा कि पिता जी सपा में चले गये हैं, तो जरूरी नहीं कि मैं भी चली जाऊं. देश और प्रदेश की राजनीति में बहुत अंतर होता है. मैं उनकी बेटी होने के नाते उनके साथ खड़ी रहूंगी और जहां राजनीति की बात होगी मैं हमेशा अपनी पार्टी के साथ खड़ी रहूंगी. इस तरह से संघमित्रा मौर्य ने इशारा कर दिया कि वह भाजपा का दामन नहीं छोड़ने वाली हैं.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh Chunav) में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) से पहले सियासत गर्म है. योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद अब इस बात की भी चर्चा होने लगी है कि क्या उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य (Sanghmitra Maurya) भी पाला बदलेंगी? क्या उन्होंने अपर्णा यादव के बहाने बहू-बेटी वाले बयान से भाजपा पर हमला बोला? इन अटकलों पर बदायूं से भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य ने विराम लगा दिया है और कहा कि पिता जी सपा में चले गये हैं, तो जरूरी नहीं कि मैं भी चली जाऊं. देश और प्रदेश की राजनीति में बहुत अंतर होता है. मैं उनकी बेटी होने के नाते उनके साथ खड़ी रहूंगी और जहां राजनीति की बात होगी मैं हमेशा अपनी पार्टी के साथ खड़ी रहूंगी. इस तरह से संघमित्रा मौर्य ने इशारा कर दिया कि वह भाजपा का दामन नहीं छोड़ने वाली हैं.

उत्तर प्रदेश चुनाव से ठीक पहेल स्वामी प्रसाद मौर्य के समाजवादी पार्टी में जाने पर जारी सियासी बहस के बीच बेटी संघमित्रा मौर्य ने कहा कि किसी नेता का बच्चा अगर क्षेत्र में लगा रहता है और जनता की सेवा करता है तो उसको देखना चाहिए. पिताजी ने अपने पुत्र के लिये कभी टिकट नहीं मांगा, वह कभी अपने और हम लोगों के लिए नहीं लड़े बल्कि वो हर उस व्यक्ति के लिए लड़े हैं जो पायदान के आखिरी पड़ाव पर खड़ा है. वह मेरे पिता के साथ-साथ राजनीतिक गुरु भी हैं.

सियासी अटकलबाजियों पर विराम लगाते हुए बदायूं से भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य ने कहा कि पिता जी सपा में चले गये हैं तो जरूरी नहीं कि मैं भी चली जाऊं. देश और प्रदेश की राजनीति में बहुत अंतर होता है. मैं 2022 क्यों..मैं हमेशा बीजेपी मे रहने की बात करती हूं. सांसद होते हुए जो जिम्मेदारी दी जाती है उसे बखूबी निभाती हूं और आगे भी निभाऊंगी.

अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने के बाद दिए अपने बयान पर उन्होंने कहा कि मैंने उन सलाहकारों पर निशाना साधा, जिनके पास कोई काम नहीं है और घर बैठे सोशल मीडिया से निशाना साधते हैं. पिता जाता है तो बेटी पर वार होता है, बहू आती है तो सम्मान, सभी बहन-बेटीयों को एक समान देखना चाहिए. बीजेपी में बेटी-बहू में अंतर नहीं करता है. पीएम तो बेटी की तरह मानते हैं. हम लोगों के साथ बीजेपी में बेटी-बहू का अंतर नहीं होता है. यह वे लोग करते हैं, जिनके पास काम नहीं है. मैं उनकी बेटी होने के नाते उनके साथ खड़ी रहूंगी और जहां राजनीति की बात होगी मैं हमेशा अपनी पार्टी के साथ खड़ी रहूंगी.

बता दें कि बीते दिनों संघमित्रा ने कहा था कि स्वामी प्रसाद मौर्य हमेशा पिछड़ों के नेता रहे हैं और यह भारी जन समर्थन उसका गवाह है. बदायूं की सांसद ने आगे कहा कि पिताजी का फैसला उनका निजी फैसला है, लेकिन राजनीति में हमेशा संभावनाएं होती हैं. बीजेपी सांसद ने कहा था कि अभी मैं 2024 तक भारतीय जनता पार्टी की सांसद हूं, आगे क्या होगा कहा नहीं जा सकता.

Tags: Assembly elections, Sanghmitra Maurya, Uttar Pradesh Assembly Elections, ​​Uttar Pradesh News

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर