अपना शहर चुनें

States

मायावती को बैठक से खबर लीक होने का डर, नेताओं से उतरवाए जूते-चप्पल और ताबीज़

बीएसपी सुप्रीमो मायावती पार्टी कार्यकर्ताओं का अभिवादन करते हुए.
बीएसपी सुप्रीमो मायावती पार्टी कार्यकर्ताओं का अभिवादन करते हुए.

बीएसपी सूत्रों का कहना है कि चुनाव के बाद नए सिरे से रणनीति बनाने और बीएसपी में बड़े बदलाव के मद्देनजर किसी भी तरह की कोई जानकारी सार्वजनिक न हो जाए इस बात का खास ध्यान रखा जा रहा है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों के बाद बीएसपी प्रमुख मायावती इस महीने दूसरी बार पार्टी नेताओं से मिल रही हैं. ऐसा माना जा रहा है कि मायावती पार्टी में बड़े बदलाव के बारे में सोच रही हैं. इस बैठक को लेकर अब एक चौंकाने वाली खबर है. लखनऊ में रविवार को हो रही इस बैठक में पार्टी के साधारण कार्यकर्ता से लेकर सांसदों तक को भी मीटिंग में जाने से पहले अपना मोबाइल, बैग यहां तक की गाड़ी की चाबी भी बाहर ही जमा करवाने के आदेश दिए गए हैं. हद उस समय हो गई जब महिलाओं के आभूषण और पुरुषों के जूते-चप्पल यहां तक की ताबीज भी उतरवा लिए गए. इसके लिए खास काउंटर भी बनाया गया है, जहां पर यह सभी सामान जमा करवाना है.

बीएसपी सूत्रों का कहना है कि चुनाव के बाद नए सिरे से रणनीति बनाने और बीएसपी में बड़े बदलाव के मद्देनजर किसी भी तरह की कोई जानकारी सार्वजनिक न हो जाए इस बात का खास ध्यान रखा जा रहा है. यह बैठक में मायावती की लखनऊ स्थित आवास पर चल रही है. ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक में मायावती आने वाले उप चुनावों की रणनीति पर भी चर्चा करेंगी.

बीएसपी की बैठक से पहले नेता मोबाइल काउंटर पर जमा करते हुए.




बीएसपी सुप्रीमो पार्टी को कैसे मजबूत किया जाए और प्रदेश में 12 सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तैयारियों को लेकर भी पदाधिकारियों को विशेष निर्देश देने वाली हैं. बैठक में सभी जिले के पदाधिकारी पहुंच चुके हैं. बीएसपी सुप्रीमो मायावती पार्टी के पदाधिकारियों के साथ लोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन की भी समीक्षा कर रही हैं.
मायावती के लखनऊ स्थित आवास पर हो रही बैठक में बैग जमा करते हुए कार्यकर्ता और नेता


ऐसा कहा जा रहा है कि बीएसपी की इस बैठक में नेताओं के मोबाइल और बैग तो काउंटर पर जमा करा लिए गए हैं. साथ ही कार्यकर्ताओं की घड़ियां भी उतरवा ली गई हैं. महिला कार्यकर्ताओं को भी किसी भी तरह का आभूषण पहन कर बैठक में जाने की इजाजत नहीं है. कई कार्यकर्ताओं के ताबीज की भी जांच की गई है.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर के SKMCH के सीनियर डॉक्टर निलंबित

AES से बच्चों की मौत के सवाल पर अश्वनी चौबे बोले सॉरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज