Home /News /uttar-pradesh /

इस बार नहीं होगा तामझाम, सादगी से अपना बर्थडे मनाएंगी मायावती

इस बार नहीं होगा तामझाम, सादगी से अपना बर्थडे मनाएंगी मायावती

file- photo

file- photo

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार को बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती अपना 61वां जन्मदिन पूरी सादगी से मनाएंगी.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार को बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती अपना 61वां जन्मदिन पूरी सादगी से मनाएंगी.

    हर साल की तरह इस बार कोई तामझाम नहीं होगा. मायावती ने जन्मदिन के मौके पर 11.30 बजे अपने आवास पर प्रेस कान्फ्रेंस बुलाई है, जिससे वो यूपी की जनता को अपना संदेश दे सके.

    बता दें कि नोटबंदी और विधानसभा चुनाव को लेकर जारी आचार संहिता के कारण मायावती ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश दिया है कि सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में कार्यकर्ता अपना काम करें और साधारण केक काट कर जन्मदिन मनाएं.

    वैसे तो हर साल मायावती अपना जन्मदिन धूमधाम से मनाती रही हैं. बसपा उन्हें जन्मदिन पर नगद उपहार दिया करती थी. यह रकम करोड़ों रुपए में पहुंच जाया करती थी, लेकिन नोटबंदी के कारण इस बार ऐसा नहीं हो पाएगा.

    डिजिटल मीडिया की शुरुआत
    15 जनवरी को पार्टी अध्यक्ष के जन्मदिन के मौके पर बहुजन समाज पार्टी सोशल मीडिया पर डिजिटल कैंपेन के लिए ऑडियो-वीडियो सीडी और पोस्टरों को तैयार किया गया है. इन सीडी और पोस्टरों में बताया गया है कि कैसे मायावती एक अच्छी शासक हैं.

    सबसे कम आयु में दलित सीएम
    मायावती 1995 में पहली बार यूपी की सीएम बनीं. वो देश की पहली कम आयु की दलित सीएम थीं. पहले 3 बार सीएम बनने में बीजेपी का बड़ा योगदान था. साल 1995, साल 1997 और 2002 में वो बीजेपी की मदद से सीएम बनीं, लेकिन 1997 को छोड़ दोनों बार बीजेपी ने उनसे समर्थन वापस ले लिया था.

    कल्याण सिंह ने समर्थन लिया वापस
    साल 1997 में बीजेपी के साथ उनका समझौता छह-छह महीने के मुख्यमंत्री वाला था. मायावती ने अपना छह महीना तो पूरा कर लिया, लेकिन बीजेपी की ओर से कल्याण सिंह के सीएम बनने के एक महीने बाद ही उन्होंने समर्थन वापस ले लिया.

    2007 में पूर्ण बहुमत की सरकार
    साल 2007 में हुए विधानसभा चुनाव में बसपा बहुमत में आई और मायावती पूरे 5 साल सीएम रहीं, लेकिन 2012 में ​हुए विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी हार गई. अभी वो राज्यसभा की सदस्य हैं.

    Tags: Mayawati

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर