Home /News /uttar-pradesh /

मायावती बोलीं- RSS के एजेंट हैं दिग्विजय, कांग्रेस से किसी कीमत पर नहीं होगा गठबंधन

मायावती बोलीं- RSS के एजेंट हैं दिग्विजय, कांग्रेस से किसी कीमत पर नहीं होगा गठबंधन

(फाइल फोटो- मायावती)

(फाइल फोटो- मायावती)

बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि सोनिया और राहुल गांधी दिल से कांग्रेस का गठबंधन चाहते हैं.

    बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर गठबंधन में बाधा डालने का आरोप लगाया है. उन्होंने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सोनिया और राहुल गांधी दिल से कांग्रेस का गठबंधन चाहते हैं, लेकिन कांग्रेस में मौजूद दिग्विजय सिंह जैसे नेता गठबंधन में अड़ंगा डाल रहे हैं.

    बसपा सुप्रीमो ने कांग्रेस की मंशा पर ही सवाल उठाते हुए कहा कि उसे लगातार बीजेपी के हाथों हार मिल रही है. इसके बावजूद कांग्रेस पार्टी गठबंधन को लेकर गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि बीजेपी जैसे साम्प्रदायिक पार्टी को सत्ता से दूर रखने के लिए हमेशा से कांग्रेस का साथ दिया, लेकिन बदले में हमेशा उसने छुरा घोपा हैं. यही वजह है कि बसपा ने दक्षिण भारत में जनता दल सेक्युलर और हरियाणा में इंडियन लोक दल से गठबंधन किया, लेकिन मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस से गठबंधन नहीं हो सका.

    ...तो इसलिए छत्तीसगढ़ में मायावती ने नहीं पकड़ा कांग्रेस का हाथ

    मायावती ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अहंकार में डूबी हुई है. कांग्रेस का रवैया अड़ियल रहा है. आने वाले चुनाव में कांग्रेस को जनता सबक सिखाएगी. कांग्रेस पार्टी ने बदले की भावना से हमेशा छुरा घोपने का काम किया है.

    बसपा सुप्रीमो ने कहा कि अब बसपा कांग्रेस के साथ मिलकर कभी भी चुनाव नहीं लड़ेगी. मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बसपा अकेले या क्षेत्रीय दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी. मायावती ने कहा कि बसपा सर्वसमाज की पार्टी है और बाबा साहेब के बताए रास्ते पर चलती है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी दलितों के सम्मान के साथ समझौता नहीं कर सकती.

    मायावती ने कहा, "बसपा से गठबंधन करने से पहले यह ज़रूर याद रखना चाहिए कि यह पार्टी अनेक संघर्षों से निकली है. बाबा साहब के किसी अनुयायी के खून में यह नहीं हो सकता कि किसी के भी हाथ का खिलौना आसानी से बन जाए."

    इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'कांग्रेस पार्टी आज चुनाव में मुसलमानों को उम्मीदवार बनाने से डर सकती है, लेकिन बसपा ऐसा नहीं करती.

    बसपा सुप्रीमो ने कहा है कि सीबीआई से डरने वाली बात बेबुनियाद है. उन्होंने कहा, "व्यापक जनहित और देशहीत को ध्यान में रखते हुए ही हमारी पार्टी ने अहंकारी सरकार को आगे सत्ता में आने से अपनी असहमति ज़ाहिर की है."

    मायावती ने कांग्रेस की नीतियों पर भी सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कांग्रेस खुद में सुधार लाने के लिए ही तैयार नहीं है. कांग्रेस ने मुझे ताज कॉरिडोर मामले में फंसाया. कांग्रेस बीजेपी के साथ मिलकर बसपा को समाप्त करने का षड्यंत्र रच रही है.

    इस मामले पर दिग्विजय सिंह से बातचीत करने पर उन्होंने साफ किया, 'मैं हमेशा से कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन का समर्थन किया है.' वहीं मायावती के आरोपों पर उन्होंने कहा कि वह मायावती का हमेशा से करते हैं और उनके आरोपों पर बसपा सुप्रीमो से ही सवाल किया जाना चाहिए.

    यह भी पढ़ें:

    गठबंधन पर बसपा सुप्रीमो मायावती के रुख से कैसे निपटेगी कांग्रेस?

    आखिर क्यों भीम आर्मी के चंद्रशेखर को 'भतीजा' नहीं मान रहीं मायावती?

    मुलायम छोड़ अखिलेश सहित पूरे यादव कुनबे के खिलाफ प्रत्याशी उतारेंगे शिवपाल

    सामने आया समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का झंडा, शिवपाल के साथ मुलायम की भी तस्वीर

    सीएम योगी के शहर गोरखपुर में धर्म परिवर्तन से मचा हड़कंप, पांच गिरफ्तार

     

    Tags: BSP, Congress, Digvijay singh, Mayawati, UPA

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर