यूपी उपचुनाव: क्या अकेले चुनाव लड़कर कोई कमाल कर पाएगी BSP? जानिए समीकरण..

उपचुनाव में अकेले चलने की बसपाई रणनीति कितनी कारगर हो पाएगी? सपा के साथ मिलकर लोकसभा में 10 सीटें हासिल करने वाली बसपा विधानसभा उपचुनाव में कितनी कामयाबी हासिल कर पाएगी?

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 5, 2019, 8:58 PM IST
यूपी उपचुनाव: क्या अकेले चुनाव लड़कर कोई कमाल कर पाएगी BSP? जानिए समीकरण..
file photo
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 5, 2019, 8:58 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019 यूपी की राजनीति के लिए ऐतिहासिक था. ऐतिहासिक इसलिए क्योंकि राज्य की दो कट्टर प्रतिद्वंद्वी पार्टियां इस आस में एक हुई थीं कि नतीजे उन्हें दिल्ली की गद्दी तक पहुंचा देंगे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ और अब सपा-बसपा के बीच कड़वाहट की खबरें हर तरफ चल रही हैं. बसपा ने हार की समीक्षा के साथ ही ऐलान कर दिया है कि आगामी उपचुनावों में वो अकेले ही लड़ेगी.

जवाब में सपा की तरफ से भी ऐसा ही ऐलान आ चुका है. लेकिन उपचुनाव में अकेले चलने की बसपाई रणनीति कितनी कारगर हो पाएगी? सपा के साथ मिलकर लोकसभा में 10 सीटें हासिल करने वाली बसपा विधानसभा उपचुनाव में कितनी कामयाबी हासिल कर पाएगी?

सोशल इंजीनियरिंग से हासिल की थी यूपी की सत्ता

अगर राजनीतिक कामयाबी की बात की जाए तो बसपा के लिए साल 2007 का विधानसभा चुनाव ऐतिहासिक है. इस चुनाव में बसपा ने अपने बूते बहुमत का चमत्कारिक आंकड़ा छूकर राज्य में सरकार बनाई थी. उस चुनाव में बसपा की सोशल इंजीनियरिंग पर देशभर में चर्चा हुई थी. उस चुनाव में बसपा को 30.43 प्रतिशत वोट हासिल हुए थे. लेकिन फिर पार्टी का ग्राफ लगातार गिरा है. 2009 में जहां उसके 20 सांसद जीते तो वहीं 2014 में तो खाता भी नहीं खुला. वोट प्रतिशत भी 2009 में 27.42 फीसदी ही रहा. एक के बाद एक पार्टी के कई धुरंधर नेता अलग हुए, जिनकी वजह से राज्य के विभिन्न इलाकों में बसपा की धाक थी.

अगर जातिगत गणित को ध्यान में रखा जाए तो 2007 में जो सोशल इंजीनियरिंग का कमाल पार्टी ने दिखाया था तो वो धीरे-धीरे कमजोर पड़ता गया है. दलितों और पिछड़ा वर्ग में कई जातियों ने उसका साथ छोड़ा है. अगर बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी तो मुस्लिम वोटरों में भी भ्रम बढ़ेगा क्योंकि सपा ने भी सभी सीटों पर लड़ने का ऐलान किया है. हालांकि माना जा रहा है कि चार सीटें ऐसी हैं जहां बसपा दूसरी पार्टियों को परास्त कर सकती है.

जलालपुर सीट 2017 में बसपा के रितेश पांडेय ने जीती थी जो इस बार अंबेडकरनगर से सांसद बन गए हैं. इस सीट पर बसपा मजबूत है. इस सीट के अलावा बलहा, टुंडला और इगलास में पार्टी 2017 के चुनाव में दूसरे नंबर पर रही थी. इन सीटों गणित कुछ ऐसा है...

जलालपुर विधानसभा सीट
Loading...

इस सीट से बसपा विधायक रितेश पांडेय अंबेडकरनगर लोकसभा सीट से जीत हासिल करके सांसद बन गए हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में रितेश पांडेय ने बीजेपी के राजेश सिंह को 13,030 वोटों से शिकस्त दी थी. समाजवादी पार्टी के शंखलाल मांझी तीसरे नंबर पर रहे थे. समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार को 24.56 फीसदी वोट मिले थे.

बलहा विधानसभा सीट (सुरक्षित)

इस सीट से बीजेपी विधायक अक्षयवर लाल गोंड बहराइच लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर सांसद बन गए हैं. बलहा विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. 2017 के विधानसभा चुनाव में अक्षयवर लाल गोंड ने बसपा उम्मीदवार किरण भारती को 46,616 वोटों से शिकस्त दी थी. समाजवादी पार्टी उम्मीदवार बंशीधर बौद्ध तीसरे नंबर पर रहे थे. उन्हें 29,349 (14.75 फीसदी) वोट मिले थे.



टुंडला विधानसभा सीट (सुरक्षित)

इस सीट से बीजेपी विधायक एसपी सिंह बघेल लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बन गए हैं. बघेल ने आगरा लोकसभा सीट से जीत हासिल की है. इसके पहले 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने बसपा के राकेश बाबू को 56,070 वोटों से हराया था. तीसरे नंबर पर बसपा के शिव सिंह चाक रहे थे. उन्हें 22.66 फीसदी वोट हासिल हुए थे.

इगलास विधानसभा सीट

अलीगढ़ जिले में आने वाली इस सीट से बीजेपी विधायक राजवीर दिलेर लोकसभा का चुनाव जीतकर सांसद बन चुके हैं. राजवीर ने हाथरस लोकसभा सीट से जीत हासिल की है. इसके पहले 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने बीएसपी के राजेन्द्र कुमार को 74,800 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी. अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित इस सीट पर आरएलडी उम्मीदवार सुलेखा सिंह तीसरे नंबर पर रही थीं. उन्हें 12.10 फीसदी वोट हासिल हुए थे.

ये भी पढ़ें:

साक्षी महाराज ने जेल में जाकर उन्नाव रेप आरोपी से की मुलाकात

अमरोहा की खुशबू मिर्जा जल्द रखेगी चांद पर कदम

सपा-बसपा से तालमेल करना चाहती है राजभर की पार्टी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 5, 2019, 8:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...