Home /News /uttar-pradesh /

बीजेपी ने सपा के घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया

बीजेपी ने सपा के घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया

भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी द्वारा जारी घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया है.

भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी द्वारा जारी घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया है.

भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी द्वारा जारी घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया है.

भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी द्वारा जारी घोषणा पत्र को थोथे वादों का पुलिन्दा करार दिया है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि पहले बेरोजगारी भत्ता, लैपटॉप और टैबलेट का सब्जबाग दिखाकर सत्ता हासिल की, अब सैफई कुनबा एक बार फिर स्मार्टफोन के जरिए यूपी के युवाओं को लालच देकर सत्ता पाने की जुगत में है.

सीएम अखिलेश ने घोषणा पत्र जारी करते हुए भाषण में स्मार्टफोन पंजीकरण को वोट से जोड़ा लेकिन शायद उन्हें मालूम नहीं है कि यूपी का युवा स्वाभिमानी है. वह लालच में आने वाला नहीं है. युवा अभी तक नौकारियों की नीलामी नही भूला है.

उन्होंने कहा कि राज्य लोक सेवा आयोग के अनिल यादव के बचाव में सरकार सुप्रीमकोर्ट गई. युवाओं को अखिलेश राज की बर्बर पुलिस ने लाठियों से पीटा. कुपोषण और तंगहाली से जूझ रहे प्रदेश के लोगों के लिए ठोस काम न कर पाने वाली सरकार ने वही एक बार फिर पेन्शन का सब्जबाग दिखाया है.

उन्होंने कहा कि अखिलेश जिस पेंशन को आगे देने की बात कर रहे है, उस पेन्शन का वर्तमान हाल क्या है? पहले ही 45 लाख और 55 लाख को पेशन नहीं दे पा रहे है. तो आगे कैसे देंगे?

किसानों की आत्महत्या पर चुप बैठी रही सपा सरकार

पांच साल पहले के घोषणापत्र में हर किसान को बीज, खाद और सिंचाई के साथ फसल की खरीद की गारंटी देने वाली सपा सरकार न तो गन्ना किसानों का भुगतान कर सकी और न ही खरीद केन्द्र संचालित कर सकी. यही नहीं किसानों की आत्महत्या पर सरकार चुप बैठी रही.

कुपोषण के लिए घी और मिल्क पाउडर की बात करने वाली सपा सरकार ने पिछले घोषणा पत्र में खाद्यान्न, वस्त्र और आवास का वायदा किया था, अगर यह वायदा पूरा हो जाता तो घी और मिल्क पाउडर की जरूरत ही नहीं होती.

सपा ने पिछले घोषणा पत्र में किसी भी किसान की आत्महत्या पर बीडीओ, एसडीएम, और जिलाधिकारी पर कार्यवाही की बात की थी. अब अखिलेश यादव बताए कि प्रदेश में हजारों किसानो की आत्महत्या पर कितनों के खिलाफ कार्यवाही हुई?

सपा सरकार बताए कितने भ्रष्टाचारियों को प्राइज पोस्टिंग दी गई?

भाजपा अध्यक्ष ने सवाल पूछा कि सरकार बताए कि कितने भ्रष्टाचारियों को पदोन्नति देकर प्राइज पोस्टिंग दी? यह भी बताएं कि लखनऊ जिलाधिकारी और लखनऊ विकास प्रधिकरण पर केवल एक ही अधिकारी के पास क्यों रहा? यह भ्रष्टाचार नही तो किस लिए? जनता सपा के घोषणा पत्र पर विश्वास नहीं करती.
श्री मौर्य ने कहा कि मायावती के पत्थर घोटालों की बात करने वाले अखिलेश यादव ने अब तक यह नही बताया कि घोटालबाजों के खिलाफ उन्होंने क्या किया.

अखिलेश अगर सपाई झण्डाबरदारों को लूट की खुली छूट न देते तो व्यापारी और महिलाओं की सुरक्षा का झूठा वादा नहीं करना पड़ता. अखिलेश कह रहे है कि वह अच्छे दिन ढूंढ़ रहे है. वास्तव में देश के सभी भ्रष्टाचारी और दो-तीन नम्बर के काम करने वाले ही अच्छे दिन ढूंढ़ रहे हैं.

सपा का घोषणा पत्र कमोवेश पिछले घोषणा पत्र की पुनरावृत्ति है

केन्द्र ने यूपी के सभी गांव-मजरों तक बिजली पहुुंचाने के लिए धन दिया. केन्द्र सरकार की दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत हर गांव, मजरे टोले तक मोदी जी ने बिजली पहुंचाने की योजना दी लेकिन सपा सरकार ने सेंधमारी की. अब 24 घंटे बिजली देने की बात पर कौन यकीन करेगा?

मौर्य ने कहा कि सपा का घोषणा पत्र कमोवेश पिछले घोषणा पत्र की पुनरावृत्ति है इससे यह बात स्पष्ट है कि जब पिछले घोषणा पर अमल नहीं किया गया तो आगे क्या करेंगे? बेरोजगारी भत्ता की बात न करके अखिलेश यादव ने पिछले घोषणा पत्र की बात क्यों नहीं की और यह भी नहीं बताया कि लैपटाप योजना बीच में ही क्यों छोड़ दी गई.
राजनीतिक गंदगी के आदी हो चुके लोग ही स्वच्छ भारत अभियान स्वस्थ श्रेष्ठ भारत और अन्तराष्ट्रीय क्षितिज पर मान्य हुए योग की माखौल उड़ा सकते हैं. मौर्य ने सवाल सवाल पूछे कि अखिलेश यादव का बयान कि हमारी बेटी योजना के अन्तर्गत समाजवादी पार्टी सरकार मुसलमान लड़कियों को 30 हजार रूपये अनुदान दे रही है. लेकिन इस योजना का लाभ गरीब हिन्दू लड़कियों को क्यों नहीं मिलेगा.

Tags: BJP, Keshav prasad maurya, लखनऊ

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर