Home /News /uttar-pradesh /

मायावती बोलीं, जिसके राज में मुजफ्फरनगर, मथुरा, दादरी कांड हुए, उसे चुनेंगे!

मायावती बोलीं, जिसके राज में मुजफ्फरनगर, मथुरा, दादरी कांड हुए, उसे चुनेंगे!

बसपा सुप्रीमो ने मायावती ने रविवार को अपने 61वें जन्मदिन के अवसर पर कहा कि चुनाव आचार संहिता के कारण बसपा कार्यकर्ता इस दिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में नहीं मना पा रहे हैं.

बसपा सुप्रीमो ने मायावती ने रविवार को अपने 61वें जन्मदिन के अवसर पर कहा कि चुनाव आचार संहिता के कारण बसपा कार्यकर्ता इस दिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में नहीं मना पा रहे हैं.

बसपा सुप्रीमो ने मायावती ने रविवार को अपने 61वें जन्मदिन के अवसर पर कहा कि चुनाव आचार संहिता के कारण बसपा कार्यकर्ता इस दिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में नहीं मना पा रहे हैं.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    बसपा सुप्रीमो ने मायावती ने रविवार को अपने 61वें जन्मदिन के अवसर पर बीजेपी, सपा और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. पहली बार सीएम अखिलेश यादव पर सीधे हमला करते हुए मायावती ने कहा कि जिसके राज में मुजफ्फरनगर, मथुरा और दादरी जैसे कांड हुए, उसे चुनेंगे.

    उन्होंने कहा कि चुनाव आचार संहिता के कारण बसपा कार्यकर्ता इस दिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में नहीं मना पा रहे हैं. लेकिन जहां चुनाव नहीं हैं, उन राज्यों में नोटबंदी से परेशान जनता को बसपा कार्यकर्ता अपने सामार्थ्य के हिसाब से आर्थिक सहायता पहुंचाएं.

    इस दौरान मायावती ने अपनी किताब मेरे संघर्षमय जीवन और बीएसपी मूवमेंट का सफरनामा का विमोचन भी किया.

    मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कहा कि चुनाव आचार संहिता के कारण बसपा के कार्यकर्ता नोटबंदी से परेशान गरीब, लाचारों का आर्थिक सहायता नहीं पहुंचा पा रहे हैं. जहां चुनाव नहीं हैं, उन राज्यों में बसपा कार्यकर्ता मेरा जन्मदिन जनकल्याण कारी दिवस के रूप में ही मनाएं.

    मायावती ने कहा कि कांग्रेस, बीजेपी व सपा चुनाव घोषित होने के कुछ महीने पहले से ही तमाम हथकंडे अपनाकर जनता का समर्थन लेने की कोशिश में हैं. इनमें आॅक्सीजन पर चल रही कांग्रेस ने रथयात्रा और खाट सभा का आयोजन किया और जनता से तमाम वायदे किए, लेकिन इन्होंने आजादी के बाद से अब तक कोई आश्वासन पूरा नहीं किया.

    उन्होंने केंद्र की बीजेपी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि लोकसभा चुनावी वायदों का एक चौथाई भी पूरा नहीं किया. रोजगार देने, बिजली सस्ती करने, बेघर लोगों को पक्का मकान देने आदि की योजनाएं अभी तक पूरी नहीं हुईं. बीजेपी सपा के साथ मिलकर देशभक्ति, सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर नाटक कर रही है. मायावती ने कहा कि नोटबंदी के 50 से ज्यादा दिन पूरे हुए लेकिन अभी तक हालात देश में सामान्य नहीं हो सके हैं.

    देश के 300 राजनेताओं की हैसियत सार्वजनिक करे केंद्र सरकार: मायावती

    अपने भाई आनंद कुमार के इनकम टैक्स रडार पर आने की बात पर मायावती ने कहा कि चुनाव के नजदीक ही केंद्र को मेरे परिवार के कारोबार में गड़बड़ी नजर आ रही है. ये ढाई साल से क्या कर रहे थे. ये लोग अपनी खुद की पार्टी और दूसरी पार्टियों के परिजनों के खिलाफ दूर-दूर तक कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं, इससे इनकी दलित विरोधी मानसिकता झलकती है. बीजेपी को देश की सभी राजनीतिक पार्टियों की कम से कम 300 नेताओं के आर्थिक स्थिति का पूरा ब्यौरा सामने रखना चाहिए. ये भी बताएं कि इन नेताओं और इनके परिवारवालों की राजनीति में आने से पहले क्या हैसियत थी.

    समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हुए मायावती ने कहा कि सपा एक परिवारवादी, एक विशेष समुदाय और एक विशेष क्षेत्र की पार्टी है. अभी तक सपा गुंडों, बदमाशों की पार्टी ही मानती जाती रही है. सपा सरकार के दागी चेहरे, अखिलेश के नाम पर वोट मांग रहे हैं. कांग्रेस भी गठबंधन कर अखिलेश के नाम पर ही वोट मांगने की कोशिश में है. मायावती ने कहा कि जिसके राज में मुजफ्फरनगर दंगे, मथुरा और दादरी कांड हुए हैं, क्या जनता उसे चुनेगी.

    वाजपेयी सरकार में क्यों नहीं बना दिया उत्तम प्रदेश : मायावती

    उन्होंने कहा कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए बीजेपी ने मर्यादा की हद पार की. यूपी में वह बीएसपी की मजबूती को देखकर हैरान है. हर जनसभा में बीजेपी के लोग कहते हैं कि उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए यूपी में बीजेपी सरकार जरूरी है. वाजपेयी सरकार के दौरान 1997 से लेकर 2002 तक यूपी में बीजेपी सरकार थी, तब उत्तम प्रदेश क्यों नहीं बनाया

    सपा, कांग्रेस नहीं सिर्फ बसपा ही रोक सकती है बीजेपी को: मायावती

    सपा और कांग्रेस की खराब, दयनीय हालत है, दोनों बीजेपी को सत्ता में आने से नहीं रोक सकती हैं. अखिलेश और शिवपाल खेमे एक दूसरे को हराने में लगे हैं, परंपरागत वोट बंटने से बीजेपी को लाभ मिलेगा. बीएसपी का परंपरागत वोट बंटने वाला नहीं है, बीएसपी को ही मिलने वाला है. सिर्फ बसपा ही बीजेपी को सत्ता में आने से रोक सकती है.

    मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी घोषणाओं में नहीं, काम करने में विश्वास रखती है. यूपी में बसपा की सरकार बनी तो यहां बेरोजगारी भत्ता नहीं, स्थायी रोजगार उपलब्ध कराए जाएंगे. यही नहीं जरूरत मंदों को लैपटॉप, मोबाइल की जगह सीधे नकद आर्थिक मदद दी जाएगी. उन्होंने कहा कि अब स्मारक, संग्रहालय नहीं बनेंगे, क्योंकि ये सभी काम पूरे हो चुके हैं. बसपा अब यूपी में जनता की सुरक्षा और बिजनेस के मौके देने का काम करेगी.

    Tags: BSP, Mayawati, लखनऊ

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर