लाइव टीवी

CAA समर्थन को लेकर यूपी में 6 रैलियां करेगी बीजेपी, अमित शाह लखनऊ में होंगे शामिल

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 15, 2020, 5:50 PM IST
CAA समर्थन को लेकर यूपी में 6 रैलियां करेगी बीजेपी, अमित शाह लखनऊ में होंगे शामिल
लखनऊ में 21 जनवरी को अमित शाह सीएए के समर्थन में रैली को संबोधित करेंगे.

भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janata Party) की तरफ से ये भी प्रयास है कि रैली में ज्यादा से ज्यादा संख्या में मुस्लिम समाज के लोगों को बुलाया जाए ताकि अमित शाह को सुनकर नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर उनकी गलतफहमी दूर हो सके.

  • Share this:
लखनऊ. नागरिक संशोधन कानून (CAA) पर छिड़े विवाद के बीच लोगों में फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है. इसी क्रम में पूरे प्रदेश में 6 बड़ी रैलियों का आयोजन किया जा रहा है. लेकिन सभी की नजरें 21 जनवरी को गृह मंत्री अमित शाह की राजधानी में होने वाली रैली पर है. जिसको सफल बनाने के लिए बीजेपी की यूपी इकाई ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है.

लखनऊ में होने वाली रैली को संबोधित करने गृह मंत्री अमित शाह आ रहे हैं, लिहाजा तैयारियों को लेकर लगातार बैठकों का दौर भी जारी है. पिछले दिनों रैली प्रभारी और प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर ने अवध क्षेत्र के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर तैयारियों का खाका खींचा. इस बैठक में लखनऊ के जिला और महानगर अध्यक्ष भी मौजूद रहे. रैली में भारी संख्या में भीड़ जुटाने के लिए क्षेत्रीय पदाधिकारियों को एक-एक जिले से भारी संख्या में लाने का टारगेट दिया गया है.

पत्रकारों से बातचीत में प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर ने कहा कि राजधानी में हो रही अमित शाह की रैली से पूरे प्रदेश में बड़ा संदेश जाएगा. लिहाजा रैली को भव्य रूप देने में कार्यकर्ताओं ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है.

अमित शाह की रैली को लेकर क्या होगा खास

रैली में लोगों की भारी भीड़ को देखते हुए माना जा रहा है कि रैली स्थल लखनऊ के बंगला बाजार स्थित कथा पार्क (स्मृति उपवन के बगल) को ही चुना जाएगा. लखनऊ जिले को जोड़ने वाले हर मार्ग पर स्वागत द्वार बनाये जाएंगे. जहां पर रैली में दूसरे जिलों से आने वाले लोगो का स्वागत किया जाएगा.

इसके अलावा एयरपोर्ट से रैली स्थल तक जा रहे सभी मार्गों पर नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बैनर और होर्डिंग्स लगाए जाएंगे. यहां तक पार्टी की तरफ से ये भी प्रयास है कि रैली में ज्यादा से ज्यादा संख्या में मुस्लिम समाज के लोगों को बुलाया जाए ताकि अमित शाह को सुनकर नागरिकता संशोधन कानून को लेकर उनकी गलतफहमी दूर हो सके.

अलग-अलग धर्मो के लोगों को रैली में आमंत्रित करने लिए बोला गयाइसके लिए बीजेपी के अनुषांगिक संगठनों को भी अलग-अलग धर्मो के लोगों को रैली में आमंत्रित करने लिए बोला गया है, ताकि इस कानून को लेकर वो भी अपनी सर्वस्वीकार्यता में अपनी भूमिका निभा सके. रैली प्रभारी जेपीएस राठौर तैयारियों की समीक्षा करते हुए विपक्ष पर भी जोरदार हमला बोला है. राठौर ने कहा कि विपक्षी पार्टियां अपने एजेंडे के लिए पूरे प्रदेश में माहौल को खराब करना चाहती हैं लेकिन मुस्लिमों को इस CAA या NRC से घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि ये सिर्फ नागरिकता देने के लिए नागरिकता लेने के लिए नहीं है.

ये भी पढ़ें:

मायावती के बयान पर योगी सरकार का पलटवार- इच्छाशक्ति थी तो...

हरदोई: गर्भवती महिला की कर दी नसबंदी, मचा हड़कंप, जांच के आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 4:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर