Assembly Banner 2021

लखनऊ शूटआउट पर बोलीं मायावती, सरकार कर रही है 'ब्राह्मणों' का शोषण

मायावती ने अपनी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा को मृतक विवेक तिवारी की पत्‍नी से मिलने के लिए उनके आवास पर भेजा था. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि इस दुख की घड़ी में बहुजन समाज पार्टी मृतक परिवार के साथ खड़ी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2018, 2:58 PM IST
  • Share this:
लखनऊ शूटआउट के शिकार एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के मामले में बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके योगी सरकार पर ब्राह्मणों के साथ शोषण करने का आरोप लगाया. मायावती ने कहा कि इस घटना में आरोपी पुलिसकर्मियों के साथ दोषी और लापरवाह अफसरों पर भी सरकार कार्रवाई करे. उन्होंने कहा कि इसलिए आज हमने अपने पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा को उनके आवास पर भेजा था. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि इस दुख की घड़ी में बहुजन समाज पार्टी मृतक परिवार के साथ खड़ी है. उन्होंने कहा कि सरकार के मंत्री मामले को दबाने में लगे हैं.

ये भी पढ़ें: विवेक तिवारी हत्या मामला: यूपी पुलिस के दावों की खुली पोल, सामने आया CCTV फुटेज

इससे पहले आज मृतक विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी. उनके साथ सूबे के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा भी मौजूद रहे. बता दें कि रविवार को ही सीएम योगी ने कल्पना तिवारी से फोन पर बात की थी. सीएम योगी ने उनसे बात कर हर संभव मदद का भरोसा दिया था. योगी ने फोन पर कहा उन्हें कहा था कि डिप्टी सीएम के जरिए वह किसी भी तरह की मदद मांग सकती हैं.



ये भी पढ़ें: विवेक तिवारी की मौत एक बानगी, जानिए कब-कब लगा यूपी में 'खाकी' के दामन पर दाग!
डिप्टी सीएम से मुलाकात के बाद ही कल्पना तिवारी ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने से इनकार कर दिया था. वह चाहती हैं कि एसआईटी ही इसकी जांच करे. गौरतलब है कि एफआईआर को लेकर उठे सवालों के बाद अब पुलिस ने मृतक विवेक की पत्नी की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया है. सबसे खास बात है कि विवेक तिवारी हत्याकांड मामले में सोमवार को सीसीटीवी फुटेज सामने आया है, जिसने यूपी पुलिस के दावों की पोल खोलकर रख दी है.

ये भी पढ़ें: लखनऊ शूटआउट: विवेक तिवारी का हुआ अंतिम संस्कार, बड़े भाई ने दी मुखाग्नि

घटना के बाद आरोपी पुलिसकर्मियों ने बताया था कि विवेक तिवारी की गाड़ी खड़ी थी. जबकि तस्वीरों में साफ है कि गाड़ी चलती पाई गई. आरोपी प्रशांत चौधरी ने दावा किया था कि विवेक ने उसके ऊपर तीन बार गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की, लेकिन तस्वीरें बताती हैं कि गाड़ी पहले चल रही थी. यानी मौके पर मृतक विवेक के साथ मौजूद उसकी महिला का दावा सही पाया गया है.

ये भी पढ़ें:

विवेक तिवारी शूटआउट: अखिलेश यादव ने कहा- सरकार खुद करवा रही फर्जी एनकाउंटर

खराब बस को धक्का लगा रहे थे यात्री, पीछे से आए ट्रक ने कुचला, 6 की मौत

अयोध्या: राममंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में संतों ने शुरू किया आमरण अनशन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज