लाइव टीवी

यूपी में 15 दिसंबर तक हो जाएगा BJP प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव, पर्यवेक्षक नियुक्त

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 5, 2019, 1:56 PM IST
यूपी में 15 दिसंबर तक हो जाएगा BJP प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव, पर्यवेक्षक नियुक्त
15 दिसंबर तक यूपी प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव तय (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बीजेपी (BJP) प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव के लिए राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) और बिहार सरकार (Government of Bihar) के मंत्री मंगल पांडेय (Minister Mangal Pandey) को पर्यवेक्षक (observer) नियुक्त किया गया है.

  • Share this:
लखनऊ. बीजेपी संगठन (BJP organization) के चुनाव प्रक्रिया (Election process) में अब बारी प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव की है. बता दें कि किसी भी प्रदेश में 50 फ़ीसदी जिलाध्यक्षों के नाम की घोषणा हो जाती है तो प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव हो सकता है. बीजेपी (BJP) ने 94 में से 59 जिलाध्यक्षों की घोषणा दी है ऐसे में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव तय है. जिसे देखते हुए केंद्रीय नेतृत्व (Central leadership) ने पर्यवेक्षक (observer) नियुक्त कर दिया है.

इस बारे में जानकारी देते हुए बीजेपी महामंत्री विजय बहादुर पाठक (Vijay Bahadur Pathak) ने बताया कि केंद्रीय नेतृत्व ने प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव के लिए पर्यवेक्षक की नियुक्ति कर दी है. राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) और बिहार सरकार के मंत्री मंगल पांडेय (Minister Mangal Pandey) को यूपी के चुनाव के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. उन्होंने बताया कि चुनाव एक रुटीन प्रक्रिया है और बीजेपी के संविधान के अनुसार चुनाव होता है.

चुनाव में किसकी-किसकी हिस्सेदारी
प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव राज्य परिषद करती है. राज्य परिषद में जिला इकाइयों द्वारा निर्वाचित सदस्य, राज्य में पार्टी के सभी विधायकों द्वारा अपने में से चुने गए 10 प्रतिशत सदस्य परंतु 10 से कम नहीं, राज्य से पार्टी के संसद सदस्यों का 10 प्रतिशत परंतु 3 से कम नहीं, राज्य से राष्ट्रीय परिषद के सभी सदस्य, प्रदेश के सभी भूतपूर्व प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश कार्यकारिणी के सभी सदस्य, क्षेत्रीय समिति के सभी पदाधिकारी, राज्य विधानसभा और विधान परिषद में पार्टी विधायक दल के नेता, राज्य के सभी जिलों के अध्यक्ष तथा महामंत्री महानगर परिषद नगर पालिका जिला परिषद तथा ब्लॉक समिति में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा नामित सदस्य जिसकी संख्या अधिक से अधिक 26 हो. संबद्ध मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष तथा प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक. प्रत्येक जिले से निर्वाचित मंडल समिति के सदस्यों द्वारा प्रदेश परिषद के लिए इतनी संख्या में सदस्य निर्वाचित होंगे जितनी कि वहां की विधानसभा की सीटें हो इनके वोटों से ही प्रदेश अध्यक्ष तय होता है. देश भर में जब पचास फीसदी राज्यों में जब चुनाव हो जाएगा तो राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा.

ये भी पढ़ें - पूर्वांचल में निवेश की अपार संभावनाएं: सीएम योगी आदित्यनाथ


सपा MLC सुनील साजन का आरोप- उन्नाव रेप पीड़िता को जलाने वालों की गाड़ी पर लगे हैं BJP के झंडे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2019, 1:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर